सोसाइटी और वीमेन
  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial | 13 Oct 2017, 12:20 IST

BHU के वीसी जी सी त्रिपाठी के इन स्टेटमेंट्स में छुपा है लड़कियों के विरोध करने का कारण

अगर आपको अब तक ये नहीं मालूम की BHU में लड़कियां विरोध क्यों कर रहीं है तो वीसी जी सी त्रिपाठी के ये चार स्टेटमेंट्स पढ़ लें। सब पता चल जाएगा। 
BHU university vc tripathi Quote  main
  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial | 13 Oct 2017, 12:20 IST

तीन सौ लड़कियों का विरोध प्रदर्शन, छात्र आंदोलन में कैसे बदलता है ये बीएचयू से जानें। देश के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में लड़कियां अपनी सेफ्टी के लिए विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं। लेकिन वहां के वीसी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता इसलिए वो इस मामले में लड़कियों से मिलकर एक बार भी बात करना जरूरी नहीं समझते। उल्टे वो ऐसे स्टेटमेंट्स देते हैं कि आपको लड़कियों का विरोध प्रदर्शन करना सही लगने लगेगा। 

1Eve-teasing हुई थी, ना कि molestation

BHU university vc tripathi Quote

BHU के वीसी जी सी त्रिपाठी का कहना है कि "उस लड़की के साथ eve-teasing हुई थी, ना कि molestation." 

असल में ये हुआ- BHU के फैकल्टी से निकलकर हॉस्टल जाने के रास्ते में लड़कियां अमूूूूमन छेड़छाड़ की शिकार होती थीं और रहेंंगी। लेकिन उस दिन उस लड़की के साथ छेड़छाड़ से ज्यादा भी कुछ हुआ था। 21 सितंबर को शाम 6.20 बजे दो लड़के अंधेरे का फायदा उठाकर उस 18-19 साल की लड़की के कपड़ों में हाथ डालते हैं और उस पर गंदे कमेंट कर उसे अपमानित करते हैं। इस घटना से लड़की इतनी डर जाती है कि वो बेहोश हो जाती है।

2आउटसाइर्स ने खड़ा किया है ये विरोध प्रदर्शन

BHU university vc tripathi Quote

लड़कियों के इस विरोध प्रदर्शन को वीसी त्रिपाठी अब तक इसे विरोध मानते ही नहीं। उनका कहना है कि "ये विरोध प्रदर्शन आउटसाइर्स ने विश्वविद्यालय परिसर में अशांति पैदा करने और PM मोदी के वाराणसी वीज़िट में अड़ंगा डालने के लिए किया है।"

असल में ये हुआ- ये विरोध प्रदर्शन सुरक्षा और बराबरी की मांग करते हुए 22 सितंबर को त्रिवेणी हॉस्टल की 300 से अधिक लड़कियों ने शरू किया। इस प्रदर्शन में यूनिवर्सिटी के ही कुछ लड़के भी शामिल हुए। लड़कियां केवल इतनी ही मांग कर रही थीं कि उन्हें वीसी आकर सुरक्षा और समानता का आश्वासन दे जाते। लेकिन ना वीसी आए और ना यह आंदोलन खत्म हुआ। फिर दिन बीतता गया और दोपहर दो बजे तक विरोध करने वाले छात्रों की संख्या बढ़ते हुए ढाई हजार हो गई। और उसके बाद तब तक ये आंदोलन न्यूज चैनलों और सोशल मीडिया में चर्चा में भी आ गया था।

Read More: भैरवी गोस्वामी ने कहा, ''actresses काम के लिए मर्दों के साथ सोती हैं, फिर 10 साल बाद रोती हैं''

3सबकी सुनने लगे तो युनिवर्सिटी कैसे चलाएंगे?

BHU university vc tripathi Quote

लगता है लड़कियों की सुरक्षा वीसी त्रिपाठी के लिए ज्यादा मायने नहीं रखती। तभी तो लड़कियों की सुरक्षा की मांग पर वे कहते हैं कि "अगर हम हर लड़की की बात सुनने लगे तो युनिवर्सिटी कैसे चलाएंगे?" 

असल में ये हैं हालात 

  • शाम को लड़कियां 5 बजे के बाद हॉस्टल से निकल नहीं सकतीं। पहले हॉस्टल लौटने का समय पौने आठ बजे थो जो इस घटना के बाद से 6 बजे हो गया है। जबकि ब्वॉयज़ हॉस्टल में समय की ऐसी कोई पाबंदी नहीं है। 
  • लड़कियों के हॉस्टल में नॉन वेज नहीं बनता। 
  • लड़कियों को शॉर्ट ड्रेस पहनना मना है। 

4हर किसी की सेफ्टी निश्चित नहीं कर सकते

BHU university vc tripathi Quote

और लास्ट में, यूनिवर्सिटी के वीसी त्रिपाठी के इस स्टेटमेंट से पता चल जाएगा कि वहां की सेफ्टी कैसी है। 

त्रिपाठी कहते हैं, "ये कैम्पस बहुत बड़ा है। यहां कहीं भी कुछ भी हो सकता है। हर स्टूडेंट्स को सेक्युरिटी गार्ड नहीं दे सकते।"

मतलब आपकी इज्जत आपके हाथ। आपकी सुरक्षा की गारंटी से हमारा कोई वास्ता नहीं। rude emoji

Read More: सेफ्टी पेंडेट रखेगा आपको हर खतरे से सेफ

Loading...
Loading...