आज के समय में भले ही लड़कियां शादी लेट में कर रही हैं लेकिन हर लड़की का सपना होता है कि वह एक वक्त के बाद मां बनें। मां बनने के बाद महिलाओं के सिर्फ शरीर में ही नहीं बल्कि उनकी सोच में भी बड़ा बदलाव आता है। मां बनने के बाद लड़कियों के अंदर ममता तो आती ही है साथ ही वह मानसिक तौर पर काफी मजबूत और परिपक्व भी हो जाती हैं। इस बात में कोई दोराय नहीं है कि अब समय पहले से काफी बदल गया है। बच्चे सिर्फ बड़े होकर ही चिड़चिड़े और इगोस्टिक नहीं हो रहे हैं बल्कि पैदा होते ही बच्चे एक अलग मानसिकता लिए हुए हैं। खैर इसके पीछे कई कारण हैं जो हमारा आज का विषय नहीं है। आज हम आपको बता रहे हैं कि किस भी लड़की को मां बनने से पहले कुछ तैयारियां कर लेनी चाहिए। ताकि वह अपने शिशु की अच्छी परवरिश के साथ ही खुद पर और अपने परिवार पर भी ध्यान दे पाए। आज इस आर्टिकल में हम आपको ऐसी 3 चीजें बता रहे हैं जिन पर आपको जरूर ध्यान देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मां अपने शिशु की मालिश के लिए इन 5 तेलों का इस्‍तेमाल करें

बच्चे की जरूरत को समझें

best tips for make strong relation inside

जब भी कोई लड़की पहली बार मां बनती है तो उसे बच्चे के सोने, जागने या भूख लगने का कोई आइडिया नहीं होता है। कभी बच्चे एक दिन में 16 घंटे से भी ज्यादा सोते हैं तो कई बार वह सिर्फ 7 से 8 घंटे ही होते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि यह बदलाव बहुत अचानक से होता है। ऐसे में आपकी जिंदगी बेहद अव्यवस्थित हो जाती है। इस स्थिति में लड़कियों को लाइफस्टाइल एकदम बदल जाता है और उन्हें समझ ही नहीं आता कि वह क्या करें। लेकिन अगर आप बारीकी से अपने बच्चे की जरूरतों को समझने और जानने की कोशिश करें तो आपकी जिंदगी बेहद आसान हो जाती है। रात के लिए अपने शिशु का रुटीन सेट करने की कोशिश करें। कोशिश करें कि रात के वक्त आपके कमरे में आवाज और रोशनी बिल्कुल न हो। कुछ ही समय और प्रयास के बाद आप अपने रूटीन को पहले जैसा कर लेंगी।

इसे भी पढ़ें: ये 3 चीजें गर्भवती महिलाएं जरूर खाएं, बच्‍चा होगा हेल्‍दी और सुंदर

शिशु के साथ गुनगुनाएं

best tips for make strong relation inside

मां और बच्चे में नेचुरल ऐसा संबंध होता है कि बच्चा पैदा होते ही अपनी मां को पहचानने लगता है। बच्चे पैदा होते ही अपनी मां के स्पर्श, गंध और आवाज को अच्छी तरह से पहचानते हैं। भले ही आपको लगे कि आपका बच्चा आपकी बातों को समझने लायक नहीं हुआ है लेकिन फिर भी आप उसे अपनी छाती से लगाकर उसे अच्छी अच्छी बातें बताएं, लोरियां सुनाएं या कोई कहानी सुनाएं। बता दें कि बच्चों को यह सब बहुत भाता है। इससे वह आपक साथ भावनात्मक तौर पर और भी ज्यादा गहराई के साथ जुड़ता है।