• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Strawberry Moon 2022: आज दिखेगा स्ट्रॉबेरी सुपर मून, जानें कुछ रोचक तथ्यों के बारे में

पूरे साल में 12 पूर्ण चंद्र होते हैं जिनका अलग महत्व है। इन सभी में से स्ट्रॉबेरी सुपरमून से जुड़े कई रोचक तथ्यों के बारे में इस लेख में जानें।   
Published -12 Jun 2022, 09:31 ISTUpdated -14 Jun 2022, 12:21 IST
author-profile
  • Samvida Tiwari
  • Editorial
  • Published -12 Jun 2022, 09:31 ISTUpdated -14 Jun 2022, 12:21 IST
Next
Article
strawberry moon kab hai

Strawberry Moon 2022: चंद्रमा के कई रूपों  के बारे में आपने जरूर सुना होगा और शायद देखा भी होगा, लेकिन क्या आपने स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon) के बारे में सुना है। सामान्य तौर पर कहें तो वसंत ऋतु  के अंतिम और ग्रीष्मकाल (Summer) के पहले पूर्ण चंद्र को स्ट्रॉबेरी मून कहा जाता है। इसे सुपर मून भी कहा जाता है।

इस साल वर्ष 2022 में पहला स्ट्रॉबेरी सुपरमून 14 जून 2022 को आसमान में दिखाई देगा। माय पंडित के फाउंडर, सीईओ कल्पेश शाह एंड टीम ऑफ एस्ट्रोलॉजर  बता रहे हैं इस स्ट्रॉबेरी मून से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में जो आपको भी जानने चाहिए। 

जून 2022 में कब दिखाई देगा स्ट्रॉबेरी मून

इस साल जून 2022 में 14 जून 2022 को स्ट्रॉबेरी मून दिखाई देगा। 14 जून की शाम सूर्यास्त के ठीक बाद यह दक्षिण-पूर्व की ओर क्षितिज से धीरे-धीरे ऊपर आएगा, जो काफी बड़ा और सुनहरे रंग का दिखाई देगा। ऐसे में इस माह पूर्णिमा के दिन चंद्रमा बड़ा और उज्ज्वल दिखाई देगा। यह शाम 05.21 बजे अपने चरम पर होगा।

पृथ्वी के काफी करीब होता है चंद्रमा

strwaberry moon kya hota hai

स्ट्रॉबेरी मून के दिन 14 जून को चंद्रमा पृथ्वी के काफी करीब होगा। यही कारण है कि आम दिनों में चंद्रमा का जो आकार हमें नजर आएगा उसके मुकाबले यह बड़ा और चमकीला दिखाई देगा। खगोलीय घटना के अनुसार कई बार इस दौरान शुक्र और मंगल ग्रह भी दिखाई देते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:Strawberry Full Moon: ये सरल उपाय चमका सकते हैं आपकी किस्‍मत

कैसे शुरू हुआ चंद्रमा का नामकरण

सुपर मून या स्ट्रॉबेरी मून के बारे में कहा जाता है कि वर्ष 1930 से इसके नाम निर्धारित किए जा रहे हैं। उस वक्त पहली बार फार्मर अलमैनेक के द्वारा सुपर मून का नाम निर्धारित किया गया था। उस दौरान अप्रैल में नजर आने वाले सुपर मून का नाम पिंक मून रखा गया था। उस दौरान अमेरिका में पाए जाने वाले एक पौधे के नाम पर ही सुपरमून नाम निर्धारित किया गया था।  

क्यों कहा जाता है स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon)

जहां तक स्ट्रॉबेरी मून की बात है तो, यह नाम उत्तरी अमेरिका के एल्गोनक्विन ट्राइबल द्वारा रखा गया था। इसका कारण यह है कि इस दौरान उत्तरी अमेरिका में स्ट्रॉबेरी के फसल की कटाई होती है।

स्ट्रॉबेरी मून के हैं और कई नाम

स्ट्रॉबेरी मून का नाम सुनने में जितना अच्छा और देखने में जितना सुंदर लगता है, उसी तरह इसके अन्य नाम भी काफी सुंदर हैं। स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon) को हनी मून, रोज मून या हॉट मून के नाम से भी जाना जाता है।

