मां का दूध बच्‍चे के लिए बेहद जरूरी होता है। लेकिन महिलाएं भीड़भाड़ में अपने शिशु को ब्रेस्‍टफीडि़ग कराने में संकोच व शर्म महसूस करती थीं। शिशु को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के लिए इधर-उधर एकांत जगह की तलाश करती थीं। ट्रेवल के दौरान यह समस्‍या ज्‍यादा बढ़ जाती है। शर्म महसूस होने के कारण महिलाएं हमेशा ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के लिए जगह ढूढ़ती रहती हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अधिकारी वी.के. स्वर्णकर ने महिलाओं की इसी समस्‍या को ध्‍यान में रखते हुए ताजमहल में ब्रेस्टफीडिंग रूम बनाने का निर्णय लिया है। उनका कहना हैं कि मेरे मन में यह विचार तब आया जब मेरी नजर सीढ़ियों के नीचे छिपकर एक महिला को अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराते हुए देखा।

इसे जरूर पढ़ें: नई मां इन 8 चीजों की मदद से आसानी से करा सकती है ब्रेस्टफीडिंग

taj mahal to be first indian breastfeeding room

ताजमहल देश का पहला स्मारक होगा, जिसमें ब्रेस्टफीडिंग रूम होगा। इसके अलावा आगरा का किला और फतेहपुर सीकरी में भी ब्रेस्टफीडिंग के लिए अलग जगह उपलब्‍ध होगी। इन तीनों ही स्मारकों में महिलाओं को अपने बच्चों को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के लिए 'बेबी फीडिंग रूम' की सुविधा उपलब्ध होगी।



ताजमहल समेत अन्य स्मारकों में महिला पर्यटकों के सामने तब असहज स्थिति बनती है जब बच्चों को ब्रेस्‍टफीडिंग करानी होती है। ऐसे में वह किसी पेड़ के पीछे या ओट लेनी पड़ती है। इस मामले में पहली बार एएसआई ने महिलाओं की इस प्रॉब्‍लम का हल के लिए बेबी फीडिंग रूम खोलने की शुरूआत की है। एएसआई आगरा सर्किल ने दिल्ली मुख्यालय को तीनों वर्ल्ड हेरिटेज स्मारकों में बेबी फीडिंग रूम खोलने का प्रस्ताव भेजा था, जिसे पास कर जल्दी शुरूआत करने को कहा गया है। देश में ताजमहल पहला ऐसा स्मारक होगा, जहां फीडिंग रूम की सुविधा होगी। ताज में रॉयल गेट पर पश्चिमी हिस्से में एन्क्लोजर बनाकर बेबी फीडिंग रूम बनाया जाएगा।

taj mahal to have breastfeeding room

ताजमहल में बड़ी संख्या में अंतर्राष्ट्रीय महिला पर्यटक भी आती हैं, जिनसे मिले फीडबैक और स्थिति को देखकर आगरा सर्किल के एएसआई अधिकारियों ने यह प्रस्ताव तैयार किया। आगरा किला में दीवान ए आम से पहले प्रवेश द्वार पर ही दाई ओर एक सेल खाली है, यहां यह रूम बनाया जाएगा। फतेहपुर सीकरी में पंचमहल और जोधाबाई के महल के बीच जगह की तलाश जारी है।



वी के कहना है कि ताज, किला और सीकरी में बेबी फीडिंग रूम से महिलाओं को आसानी होगी और बच्चों पर पूरा ध्यान दिया जा सकेगा। इन रूम में कुर्सी, मेज, पंखा और लाइट के साथ पीने के पानी जैसी बुनियादी सुविधाएं होंगी। महिला पर्यटकों का फीडबैक लेकर अन्य सुविधाओं को देने पर विचार होगा।

इसे जरूर पढ़ें: ब्रेस्‍टफीडिंग छुड़ाने के बाद अपने बच्चे को हेल्‍दी कैसे रखें, एक्‍सपर्ट से जानें

taj mahal in agra breastfeeding

ताजमहल जहां पर सालाना 8 मिलियन से अधिक पर्यटकों आते हैं, आगरा में यमुना नदी के दक्षिणी किनारे पर स्थित है। यह 1632 में मुगल सम्राट, शाहजहां द्वारा अपनी पत्नी, अर्जुमंद बानू के मकबरे में स्थापित किया गया था। जिसे मुमताज महल के नाम से जाना जाता है।