कहा जाता है कि प्यार की कोई सीमा नहीं होती है। जब दो प्यार करने वाले अपनी जिद पर आ जाएं तो किसी से भी लड़ सकते हैं। प्यार से जुड़ी न जाने कितनी दास्तान आपने सुनी होंगी और कितनों के प्यार का संघर्ष देखा होगा।

लेकिन आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसी आणखी प्यार की कहानी जो एक लड़के और लड़की के बीच की नहीं है बल्कि दो लड़कियों के बीच के प्यार की है जिन्होंने अपने प्यार के लिए दुनिया से लड़ाई की और सबको पीछे छोड़कर एक दूसरे का हाथ थामा और सगाई कर ली। आइए जानें कौन हैं महाराष्ट्र के नागपुर की ये दो लड़कियां और क्या है उनके प्यार की कहानी। 

नागपुर की दो लड़कियों ने आपस में की सगाई  

nagpur women wedding

महाराष्ट्र के नागपुर शहर में जल्द ही एक अनोखी शादी होने वाली है। समाज और लोग कुछ भी कहें लेकिन नागपुर की दो लड़कियों ने सगाई कर ली है। हमारे समाज में समलैंगिकता को अलग तरह से देखा जाता है, लेकिन इसके बावजूद नागपुर की दो डॉक्टर सुरभि मित्रा और पारोमिता मुखर्जी ने सगाई कर ली है और उन्होंने इस सगाई का नाम 'कमिटमेंट रिंग सेरेमनी' रखा। दोनों जल्द ही शादी करेंगी और ये समाज के लिए एक नया उदाहरण है। दोनों ने अपनी शादी को 'सिविल यूनियन' नाम देने की ठानी है। 

क्या करती हैं दोनों लड़कियां 

आपको बता दें कि सुरभि मित्रा एक डॉक्टर हैं और परोमिता मुखर्जी एक बड़ी कंपनी में काम करती हैं। हाल ही में दोनों ने नागपुर के एक रिजॉर्ट में सगाई की है । दोनों के इस फैसले में उनके परिवार वालों ने भी उनका साथ दिया। आने वाले साल में दोनों शादी के बंधन में बंधने जा रही हैं। हाल ही में पारोमिता मुखर्जी ने ANI को दिए एक इंटरव्यू में बताया कि, ''हम इस रिश्ते को 'लाइफटाइम कमिटेड' कहते हैं और हम गोवा में अपनी शादी की योजना बना रहे हैं।'

इसे भी पढ़ें:किसी दुल्हन ने पहनी शेरवानी तो कोई नजर आई ग्रे बालों में, कुछ इस तरह बदल रहा है वेडिंग ट्रेंड

दोनों ने कही शादी को लेकर ये बात 

homosexual wedding

अपनी समलैंगिक शादी को लेकर परोमिता मुखर्जी एक इंटरव्यू में कहती हैं कि उनके पिता साल 2013 से सेक्सुअल ओरिएंटेशन के बारे में जानते थे लेकिन जब उन्होंने अपनी मां को यह बात बताई तब वो चौक गयीं। लेकिन बाद में वह मान गई क्योंकि वह चाहती हैं कि वो खुश रहें। वहीं सुरभि मित्रा ने बताया कि, 'मेरे सेक्शुअल ओरिएंटेशन का मेरे परिवार की तरफ से कभी कोई विरोध नहीं हुआ। दरअसल, जब उन्होंने अपने माता-पिता को बताया कि वो खुश हैं तो उनके माता-पिता भी इस बात के लिए मान गए।

दोनों ने भविष्य के लिए बनाई हैं योजनाएं 

आपको बता दें कि इस रिश्ते की शुरुआत में पारोमिता मुखर्जी के परिवार ने इसका विरोध किया था। परोमिता मूल रूप से कोलकाता की हैं और सुरभि नागपुर की रहने वाली हैं। दोनों ने अपने भविष्य के सपनों को सजाना भी शुरू कर दिया। परोमिता और सुरभि ने पहले ही योजना बना ली है कि उनका घर कैसा होगा, परिवार कैसा होगा, परिवार के सदस्य कौन होंगे, उनका एक बेटा कैसे होगा। दोनों परिवार उच्च शिक्षित हैं। इसलिए उन्होंने अपने परिवार को समझाने में ज्यादा समय नहीं लगाया। दोनों के एक कॉमन फ्रेंड ने भी इस रिश्ते को स्वीकृति दी है।

इसे भी पढ़ें:किसी ने एक-दूसरे पर मारी वरमाला, तो किसी का शादी का सेहरा हुआ वायरल, देखें मजेदार वेडिंग ब्लूपर्स

समाज चाहे कुछ भी कहे लेकिन प्यार अपनी जगह बना ही लेता है। कुछ ऐसा ही उदाहरण इन दोनों लड़कियों ने समाज के सामने रखा है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:twitter.com@ani