कुछ हफ्ते पहले टीवी इंडस्ट्री के मशहूर एक्टर नकुल मेहता नकुल मेहता कोविड पॉजिटिव हो गए थे, जिसके बाद उन्होंने खुद को क्वारंटाइन कर लिया था। लेकिन अब उनकी पत्नी जानकी पारेख ने उनके और उनके 11 महीने के बेटे सूफी के पॉजिटीव होने के बारे में बताया है।

जानकी ने सोशल मीडिया पोस्ट में शेयर किया है जब उनका बेटा कोविड पॉजिटिव हुआ तब इस कठिन समय से उन्हें अकेले ही निपटना पड़ा, वह अपने बेटे को आधी रात में अस्पताल ले गई। बेटे सूफी की तबीयत बिगड़ने पर जानकी ने कैसे मुसीबत का सामना किया आइए उनकी पोस्ट से जानें। 

नकुल मेहता और जानकी पारिख का बेटा कोविड पॉज़िटिव 

nakul and sufi

नकुल मेहता और उनकी पत्नी जानकी पारेख टीवी इंडस्ट्री के सबसे फेमस कपल्स में से एक हैं। नकुल और जानकी का एक बेटा भी है, जिसका नाम सूफी है। दोनों अपने सोशल मीडिया हैंडल पर बेटे के साथ बिताए खूबसूरत लम्हों की तस्वीर शेयर करते हैं। 3 जनवरी 2022 को जानकी ने अपने इंस्टा हैंडल से एक पोस्ट शेयर किया है, जिसमें उन्होंने उन समस्याओं के बारे में विस्तार से बताया है, जब उनके बेटे को तेज बुखार हुआ था और उन्हें सूफी को अकेले अस्पताल लेकर जाना पड़ा था। इसके साथ ही, उन्होंने ये भी बताया कि, बुखार उतरने के बाद वो तीन दिन तक अस्पताल में कैसे रहीं। 

इसे भी पढ़ें:जॉन अब्राहम के बाद अब एकता कपूर सहित ये बॉलीवुड सेलेब्स हुए कोविड पॉजिटिव

जानकी ने शेयर किया बेटे और अपने स्ट्रगल का इमोशनल पोस्ट 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Jankee Parekh Mehta (@jank_ee)

अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर जानकी ने अपने बेटे के साथ तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा, “मुझे हमेशा से पता था कि, कोविड हममें से अधिकांश लोगों को जल्द या बाद में होगा, लेकिन वास्तव में पिछले हफ्ते जो कुछ हुआ, वह कुछ ऐसा था, जिसकी मैंने कल्पना नहीं की थी। आप में से अधिकांश लोग जानते होंगे कि, मेरे पति 2 सप्ताह पहले कोरोना पॉजिटिव हुए थे। मुझमें भी कुछ दिनों बाद लक्षण पाए गए थे। उस समय मैं यह महसूस नहीं कर पा रही थी कि, आने वाले सप्ताह में मैं जो अनुभव करने वाली थी, वह मेरे जीवन के सबसे कठिन दिन होंगे। मेरे पॉजिटिव होने के एक दिन बाद सूफी को बुखार होने लगा और वो ठीक ही नहीं हो हो रहा था। हम उसे आधी रात में अस्पताल ले गए जब उसका बुखार 104.2 को पार कर गया और उसके बाद मेरे बच्चे के साथ कोविड आईसीयू में बहुत कठिन दिन थे। मेरा फाइटर बेटा इन सब से गुजरा। एम्बुलेंस में अस्पताल ले जाने से लेकर उसके शरीर के तापमान को कम करने के लिए 3 आईवीएस, रक्त परीक्षण, आरटीपीसीआर, पानी की बोतलें, एंटीबायोटिक्स और इंजेक्शन लगाने तक। कभी-कभी, मुझे आश्चर्य होता है कि इस छोटे से इंसान को इन सबका सामना करने की इतनी ताकत कैसे मिली? 3 दिन बाद उसका बुखार आखिरकार कम हुआ। उस दौरान मैं अस्पताल में 24/7 सूफी की अकेले देखभाल करने के बाद थकान महसूस करती थी। जिसका एक बड़ा कारण मेरा कोविड पॉजिटिव होना था। 

इसे भी पढ़ें:कोविड-19 के मरीज़ों को आगे चलकर हो सकते हैं ये Symptoms, रिसर्च में सामने आईं कुछ नई बातें

जानकी ने नैनी का किया शुक्रिया 

jankee parikh with sufi

जानकी ने इंस्टा पोस्ट पर यह भी लिखा कि वो अपनी नैनी की हमेशा आभारी रहेंगी। जिन्होंने पहले दो दिनों के बाद कोविड आईसीयू में कदम रखने और सूफी की देखभाल करने के लिए सहमति व्यक्त की क्योंकि उनके शरीर ने लगभग हार मान ली थी। जानकी ने सभी डॉक्टर्स के लिए भी आभार व्यक्त किया। 

बच्चों को ज्यादा सावधानी की जरूरत 

जानकी अपनी इंस्टा पोस्ट पर आगे लिखती हैं कि हमारे बच्चे (बच्चों को ऐसे रखें सुरक्षित) मास्क नहीं पहन सकते हैं या टीकाकरण नहीं करवा सकते हैं, इसलिए हमें और अधिक सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि हम उनके पास घर वापस आ रहे हैं। इस स्ट्रगल को शेयर करने का विचार यह सुनिश्चित करना है कि, मैं इस जागरूकता को बढ़ा सकूं, भले ही यह सिर्फ एक माता-पिता के लिए ही क्यों न हो। साथ ही सूफी आज 11 महीने के हो गए हैं। अपने लचीलेपन और उस नासमझ मुस्कान से हमें प्रेरित करने के लिए मेरे सुपरहीरो का धन्यवाद, जो हर तूफान की तुलना में इतना छोटा लगता है।”

वास्तव में जानकी पारिख का ये इमोशनल पोस्ट हम सभी को कोरोना के लिए सजग रहने और बच्चों की ज्यादा देखभाल करने के लिए प्रेरित करता है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: instagram @jank_ee