सुपर मून के नाम

supermoon kya hai

  • स्ट्रॉबेरी मून - इस दौरान उत्तरी अमेरिका में स्ट्रॉबेरी के फसल पकने लगते हैं, इसलिए इसका नाम पड़ा।
  • हनी मून - कहा जाता है कि जून माह में शादियों का मौसम होता है और इस कारण इस माह के पूर्ण चंद्रमा को हनी मून भी कहा जाता है।
  • रोज मून - यूरोप में इसे रोज मून भी कहा जाता है। इस दौरान गुलाब की कटाई होती है।
  • हॉट मून - इस दिन से भूमध्य रेखा के उत्तर में गर्मियों का मौसम शुरू हो जाता है। इस कारण उत्तरी गोलार्ध में इसे हॉट मून कहा जाता है।

इस साल 12 पूर्ण चंद्र 

साल के 12 महीनों में हर माह पूर्णिमा के दिन (पूर्णिमा की रात करें ये खास उपाय) चंद्रमा अपनी पूरी गोलाई में होता है। इसे पूर्ण चंद्र या फूल मून भी कहा जाता है। आइए जानते हैं कि हर माह के फूल मून को किन नामों से जाना जाता है।

  • जनवरी - वुल्फ मून (Wolf Moon)
  • फरवरी - स्नो मून (Snow Moon)
  • मार्च -  वॉर्म मून (Worm Moon)
  • अप्रैल - पिंक मून (Pink Moon)
  • मई - फ्लावर मून  (Flower Moon)
  • जून - स्ट्रॉबेरी मून (Strawberry Moon)
  • जुलाई - बक मून (Buck Moon)
  • अगस्त - स्टर्जन मून (Sturgeon Moon)
  • सितंबर - कॉर्न मून (Corn Moon)
  • अक्टूबर - हंटर्स मून (Hunter's Moon)
  • नवंबर - बेवर मून (Beaver Moon)
  • दिसंबर - कोल्ड मून (Cold Moon) 

Recommended Video

अन्य देशों में पूर्णिमा के नाम

विश्व की विभिन्न संस्कृतियों और देशों में पूर्णिमा के कई नाम हैं। जापान में पूर्णिमा को सुकुमी नाम से जाना जाता है। इसका मतलब चांद को देखना होता है। वैसे आम तौर पर इसे हार्वेस्ट मून के नाम से जाना जाता है। वहीं कोरिया में इसे चुसेक कहा जाता है। इसी तरह चीन में यह मध्य शरद ऋतु के समारोह की तरह है। श्रीलंका में पूर्णिमा को पोया नाम से जाना जाता है। यहां हर पूर्णिमा का एक अलग नाम होता है।

इसे जरूर पढ़ें:Vat Purnima 2022: किस दिन रखा जाएगा वट पूर्णिमा का व्रत, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व जानें

13वें पूर्ण चंद्र को कहा जाता है ब्लू मून

जिस तरह लीप ईयर में फरवरी माह 28 की बजाय 29 दिनों का होता है, उसी तरह कई बार साल में 13 पूर्णिमा भी होती है। चंद्रमा को पृथ्वी की परिक्रमा (करवा चौथ के दिन क्यों लेट निकलता है चांद) करने में करीब 29.5 दिन लगते हैं। इसे चंद्र मास कहा जाता है। इस दौरान एक वर्ष में 12 पूर्ण चंद्रमा देखने को मिलते हैं। हालांकि चंद्र मास सौर या उष्णकटिबंधीय वर्ष में महीने से छोटा होता है। ऐसे में प्रत्येक दो से तीन साल के बीच एक साल में पूर्णिमा की संख्या बढ़ जाती है जो 12 से 13 हो जाती है। चूंकि यह कॉमन नहीं है, इसलिए इसे 12 पूर्ण चंद्रमा की तरह कोई खास नाम नहीं मिला है। ऐसे में इस चंद्रमा को ब्लू मून के तौर पर जाना जाता है।

आप भी पूर्ण स्ट्रॉबेरी मून को 14 जून की रात में देख सकते हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।