कई बार हम बार-बार बीमार पड़ते हैं। बहुत जल्दी बातों पर चिढ़ने लगते हैं। आपका शरीर और मन अक्सर थका-थका महसूस करता है। आप कुछ भी करें, लेकिन हमेशा आप परेशानियों से घिरे रहते हैं। अगर यह सब आपके साथ होता है, तो इसका मतलब है कि आपका 'औरा' साफ नहीं है और आपको उसे जल्द से जल्द ठीक करने की जरूरत है।

अब आप सोचेंगे कि औरा क्या होता है, तो वास्तु एक्सपर्ट डॉ. शुभ्रा गुप्ता अहूजा बताती हैं, 'आपकी आभा वह ऊर्जा क्षेत्र है जो आपके शरीर को घेरे रहती है। आपके आसपास घटने वाली परिस्थितियों यह ग्रहण करती है। जब आप अपने आस-पास के लोगों के साथ ऊर्जा का आदान-प्रदान करते हैं तो आपकी आभा तनाव का अनुभव कर सकती है, यही कारण है कि आपको समय-समय पर अपने ऑरिक क्षेत्र को साफ करने की आवश्यकता होती है।'

अगर आपको भी ऐसा ही महसूस होता है, तो आपको अपने मन और शरीर को पूरी तरह से साफ करने की जरूरत है और यह कैसे होगा, वो भी एक्सपर्ट से जानें। 

नींबू पानी से करें दिन की शुरुआत

drink lemon water daily

जब आप सुबह उठते हैं, तो अपने दिन की शुरुआत नींबू पानी से करें। नींबू और नमक जैसी चीजें नेगेटिव एनर्जी को बाहर करती हैं। इसलिए सुबह नींबू पानी पीने से आपके शरीर की सारी गंदगी, टॉक्सिन और नेगेटिविटी भी बाहर होती है। यह शरीर को कई तरह से लाभ पहुंचाता है, इसलिए रोज सुबह नींबू पानी पीना चाहिए।

expert quote on aura cleansing

प्रकृति के साथ बिताएं एक घंटा

spend time in nature daily

प्रकृति हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत असर डालती है। इससे आपका मूड बेहतर बनता है और आपको दिनभर के कार्यों के लिए ऊर्जा मिलती है। प्रकृति में समय बिताना संज्ञानात्मक लाभ और मनोदशा में सुधार, मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक कल्याण दोनों से जुड़ा हुआ है। कोशिश करें कि आप रोज सुबह कम से कम एक घंटा प्रकृति के बीच या धूप में बैठें।

इसे भी पढ़ें :पॉजिटिव एनर्जी के लिए लिविंग रूम की सजावट में इन वास्तु टिप्स का रखें ध्यान

सोने से पहले सुने सूदिंग साउंड

music before sleep

क्या आपको पता है कि म्यूजिक इमोशनल हेल्थ, परफॉर्मेंस और नींद के लिए एक अविश्वसनीय चिकित्सीय उपकरण है। इसे प्राचीन समय में भी हीलिंग थेरेपी की तरह उपयोग किया जाता था। संगीत का शरीर और दिमाग दोनों पर शक्तिशाली और विविध प्रभाव पड़ता है। यह ब्रीदिंग और हार्ट रेट को प्रभावित करता है, हार्मोन को रिलीज करता है और इम्यून सिस्टम को उत्तेजित करता है। साथ ही मस्तिष्क के संज्ञानात्मक और भावनात्मक केंद्रों को बढ़ाता है। 

सप्ताह में 5 बार ध्यान लगाएं

meditate daily

मेडिटेशन आपके नेगेटिव इमोशन्स को कम करने में बहुत मदद करता है। नियमित मेडिटेशन करने से आपको मेंटल क्लियरिटी मिलती है। तनाव और चिंता की समस्या में आपको राहत मिलती है और आप रिलैक्स फील करते हैं।सप्ताह में कम से कम 5 बार रोज सुबह सबसे पहले 15 मिनट ध्यान करें।

इसे भी पढ़ें :ये वास्तु टिप्स अपनाएंगी, तो घर में बनी रहेंगी खुशियां

Recommended Video

नहाकर तरोताजा फील करें

नहाने के बाद आप क्यों तरोताजा महसूस करते हैं ? आप एक सूदिंग बाथ लेकर भी अपनी आभा को साफ कर सकते हैं। यह एक प्रक्रिया है, जिसमें सॉल्ट्स, एसेंशियल ऑयल और कुछ हर्ब्स के साथ एक रिलैक्सिंग बाथ लिया जाता है। एक बाथटब को भरें और उसमें यूकेलिप्टस या लैवेंडर ऑयल डालें। साथ ही रोज पेटल हिमालयन सॉल्ट डालकर उसमें 10 मिनट बैठ जाएं। इससे भी आपका मन हल्का होगा और आपकी आभा साफ होगी।

अगर आपको भी अक्सर अच्छा फील नहीं होता, तो आप इन तरीकों को अपनाकर अपनी आभा साफ कर सकते हैं। हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। इसे लाइक और शेयर करें और ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: freepik