सोशल मीडिया पर आजकल रांची की एक लड़की ऋचा भारती छाई हुई हैं। जी हां ऋचा को एक धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में जेल में बंद किया गया था। 19 साल की ऋचा को सोमवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट मनीष कुमार सिंह की कोर्ट ने ऋचा भारती को एक अजीबो-गरीब सजा देते हुये सशर्त जमानत दे दी है। कोर्ट ने साफ कहा है कि ऋचा भारती अगर कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करेगी, तो उनकी जमानत रद्द कर दी जाएगी। सजा के परिणामस्‍वरूप ऋचा भारती का केस सोशल मीडिया चर्चित हैं।

इसे जरूर पढ़ें: तापसी पन्नू की इस बात से ट्विटर यूजर्स हुए खफा, जानिए उन्होंने क्या कहा

richa bharti newsinside

जज ने ऋचा भारती को सजा सुनाते हुए कहा है कि आरोपित को 15 दिनों के अंदर 5 कुरान बांटना होगा। जेल से बाहर निकलने के लिए ऋचा को सात हजार के दो निजी बांड जमा करने पड़े। कोर्ट के आदेश के अनुसार अरोपित लड़की को कुरान की एक प्रति शिकायतकर्ता सदर अंजुमन कमेटी, पिठोरिया व अन्य 4 प्रति रांची के सरकारी यूनि‍वर्सिटी या कॉलेज या स्कूलों में बांटनी होगी। कोर्ट ने रांची प‍ुलिस को हिदायत देते हुए यह भी कहा है कि कुरान की प्रति बांटने के दौरान वह उचित सुरक्षा मुहैया कराएं।

richa bharti court inside

गौरतलब है कि ऋचा भारती ने निचली अदालत के आदेश को मानने से साफ इन्कार करते हुए कहा, ''मैं कुरान बांटने नहीं जा रही हूं। हमारा परिवार निचली अदालत के इस आदेश से बिल्‍कुल खुश नहीं हैं। हम इस पर विचार कर रहा है। हम ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।''

इसे जरूर पढ़ें: यौन हिंसा के खिलाफ तकनीक को बनाइए अपना सबसे बड़ा हथियार, फोन की एक घंटी से पाएं मदद



ऋचा भारती से जब यह पूछा गया कि कोर्ट ने उन्हें इसी शर्त पर जमानत दी है। इसके उत्तर में ऋचा ने कहा, '' मैं कोर्ट का आदेश नहीं मानूंगी। आज मुझे कुरान बांटने के लिए बोल रहे हैं, कल बोलेंगे इस्लाम स्वीकार कर लो, नमाज पढ़ लो, कुछ और कर लो। यह कहां तक जायज है।''