आज के समय में महिलाओं पुरानी धारणाओं को तोड़ते हुए अपने लिए रास्ते तय कर रही हैं। जिसके कारण उन्हें पर्सनली व प्रोफेशनली कई तरह के चैलेंजेस का सामना करना पड़ता है। वैसे तो अधिकतर महिलाएं वर्किंग हैं। वे या तो घर से बाहर निकलकर जॉब कर रही हैं या फिर घर में रहकर ही कमाई कर रही हैं। जरिया चाहे जो भी हो, लेकिन यह सच है कि आज के समय में महिलाएं अपने परिवार को आर्थिक रूप से भी संभाल रही हैं। हालांकि एक निश्चित आमदनी के बाद भी बहुत सी महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर नहीं हैं। वह अपनी ही कमाई पर कोई हक नहीं रखतीं, जिसके कारण उनकी फाइनेंशियल निर्भरता दूसरों पर बनी रहती है।

आज के समय में जब महिलाएं खुद को स्थापित कर रही हैं और अपनी एक अलग पहचान बना रही हैं तो यह बेहद जरूरी है कि वह फाइनेंशियल आत्मनिर्भरता भी महसूस करें। इसके लिए उन्हें खुद ही कुछ कदम उठाने होंगे। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ टिप्स बता रहे हैं, जिसकी मदद से आप फाइनेंशियल इंडिपेंडेंस को आसानी से महसूस कर सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: पैसों से भरा रहेगा आपका पर्स अगर रखेंगी इन 5 बातों का ध्‍यान

सोचें अपने लिए

become more financially independent woman inside

अमूमन महिलाएं अपनी पूरी जिन्दगी में सिर्फ और सिर्फ दूसरों के लिए ही सोचती हैं। वह चाहकर भी खुद के लिए सेविंग या खर्च नहीं करतीं। अगर आप भी ऐसा ही करती हैं तो अपनी इस आदत को बदलें। यकीनन आप दूसरों के लिए सोचें, लेकिन उससे पहले खुद के लिए सोचने में कोई बुराई नहीं है। जब आप पूरा दिन मेहनत करके पैसे कमाती हैं तो उन्हें खुद के लिए सेव करना या खुद पर खर्च करने में आपको हिचकना नहीं चाहिए। पहले अपनी सोच को बदलें, तभी आप खुद को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर महसूस करेंगी। याद रखें कि अगर आप खुद के लिए नहीं सोचेंगी तो कोई दूसरा आपके लिए कभी नहीं सोचेगा।

Recommended Video

करें प्लानिंग

become more financially independent woman inside

इसके बाद बारी आती है फाइनेंशियल प्लानिंग की। आमतौर पर फाइनेंशियल प्लानिंग दो तरह से की जाती है- एक शार्ट टर्म और दूसरा लॉन्ग टर्म। कार खरीदना या ज्वैलरी खरीदना एक शार्ट टर्म फाइनेंशियल प्लानिंग है, जबकि बच्चे की पढ़ाई एक लॉन्ग टर्म फाइनेंशियल प्लानिंग है। बेहतर होगा कि आप अपनी आमदनी के अनुसार पहले ही फाइनेंशियल प्लानिंग कर लें। अगर आपको इसमें समस्या हो रही है तो आप अपने घर के किसी विश्वासी व्यक्ति या फाइनेंशियल एक्सपर्ट से इस बारे में राय ले सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: शादी के बाद सेविंग के लिए आजमाएं ये 5 तरीके, कुछ ही साल में बन जाएंगी लखपति

बांटे हिस्सा

become more financially independent woman inside

इस बात में कोई दोराय नहीं है कि आपकी कमाई की एक मुख्य वजह घर को आर्थिक रूप से सपोर्ट करना है और आप अपनी इस जिम्मेदारी से मुंह नहीं मोड़ सकती। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि आप सारा बोझ खुद पर ही लें। बेहतर होगा कि आप अपने पार्टनर के साथ मिलकर घर के होने वाले खर्चों को बांट लें। ऐसा करने से आपके लिए खुद के लिए सेविंग करना ज्यादा आसान हो जाता है। घर खर्च के बाद आप अपने लिए अलग से सेविंग करें। इसे आप किसी मुसीबत के समय या फिर अपनी रिटायरमेंट के समय खर्च कर सकती हैं। साथ ही जब आपके पास अपनी खुद की एक अलग से सेविंग होगी तो आप यकीनन फाइनेंशियल इंडिपेंडेंस को महसूस करेंगी।

Image Credit: (bankofbaroda,aegonlife,Ix)