• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial

हाइपर एक्टिव बच्चों के साथ डील करने में मदद करेंगे यह टिप्स

अगर आपका बच्चा हाइपर एक्टिव है, तो उसे हैंडल करने के लिए आप एक्सपर्ट द्वारा बताए इन आसान उपायों को अपनाएं। 
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -03 Jun 2022, 18:26 ISTUpdated -05 Jun 2022, 18:59 IST
Next
Article
different ways to keep up with hyperactive kids

दुनिया में हर बच्चा अलग है और उसकी अपनी कुछ खासियतें हैं। यूं तो बच्चों को संभाल पाना हमेशा से ही पैरेंट्स के लिए एक टफ टास्क रहा है। लेकिन अगर बात हाइपरएक्टिव बच्चे की हो तो चुनौतियां कई गुना बढ़ जाती हैं। ऐसे बच्चों का आमतौर पर एनर्जी लेवल काफी हाई रहता है और इसलिए उन्हें यह समझ में ही नहीं आता कि वह अपनी एनर्जी को किस तरह यूटिलाइज करें। 

जिसके कारण बच्चे अक्सर डिस्ट्रक्टिव हो जाते हैं, जिसके कारण पैरेंट्स की मुश्किलें और भी अधिक बढ़ जाती हैं। ऐसे बच्चों के साथ धैर्य के साथ समझाना या फिर बात मनवाना भी काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि वह जल्दी से किसी की बात सुनते ही नहीं हैं। हो सकता है कि आपका बच्चा भी दूसरों से अलग हो और आपको उसे हैंडल करने में परेशानी हो रही हो। तो चलिए आज इस लेख में दिल्ली के सरोज अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट पीडियाट्रिशियन डॉ. के के गुप्ता आपको ऐसे कुछ आसान तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप काफी हद तक अपने बच्चे को डील कर पाएंगी-

पहचानें लक्षण

हाइपर एक्टिव बच्चों के साथ डील करने से पहले उनकी पहचान करना आवश्यक है। दरअसल, ऐसे बच्चों में कुछ लक्षण नजर आ सकते हैं-

kids and hyperactivity

  • ऐसे बच्चों का एनर्जी लेवल काफी हाई होता है, इसलिए ऐसे बच्चे एक जगह पर बहुत देर तक शांत नहीं बैठते हैं। अगर  वह एक जगह पर बैठे होते हैं, तो भी लगातार हिलते रहते हैं।
  • वह जल्दी से किसी बात पर ध्यान नहीं देते हैं और ना ही किसी की इंस्ट्रक्शन को फॉलो करते हैं।
  • ऐसे बच्चे दूसरों के काम में दखलअंदाजी करते हैं। हो सकता है कि वह आपको कॉल पर बार-बार परेशान करें।
  • ऐसे बच्चे बहुत ही आसानी से डिस्ट्रैक्ट हो जाते हैं और वह एक काम करते हुए उसे छोड़कर बीच में ही दूसरे काम में लग जाते हैं। 
  • ऐसे बच्चों में अधिकतर गुस्सा भी देखा जाता है। वह छोटी-छोटी बातों पर चिल्लाते हैं और चीजें फेंकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें- छोटे बच्चों के दांतों की केयर करने के लिए अपनाएं यह आसान टिप्स

एनर्जी को करें चैनलाइज

चूंकि, ऐसे बच्चों का एनर्जी लेवल बहुत अधिक हाई होता है, इसलिए यह जरूरी होता है कि ऊर्जा को सही दिशा दी जाए। अगर ऐसा नहीं होता है, तो इससे बच्चे बहुत अधिक डिस्ट्रक्टिव हो सकते हैं। इसके लिए आप कुछ उपाय अपना सकती हैं। मसलन, बच्चे को मेंटल एक्टिविटी व फिजिकल एक्टिविटीज में शामिल करें। एक्टिविटीज कुछ ऐसी होनी चाहिए, जिससे उनकी एकाग्रता बेहतर हो। साथ ही, फिजिकल एक्टिविटी के लिए आप उन्हें कुछ आउटडोर गेम्स खिलवा सकती हैं। इसके अलावा, आप बच्चे को कुछ स्टैकिंग गेम्स व पजल्स लाकर दें।

hyperactive kids problems

सिंपल तरीके से ही करें बात

यह हाइपर एक्टिव बच्चों को हैंडल करने का एक आसान तरीका है। दरअसल, ऐसे बच्चों के साथ हमेशा ही सिंपल तरीके से बात करें। ध्यान दें कि आप बच्चे से हमेशा छोटी व सिंपल लाइन्स में ही बात करें। कभी भी उन्हें एक साथ दो-तीन इंस्ट्रक्शन ना दें। दरअसल, ऐसे बच्चे बातों को ध्यान से नहीं सुनते हैं और इसलिए अगर इस स्थिति में बच्चे से कॉम्पलीकेटिड बात की जाती है, तो वह और भी अधिक उलझ जाते हैं और फिर वह आपकी बात को सुनने या फिर आपकी बात को मानने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं। 

active kids and gifts

स्क्रीन टाइम को रखें मिनिमम 

यूं तो बच्चों के लिए बहुत अधिक स्क्रीन टाइम कभी भी अच्छा नहीं माना जाता है। लेकिन अगर आपका बच्चा हाइपर एक्टिव है, तो इस बात का ध्यान रखना और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है। दरअसल, ऐसे बच्चे बहुत ही आसानी से डिस्ट्रैक्ट हो जाते हैं और इसलिए अगर वह बहुत अधिक स्क्रीन देखते हैं, तो इससे उन्हें ध्यान लगाने में समस्या होती है और फिर उन पर इसका नेगेटिव असर नजर आता है। 

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- बच्चों को हाइड्रेट रखने के चक्कर में ना करें ये गलतियां 

अपनाएं रिवॉर्ड थेरेपी 

हाइपर एक्टिव बच्चों के साथ रिवॉर्ड थेरेपी सबसे बेहतर तरीके से काम करती है। मसलन, अगर बच्चा आपकी किसी बात को मानता है या फिर अच्छा बिहेव करता है तो आप उसे बतौर रिवॉर्ड कोई गेम, चॉकलेट या आइसक्रीम लाकर दे सकते हैं। इससे बच्चे को प्रोत्साहन मिलता है और धीरे-धीरे उनके व्यवहार में भी परिवर्तन नजर आने लगते हैं। साथ ही, इससे बच्चे को हैंडल करना भी आसान हो जाता है। हालांकि, यहां इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखें कि आपको बच्चे को रिवॉर्ड देना है, रिश्वत नहीं।

अब इन आसान उपायों को अपनाकर देखिए, यकीनन आपको सिचुएशन में काफी अंतर नजर आएगा। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकीअपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।   

Image Credit- freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।