कोरोना काल के इस मुश्किल परिस्थिति में जागरण न्यू मीडिया के लाइफस्टाइल और हेल्थ पोर्टल Onlymyhealth.com ने स्वास्थ्य-कर्मियों और संस्थानों के लिए HealthCare Heroes Awards का आयोजिन किया है। पहली बार वर्चुअल समारोह में Onlymyhealth.com ने उन वीमने हीरोज को सम्मानित किया जिन्होंने इस महामारी में अपने दम पर वो कर दिखाया जो समाज में महिला के बस की बात नहीं मानी जाती है। शाम 6 बजे आयोजित इस कार्यक्रम को Onlymyhealth के यूट्यूब चैनल पर देखा जा सकता है।

ज्यूरी पैनल

Health Minister

OnlyMyHealth द्वारा आयोजित हेल्थ केयर हीरोज अवॉर्ड्स 2020 में केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन शामिल हुए। वहीं इस खास मौके पर Onlymyhealth.com के संपादकीय विभाग की प्रमुख मेघा ममगैन ने ज्यूरी सदस्यों के साथ खास चर्चा की। जिसमें प्रोफेसर प्रिया अब्राहम, डॉक्टर संदीप नायर और मान्यता प्राप्त आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ स्वाति बथवाल जैसे सम्मानित और प्रतिष्ठित शख़्सियतों को शामिल किया गया था। इसके अलावा पद्म श्री और पद्म भूषण डॉक्टर नरेश त्रेहन, पद्म भूषण डॉक्टर टीएस किलर, पद्मश्री डॉक्टर केके अग्रवाल, प्रोफेसर रामकरण लक्ष्मीनारायण भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बनें।

इसे जरूर पढ़ें: हरजिंदगी के सेलिब्रेशन में प्रिया मलिक ने दीं लाइफ टिप्स, कहा- खुद की सोच में बदलाव है जरूरी

एडिडर सुपर हीरो अवॉर्ड मिला इन्हें

HealthCare Heroes Awards

सोनू सूद- बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद कोरोना काल में हजारों मजदूरों के लिए उम्मीद बनकर उभरे थे। उन्होंने गरीब और माइग्रेंट वर्कर्स को न सिर्फ उनके घर तक पहुंचने में मदद की बल्कि उनके लिए रोजगार के साधन भी जुटाए। सोनू सूद ने इस अवॉर्ड को लेते हुए सभी का शुक्रिया अदा किया और उन्होंने कहा कि यह हमें आगे बढ़ने और अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है। यह बताता है कि हमें मुश्किल वक्त में साथ आना चाहिए और बेहतर समाज के लिए बदलाव लाना चाहिए।

sonu sood

स्मृति ठक्कर- स्मृति ठक्कर पहली प्लाजमा डोनर हैं। स्मृति को कोरोना तब हुआ था, जब वह यूरोप से वापस लौटी थी। हालांकि अहमदाबाद के एक हॉस्पिटल में भर्ती होने के 17 दिन बाद वह कोरोना से पूरी तरह ठीक हो गई थी। 23 वर्षीय स्मृति ठक्कर की इस पहल से दुनियाभर के लोग प्लाज्मा डोनेट करने के लिए प्रोत्साहित हुए थे। सिर्फ 17 दिन में कोरोना वायरस को मात देकर स्मृति ठक्कर कोरोना वॉरियर बन गई हैं।

इसे जरूर पढ़ें: 3rd Anniversary: HerZindagi को पूरे हुए 3 साल

ज्योति पासवान- 13 साल की ज्योति पासवान ने वो कर दिया जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। साइकिल गर्ल ज्योति ने लॉकडाउन के दौरान अपने पिता को गुरुग्राम से दरभंगा तक साइकिल पर बिठाकर पहुंचाया था। मीडिया में इस खबर के आने के बाद न सिर्फ देश में बल्कि विदेशों में भी ज्योति के साहसिक कदम की चर्चा होने लगी। ज्योति ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें खाने-पीने की परेशानी का सामना करना पड़ा था, जिसके बाद उन्होंने अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर दी।

वहीं इस खास मौके पर जागरण न्यू मीडिया के सीईओ भरत गुप्ता ने बताया कि हम सभी इस मुश्किल वक्त से गुजर रहे हैं। जहां लोगों को एंग्जाइटी, डर और परेशानी जैसी चीजों का सामना करना पड़ रहा है। हर सुबह हम एक उम्मीद लेकर उठते हैं कि जल्द ही इस परिस्थिति से बाहर निकलेंगे। हमारे पास सिर्फ एक उम्मीद है, जिससे हम अपनी लाइफ को बेहतर बना सकते हैं। इसी कड़ी में हेल्थ केयर हीरोज अवॉर्ड एक कैंपेन है उन सभी कोरोना वॉरियर्स के लिए हैं जिन्होंने इस मुश्किल वक्त में हार नहीं मानी।