काजोल की फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे अपने समय की ट्रेंडसेटर फिल्मों में मानी जाती है। अपने शुरुआती दिनों की सबसे ज्यादा कामयाब हुई इस फिल्म में काजोल की इनोसेंस और शाहरुख  खान के साथ उनके रोमांस को देखकर हर युवा का दिल धड़का था, हर घर-परिवार के लोगों को यह कहानी अपने घर के इर्दगिर्द बुनी हुई दिखाई देती थी। बच्चों से लेकर बड़ों तक को यह फिल्म काफी पसंद आई थी। कई-कई लोगों ने तो इसे बार-बार देखा और अपनी खूबसूरत यादों को इसी फिल्म के सहारे जिया। मुंबई का मराठा मंदिर सिनेमा हॉल इसी की जीती-जागती मिसाल है, जहां आज भी दिन के 11.30 बजे इस फिल्म के शो चलाए जाते हैं। फिल्म के रिलीज होने के बाद 1009 हफ्तों तक लगातार इस फिल्म के शो चलाने का रिकॉर्ड इस सिनेमा हॉल के नाम है। काजोल को ग्रेंड सक्सेस देने वाली यह फिल्म उनके करियर का टर्निंग पॉइंट था, जहां से वह इंडस्ट्री में पूरी तरह स्थापित हो गईं और उनका दबदबा कायम हो गया। लेकिन इतनी बड़ी कामयाबी के बावजूद इस फिल्म को उनके पति और उनके प्यार अजय देवगन ने नहीं देखा। आखिर वह क्या वजह हो सकती है कि अजय देवगन ने काजोल की बरसों पुरानी सबसे हिट फिल्म अब तक नहीं देखी? 

'अजय देवगन से पूछिए सवाल'

ajay devgan didnt see ddlj inside

हेलीकॉप्टर ईला के प्रमोशन के दौरान जब काजोल से पूछा गया कि क्या अजय देवगन ने डीडीएलजे फिल्म देखी है तो उन्होंने कहा कि अभी तक अजय ने यह फिल्म नहीं देखी है। जब इसकी वजह पूछी गई तो उन्हें खुद भी इसका सही-सही जवाब मालूम नहीं था। सो उन्होंने सवाल पूछने वालों से ही रिक्वेस्ट कर दी कि वे खुद अजय देवगन से पूछें कि उन्होंने यह फिल्म अब तक क्यों नहीं देखी। अगर यह कहा जाए कि इस फिल्म को देखने के लिए अजय को वक्त नहीं मिला, तो यह बात सही नहीं होगी क्योंकि इतने सालों में भी अगर काजोल की बेहतरीन फिल्म को देखने के लिए वह वक्त ना निकाल पाएं, ऐसा मुमकिन नहीं है। 

Read more : काजोल को मिलती है सबसे बड़ी खुशी, जब नीसा और युग कहते है, 'मुझे अपनी मां पर गर्व है'

कहीं शाहरुख खान के साथ हिट रोमांटिक जोड़ी होने की जलन तो नहीं

शाहरुख खान और काजोल फिल्म बाजीगर में साथ नजर आए थे। इस फिल्म में इनकी कैमिस्ट्री दर्शकों को पसंद आई थी, इस फिल्म के बाद डीडीएलजे में इनकी जोड़ी को और भी बड़े मुकाम तक पहुंचा दिया गया। पर्दे पर सिमरन और राज का प्यार देखकर हर किसी को यही लगने लगा जैसे कि ये किरदार नहीं निभा रहे हों बल्कि रियल लाइफ में एक-दूसरे को दिलो जान से चाहते हों। इन फिल्मों को करने के दौरान शाहरुख और काजोल अच्छे दोस्त भी बन गए और इनकी दोस्ती आज भी कायम है। दोनों को बेस्ट फ्रेंड्स भी करार दिया जाता है। कुछ-कुछ होता है,कभी खुशी कभी गम, दिलवाले, माई नेम इज खान, इन सभी फिल्मों में इनकी पेयरिंग को काफी पसंद किया गया है। लेकिन शायद इस चीज को काजोल के पति अजय देवगन स्वीकार नहीं कर पाए। पत्नी के लिए पजेसिव होना बहुत स्वाभाविक बात है, अजय काजोल से बेइंतेहां प्यार करते हैं और उनकी काफी केयर भी करते हैं। शायद उनका यही प्यार शाहरुख के साथ काजोल की पेयरिंग को लेकर जेलसी का कारण हो सकता है।

ajay devgan didnt see ddlj inside

क्या दुश्मन हैं शाहरुख खान और अजय देवगन?

यह बात किसी से छिपी नहीं है कि अजय देवगन और शाहरुख खान अच्छे दोस्त नहीं हैं। दोनों एक दूसरे के साथ मिलने और पार्टियों में साथ में दिखने से कतराते हैं। काजोल ने एक बार इंटरव्यू में कहा था, 'चूंकि मैं शाहरुख की अच्छी दोस्त हूं, इसका यह मतलब नहीं है कि अजय के साथ भी उनकी दोस्ती अच्छी होगी। शाहरुख खान मेरे बेस्ट फ्रेंड हैं, लेकिन वैसे ही केमिस्ट्री अजय और शाहरुख के बीच भी हो, जरूरी नहीं है। शाहरुख खान और अजय देवगन दोस्त नहीं है, यह बात मैं पहले भी कह चुकी हूं। दोनों साथ में पार्टी नहीं करते और ना ही फोटो खिंचाना पसंद करते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि दोनों दुश्मन है। दोनों ने कभी एक दूसरे के लिए कोई गलत बात नहीं कही और ना ही वे एक-दूसरे से नफरत करते हैं। ऐसा होना कोई अनहोनी बात नहीं है। इसीलिए इसे बिल्कुल सामान्य तरीके से लिया जाना चाहिए।'

रिलेशनशिप निभाना काजोल से सीखिए

काजोल ने जिस तरह से शाहरुख खान के साथ अपनी दोस्ती निभाई है और जिस तरह से अब तक अपने पति का साथ दिया है, वह काबिले तारीफ है। दोस्ती और प्यार दोनों अपनी-अपनी जगह काफी अहमियत रखते हैं, यह बात काजोल बखूबी जानती हैं और इसीलिए वह शाहरुख खान और अजय देवगन की सेंसिबिलिटीज का बखूबी ध्यान रखती हैं। अपने बच्चों को प्यार और बेहतर परवरिश देने के लिए काजोल कमिटेड नजर आती हैं, वहीं वह अपनी दोस्ती और पति के साथ अच्छी रिलेशनशिप मेंटेन करने को लेकर भी पूरी तरह संजीदा हैं। अगर यही समझदारी आज की स्मार्ट महिलाएं दिखाएं तो वे यकीनन अपनी जिंदगी में खुश रह सकती हैं।

  • Saudamini Pandey
  • Her Zindagi Editorial