'धूम मचा ले', शीला की जवानी, दीवानगी, दीवानगी, देसी गर्ल जैसे गानों से भारतीय म्यूजिक लवर्स का दिल जीत लेने वाली सुनिधि चौहान अपनी सुरीली आवाज के बल पर देश की धड़कन बन गईं। सुनिधि चौहान ने बीड़ी जलइले, आजा नच ले, छोकरा जवान, दिल्ली वाली गर्लफ्रेंड जैसे कई गाने गाए, जो आज भी महिलाएं गुनगुनाना पसंद करती हैं। उन्होंने भागे रे मन कहीं, मेरे हाथ में, बिन तेरे, हे शोना जैसे सदाबहार गाने भी गाए, जो दिल को सुकून और राहत देते हैं। आज सुनिधि 35 साल की हो गई हैं। 14 अगस्त 1983 को दिल्ली में सुनिधि पैदा हुई थीं। उनके जन्मदिन के मौके पर आइए जानते हैं सुनिधि चौहान से जुड़े कुछ ऐसे फैक्ट्स के बारे में, जिनके बारे में शायद आपने ना सुना हो। 

पिता से मिली गाने की इंस्पिरेशन

sunidhi chauhan fashion icon inside

सुनिधि चौहान की गायिकी तभी शुरू हो गई थी जब वह सिर्फ चार साल की थीं। सुनिधि के पिता दुष्यंत कुमार चौहान एक थिएटर पर्सनेलिटी थे। सुनिधि अपने पिता से इंस्पिरेशन लेते हुए बचपन से ही स्टेज शोज और सिंगिंग कंपटीशन में हिस्सा लेने लगीं। इसी का नतीजा था कि सुनिधि चौहान अपनी टीनेज तक आते-आते सिंगिंग सेंसेशन बन गईं। 

इसे जरूर पढ़ें: बदल गई है सिंगिंग इंडस्ट्री, अब अच्छा दिखना भी हो गया है ज़रूरी- ऋतु पाठक 

तबस्सुम ने पहचाना था सुनिधि का टैलेंट

एक रियलिटी शो में हिस्सा लेने के दौरान एंकर तबस्सुम ने पहली बार सुनिधि के टैलेंट को पहचान लिया था और उन्होंने सुनिधि के माता-पिता को बेटी के साथ मुंबई आने का सुझाव दिया। इसके बाद सुनिधि बहुत तेजी से सिंगिंग करियर में आगे बढ़ती गईं। 

इसे जरूर पढ़ें: रेलवे स्‍टेशन पर लता मंगेशकर के गीत गाने वाली रानू मंडल का हुआ मेकओवर, देखिए इनकी शानदार तस्वीरें

13 साल की उम्र में गाने की शुरुआत

sunidhi chauhan stylish inside

सुनिधि चौहान ने अपने समय के पॉपुलर म्यूजिक शो 'मेरी आवाज सुनो' की विनर रही थीं। इस शो में उन्होंने लता मंगेशकर ट्रॉफी हासिल की थी। लेकिन यह अवॉर्ड जीतने से पहले वह संगीत के महारथी कल्याण जी और आनंद जी के 'लिटिल वंडर्स' ट्रूप का हिस्सा थीं। उदित नारायण के बेटे आदित्य नारायण भी इस टीम का हिस्सा थे। सुनिधि ने 1996 में फिल्म 'शस्त्र' के गाने 'लड़की दीवानी, लड़का दीवाना' से अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत की थी, जिसमें उन्होंने उदित नारायण के साथ गाना गाया था। 

स्कूल ड्रॉप आउट हैं सुनिधि चौहान

सुनिधि चौहान गाने के लिए इतनी ज्यादा पैशनेट रहीं कि उन्होंने इसे ही अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया था। सुनिधि ने गाने के लिए स्कूल जाना छोड़ दिया, यही वजह थी कि वह दसवीं के आगे नहीं पढ़ पाई। 

16 साल की उम्र में जीता फिल्मफेयर अवॉर्ड

sunidhi chauhan with child inside

सुनिधि चौहान ने फिल्म 'मस्त' का 'रुकी-रुकी सी जिंदगी' गाया था। यह गाना इतना ज्यादा पसंद किया गया कि इसके लिए उन्हें फिल्म फेयर अवॉर्ड से नवाजा गया। रेडियो और यू-ट्यूब या मोबाइल सॉन्ग्स में सबसे ज्यादा सुनी जाने वाली सिंगर्स में शुमार हैं सुनिधि चौहान। 

फैशन आइकन हैं सुनिधि

सुनिधि चौहान अपनी बेहतरीन सिंगिंग के साथ अपने स्टाइल के लिए भी काफी चर्चित रही हैं। साल 2013 में  सुनिधि ने एशिया की टॉप 50 सेक्सिएस्ट महिलाओं में जगह हासिल की थी। 

कई भाषाओं में दी आवाज

सुनिधि चौहान ने 2000 से ज्यादा गानों में अपनी आवाज दी है। हिंदी के अलावा उन्होंने मराठी, कन्नड़, तेलुगु, तमिल, पंजाबी, बंगाली, असमी और नेपाली भाषा में भी गाने गाए हैं।  

Image Courtesy: Instagram(@sunidhichauhan5)