• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

टॉयलेट के फ्लश पर क्यों होते हैं दो बटन

आपने टॉयलेट के फ्लश बटन पर देखा होगा तो आपको 2 बटन नजर आए होंगे लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यह दोनों बटन किस लिए होते हैं? 
author-profile
Published -10 Aug 2022, 13:01 ISTUpdated -27 Aug 2022, 15:01 IST
Next
Article
how to use flush two buttons

टॉयलेट का इस्तेमाल हम रोज करते हैं फिर चाहे वो आपका घर हो या ऑफिस। हमारी रोजाना की जिंदगी में टॉयलेट का भी बेहद महत्वपूर्ण रोल है। समय के साथ तकनीक ने खूब तरक्की की है।आजकल नए तरह के टॉयलेट भी मार्केट में आ गए है जिनमें मार्डन फिनिशिंग के साथ कई एसेसरीज भी होती हैं।

लेकिन आपने अगर कभी ध्यान दिया होगा तो आपको टॉयलेट के फ्लश बटन पर दो तरह के बटन देखे होंगे।पर इन दोनों बटन का साइज अलग-अलग क्यों है इसके पीछे भी एक खास वजह है। यह वजह आज हम आपको इस लेख में बताएंगे।  

dual toilet flush

किसने दिया था यह आइडिया - who invented buttons on toilet flush

  • यह ड्यूल फ्लश का कॉन्सेप्ट अमेरिका के इंडस्ट्रियलिस्ट डिजाइनर विक्टर पापानेक का था।
  • उन्होंने साल 1976 में अपनी किताब 'डिजाइन फॉर द रियल वर्ल्ड' में इसका जिक्र भी किया था।

इसे जरूर पढ़ें-क्या आप जानते हैं कि टॉयलेट पॉट में पाउडर डालना आपके कितने काम आ सकता है? जानें बाथरूम हैक्स

क्यों होते है दो बटन-why do toilet flushes have two buttons

  • जिन टॉयलेट फ्लश में दो बटन होते है उन सभी टॉयलेट फ्लश का या ड्यूल फ्लश टॉयलेट का कॉन्सेप्ट दो अलग-अलग बटनों से है जो आमतौर पर आपने कई टॉयलेट में देखा होगा।
  •  इसमें से एक छोटा बटन होता है और एक बड़ा बटन होता है। इन दोनों ही बटनों को अलग-अलग एग्जिट वाल्व होता है और पानी का लेवल भी दोनों का अलग ही होता है। 

why are there  buttons on toilet flush

  • आपको बता दें कि इन दोनों बटनों में से बड़े वाले बटन से करीब छह से नौ लीटर तक पानी रिलीज होता है वहीं छोटे वाले बटन में साढ़े तीन से चार लीटर तक का पानी रिलीज होता है।
  • फ्लश में लगा बड़ा वाला सॉलिड वेस्ट को फ्लश करने में काम आता है और छोटा वाला बटन लिक्विड वेस्ट को फ्लश करने में काम आता है।
  • यह बात आप ध्यान रखें की जब भी आप टॉयलेट में यूरिन पास करने जाएं तो केवल छोटा वाला बटन ही दबाना होगा और वहीं दूसरा बटन यानि बड़ा साइज वाला बटन तब यूज करें।
  • जब आप टॉयलेट में सॉलिड वेस्ट फ्लश करने जाएं इससे पानी की काफी बचत होती और आपका पानी का बिल भी कम आएगा। और आप इस तरह से करीब 20 हजार लीटर पानी की बचत कर पाएंगे। 

इसे जरूर पढ़ें-टॉयलेट करने के नियमों के बारे में क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

इस देश ने सबसे पहले यूज किया ड्यूल फ्लश -which country has first dual flush toilets 

use of toilet flush buttons

  • इस टॉयलेट फ्लश को लागू करने वाला ऑस्ट्रेलिया पहला देश बना था।
  • ऑस्ट्रेलिया साल 1980 में इस कॉन्सेप्ट के टॉयलेट फ्लश का इस्तेमाल करना शुरू किया था।
  • फिर जब इस देश में पानी की काफी बचत हुई तो उसके बाद से यही तरीका पूरी दुनिया ने अपना लिया कई जगह यह आइडिया लाया गया ताकि पानी की बचत ज्यादा से ज्यादा हो सके।
तो यह था टॉयलेट फ्लश में दो बटन होने का कारण। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।
 
 
Image credit-freepik
 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।