अभिनेत्री तनुजा हिंदी सिनेमा में मात्र 16 साल की उम्र में ही काम करना शुरू कर दिया था। वह एक नहीं बल्कि कई शानदार फिल्मों का हिस्सा रहीं। 60 और 70 के दशक में तनुजा शानदार एक्ट्रेस मानी जाती थी। वह जब भी पर्दे पर आती अपनी मुस्कान और मासूमियत से लोगों का दिल जीत लेती थी। उनकी पहली फिल्म हमारी बेटी थी, जिसमें वह एक चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम किया। यह फिल्म नूतन की डेब्यू फिल्म थी, और इसे उनकी मां शोभना समर्थ ने डायरेक्ट किया था।

दरअसल, तनुजा की मां शोभना समर्थ हिंदी सिनेमा की जानी-मानी एक्ट्रेस हुआ करती थी, इसके बाद वह निर्देशक बन गई थी। 1950 में रिलीज फिल्म हमारी बेटी में उन्होंने अपनी बड़ी बेटी नूतन को लॉन्च किया था, जिसमें तनुजा भी नजर आईं। हालांकि, यह फिल्म खास कमाल नहीं दिखा पाई थी। इसके बाद तनुजा को विदेश भेज दिया गया, जहां उन्होंने अपने आगे की पढ़ाई पूरी की। बतौर एक्ट्रेस वह फिल्म हमारी याद आएगी में नजर आईं थी। बता दें कि इस फिल्म को शूट करते वक्त डायरेक्टर ने तनुजा को जोरदार थप्पड़ जड़ दिया था।

जब सेट पर तनुजा को डायरेक्टर ने मारा थप्पड़

tanuja slapped by director

विदेश से वापस लौटने के बाद तनुजा एक बार फिर से अपनी मां के डायरेक्शन में बनी फिल्म छबीली में नजर आईं। इस फिल्म में उनके साथ नूतन भी नजर आईं, लेकिन यह बुरी तरह से फ्लॉप साबित हुईं। इस फिल्म के बाद 1961 में रिलीज 'हमारी याद आएगी' में नजर आईं, जिसमें तनुजा का जबरदस्त ट्रांसफॉर्मेशन देखने को मिला। इस फिल्म को केदार शर्मा ने डायरेक्ट किया था, जिन्होंने राज कपूर, मधुबाला और गीता बाली जैसे स्टार्स इंडस्ट्री को दिए थे। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान तनुजा के साथ एक ऐसा किस्सा हुआ, जो कई दिनों तक सुर्खियों में रहा था। रेडिफ रिपोर्ट के अनुसार, एक सीन की शूटिंग के दौरान डायरेक्टर केदार शर्मा ने तनुजा को थप्पड़ जड़ दिया था। दरअसल, एक ड्रैमेटिक सीन में तनुजा हंस रही थी, उनकी यह बात केदार शर्मा को पसंद नहीं आई और उन्होंने सबके सामने थप्पड़ जड़ दिया। उस वक्त केदार शर्मा इंडस्ट्री के गुस्सैल डायरेक्टर माने जाते थे। 

इसे भी पढ़ें: अपने पैरेंट्स की नाराजगी के बावजूद इन सेलेब्स ने चुना एक्टिंग करियर

तनुजा का शुरुआती करियर

tanuja career

शुरुआती दिनों में तनुजा कई फिल्म में सपोर्टिंग रोल में नजर आईं। हालांकि फिल्म हमारी याद आएगी में उनकी अदायगी को लोगों ने काफी पसंद किया था। तनुजा हमेशा से एक बिंदास अभिनेत्री मानी गई है। वह अपनी जिंदगी में इस बात की बिल्कुल परवाह नहीं करती, कि लोग उनके बारे में क्या कहते हैं। ऐसा कहा जाता है कि फिल्म बहारें फिर भी आएंगी की शूटिंग के दौरान फिल्मकार गुरुदत्त से कह दिया था कि 'ये गुरु जब तू मर जाएगा तो अपनी लाइब्रेरी में मेरा नाम लिख जाना'। तनुजा बोलने से पहले कुछ भी सोचती नहीं थी, वह उस वक्त काफी आउटस्पोकन एक्ट्रेस मानी जाती थीं।

इसे भी पढ़ें: शादी के बाद विरुष्का के पड़ोसी बन सकते हैं विक्की कौशल और कैटरीना कैफ, पढ़ें पूरी खबर

Recommended Video

बंगाली फिल्मों में बनाई खास पहचान

tanuja kids

हिंदी सिनेमा के अलावा तनुजा को बंगाली फिल्मों में खास पहचान मिली। बंगाली फिल्मों में उनकी जोड़ी उत्तम कुमार और सौमित्र चटर्जी के साथ खूब पसंद की जाती थीं। शानदार अभिनेत्री होने के बाद उन्होंने 1973 में शोमू मुखर्जी से शादी कर ली। हालांकि, उनकी शादी ज्यादा दिन टिक नहीं पाईं और वो अपने पति के साथ अलग रहने लगीं। तनुजा की दो बेटियां भी हैं, जिनका नाम काजोल और तनीषा मुखर्जी है। दोनों ही इंडस्ट्री के पॉपुलर सेलेब्स हैं।

 

उम्मीद है कि आपको तनुजा से जुड़ी यह जानकारी पसंद आई होगी। साथ ही, यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें कमेंट कर जरूर बताएं और इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहे हर जिंदगी के साथ।