Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    जानिए क्यों मेट्रो ट्रैक पर नहीं डाले जाते हैं पत्थर?

    इस लेख में हम आपको बताएंगे कि क्यों मेट्रो ट्रैक पर पत्थर नहीं डाले जाते हैं। 
    author-profile
    Updated at - 2022-11-15,16:17 IST
    Next
    Article
    why are stones not laid on metro tracks hindi

    आजकल ज्यादातर लोग मेट्रो से सफर करते हैं। अगर आपने कभी भी मेट्रो से सफर किया होगा तो आपने मेट्रो ट्रैक को जरूर देखा होगा। इस ट्रैक पर रेलवे ट्रैक की तरह छोटी-छोटी गिट्टियां या पत्थर नहीं बिछे होते हैं लेकिन आखिर ऐसा क्यों होता है इसके बारे में हम आपको इस लेख में बताएंगे। 

    क्यों होते हैं रेलवे पटरी पर पत्थर?

     why metro tracks not have stones

    आपको बता दें कि रेलवे ट्रैक पर बिछे हुए पत्थरों को बैलेस्ट कहा जाता है। जब कोई भी ट्रेन अपने ट्रैक पर चलती है तो तेज आवाज और ट्रैक पर कंपन होती है। आपको बता दें कि जो ट्रैक पर जो छोटे-छोटे पत्थर डाले जाते हैं वह  इस आवाज को कम करने के लिए डाले होते हैं। ट्रैक पर अलग-अलग तरह की दो लेयर होती हैं जिसमें एक मिट्टी की लेयर होती है और इसके साधारण जमीन होती है। ट्रैक के नीचे की पट्टी को स्लीपर कहते हैं। आपको बता दें कि 

    भारतीय ट्रेन का वजन लगभग कई लाख किलो तक होता है जिसे सिर्फ पटरी नहीं संभाल सकती है। इतनी भारी ट्रेन के वजन को संभालने में लोहे के बने ट्रैक के साथ पत्थरों को डाला जाता है। ये पत्थर वजन को संभालने में सहयोग करते हैं। आपको बता दें कि अगर ट्रैक पर पत्थरों को नहीं बिछाया जाएगा तो ट्रैक पर जंगली घास और पेड़-पौधों उग आएंगे जिससे ट्रेन को ट्रैक पर दौड़ने पर कई दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। इस वजह से भी पटरी पर पत्थर होते है।

    इसे जरूर पढ़ें- कुछ ऐसी दिखती है भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन, जानें टिकट और सफर से जुड़ी खास बातें

    क्यों मेट्रो ट्रैक पर पत्थर नहीं डाले जाते हैं?

    आपको बता दें कि मेट्रो ट्रैक बहुत व्यस्त होते हैं जिसके कारण इन ट्रैक्स को ब्लॉक नहीं किया जा सकता है। आपने देखा होगा कि कुछ मेट्रो ट्रैक जमीन के अंदर भी होते हैं वहीं कुछ ट्रैक्स जमीन के ऊपर बने होते हैं। इन दोनों जगहों पर पत्थरों वाले ट्रैक को मेंटेन करना सम्भव नहीं हो पाता है।

    इसके साथ ही मेट्रो ट्रेन लगभग हर 5 मिनट के अंतराल के बीच में आती रहता है। ऐसे में इन ट्रैक्स को ब्लॉक करना लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है। इस कारण से इन ट्रैक पर पत्थरों का यूज नहीं किया जाता है। आपको बता दें कि मेट्रो ट्रैक को बनाने में खर्चा भी थोड़ा अधिक होता है। 

    इसे भी पढ़ें: IRCTC Luggage Rules 2022 : 'लगेज फी' को लेकर रेलवे की नई गाइडलाइन हुई जारी

    तो यह थी जानकारी मेट्रो ट्रैक से जुड़ी हुई। उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

     

    image credit- freepik 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।