हिंदू धर्म में सूर्य और चंद्रमा की गति और राशियों में अपना स्‍थान बदलने के कारण होने वाले परिवर्तनों को बहुत अधिक महत्‍व दिया गया है। इनमें से कुछ से लोगों की आस्‍था जुड़ी होती है तो कुछ परिवर्तनों को नक्षत्रों से जोड़ कर भी देखा जाता है। ऐसा ही एक परिवर्तन आज 25 मई 2021 से होने वाला है। 

आज से नौतपा प्रारंभ हो रहा है। यह हर वर्ष ग्रीष्‍म ऋतु में पड़ता है। इस बार नौतपा वैशाख शुक्‍ल की चतुर्दशी से प्रारंभ हो रहा है। उज्‍जैन के पंडित मनीष शर्मा जी कहते हैं, ' आज से 9 दिन तक नौतपा के कारण पृथ्‍वी पर गरमी चरमसीमा पर होगी और तेज गरम हवाएं चलेंगी।'

 tapa  dates

क्‍या होता है नौतपा 

जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है तब नौतपा पड़ता है। इस दौरान 10 दिन तक सूर्य रोहिणी नक्षत्र का भ्रमण करता है। रोहिणी नक्षत्र का स्‍वामी चंद्रमा होता है और इस नक्षत्र में चंद्रमा उच्‍च का होता है। जब इस नक्षत्र में सूर्य का आगमन होता है तो गर्मी अपने चरमसीमा पर पहुंच जाती है। ऐसा भी माना गया है कि यह नक्षत्र पृथ्‍वी के नजदीक होता है और सूर्य का इसमें प्रवेश होने पर वह पृथ्‍वी के बेहद करीब आ जाता है। इस वजह से गर्मी बढ़ जाती है। 

इसे जरूर पढ़ें: साप्ताहिक राशिफल: कैसा बीतेंगे 24-30 मई 2021 तक के दिन , पंडित जी से जानें

nautapa kya hai

कब से कब तक रहेगा नौतपा 

वैसे तो सूर्य रोहिणी नक्षत्र का भ्रमण 15 दिनों तक करता है मगर इन 15 दिनों में 9 दिन सबसे अधिक गरम होते हैं। 10वें दिन से गर्मी में राहत मिलना शुरू होती है और फिर बारिश का दौर शुरू हो जाता है। पंडित जी कहते हैं, 'बीते दिनों ताऊ ते तूफान के कारण देश के समुद्री इलाकों में जहां खूब तबाही हुई वहीं देश के अन्‍य हिस्‍सों का मौसम काफी ठंडा हो गया। हालांकि, वैज्ञानिकों की मानें तो इस तुफान का असर देश में 22 मई तक रहेगा। मगर ज्‍योतिष शास्‍त्र के आधार पर नौतपा के शुरू होते ही ठंडक गर्मी में बदल जाएगी। '

इस बार सूर्य रोहिणी नक्षत्र में 25 मई को सुबह 8 बजे से शुरू होकर 8 जून को सुबह 7 बजे तक रहेगा और नौतपा 25 मई से 2 जून तक पड़ेगा। 

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: देवी लक्ष्‍मी की कृपा चाहती हैं तो सही दिशा में रखें तुलसी का पौधा

nautapa astrological prediction

नौतपा पड़ने का कारण 

नौतपा के लिए कहा जाता है कि यह पृथ्‍वी के लिए सबसे ज्‍यादा गरम दिन होते हैं। इस दौरान तेज लू चलती है और बारिश भी नहीं होती है। पंडित जी कहते हैं, 'नौतपा के बारे में श्रीमद्भागवत गीता में भी जिक्र मिलता है। इस दौरान वृषभ राशि में चार ग्रहों की युति होती है और सूर्य रोहिणी नक्षत्र से वृषभ राशि में 10 से 20 के अंश पर होता है। ऐसे में पृथ्‍वी का तापमान बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों की मानें तो इस दौरान सूर्य की किरणें पृथ्‍वी पर सीधी पड़ती हैं और इन्‍हें सहन करना मुश्किल होता है।'

Recommended Video


क्‍या होगा इस वर्ष नौतपा का असर

पंडित जी कहते हैं, ' नौतपा के आरंभ में चार ग्रह सूर्य, बुध, शुक्र व राहु वृषभ राशि में होंगे। ऐसे में विश्‍व में दुर्घटनाएं बढ़ेंगी ओर जन-धन की हानि भी होगी। किसी नए रोग के फैलने की भी आशंका है। मगर नौतपा के खत्‍म होते ही देश में इस साल खूब बारिश होगी।'


यह जानकारी आपको अच्‍छी लगी हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें और साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik