Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Margashirsha Purnima 2022: मार्गशीर्ष पूर्णिमा का क्या है भगवान दत्तात्रेय से संबंध? इस दिन करने चाहिए से उपाय

    आज हम आपको मार्गशीर्ष पूर्णिमा के उपायों और पूर्णिमा का भगवान दत्तात्रेय से संबंध बताने जा रहे हैं।  
    author-profile
    • Gaveshna Sharma
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-06,14:51 IST
    Next
    Article
    margshirsha purnima ke upay

    Margashirsha Purnima 2022: हिन्दू धर्म में पूर्णिमा का अत्यधिक महत्व है। पूर्णिमा तिथि पर भगवान श्री कृष्ण, माता लक्ष्मी और चंद्रदेव की पूजा का विधान है। इसी कड़ी में 7 दिसंबर, दिन बुधवार को मार्गशीर्ष पूर्णिमा पड़ने जा रही है।

    ऐसे में हमारे ज्योतिष एक्सपर्ट डॉ राधाकांत वत्स द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर आज हम आपको मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन किये जाने वाले उपायों और मार्गशीर्ष पूर्णिमा का भगवान दत्तात्रेय से संबंध बताने जा रहे हैं।  

    मार्गशीर्ष पूर्णिमा 2022 उपाय (Margashirsha Purnima 2022 Upay)

    margashirsha purnima  upay

    जीवन में सफलता पाने के लिए

    मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन चंद्र देव को कच्चे दूध में चीनी और चावल मिलाकर 'ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:' मंत्र का जप करते हुए अर्घ्य दें। इससे नौकरी और व्यवसाय में सफलता मिल सकती है।

    इसे जरूर पढ़ें: Margashirsha Purnima 2022: पूर्ण चांद के साथ इस मुहूर्त में दस्तक देगी मार्गशीर्ष माह की पूर्णिमा  

    धन लाभ के लिए

    पूर्णिमा के दिन प्रातः पीपल के पेड़ में जल और पांच तरह की मिठाई अर्पित करें। इसके अलावा, घी का दीपक जलाकर पीपल के पेड़ की परिक्रमा लगाएं। इससे मां लक्ष्मी (मां लक्ष्मी की पूजा के नियम) का आशीर्वाद प्राप्त होगा और धन लाभ के आसार बनते दिखेंगे। 

    घर में सुख-समृद्धि के लिए

    पूर्णिमा के इन सुबह की पूजा के समय मां लक्ष्मी को 11 कौड़ियां हल्दी (हल्दी के उपाय) लगाकर अर्पित करें और कनकधारा स्तोत्र का पाठ करें। इससे घर में सुख-समृद्धि का वास बना रहेगा।

    अटके कार्य संपन्न करने के लिए

    मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करें और संध्या आरती के समय कपूर और लौंग जलाकर उनकी आरती उतारें। इससे अटके हुए सभी काम बनने लग जाएंगे।

    मार्गशीर्ष पूर्णिमा और भगवान दत्तात्रेय (Margashirsha Purnima And Lord Dattatreya)

    lord dattatreya

    • पौराणिक कथा के अनुसार, मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन भगवान दत्तात्रेय का जन्म हुआ था। भगवान दत्तात्रेय त्रिदेवों अर्थात ब्रह्मा, श्री हरि विष्णु और भगवान शिव के अंश हैं।
    • माना जाता है कि अगर मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन भगवान दत्तात्रेय की पूजा की जाए तो इससे त्रिदेवों का आशीर्वाद एक साथ प्राप्त होता है।
    • भगवान दत्तात्रेय कि कृपा से व्यक्ति को जीवन में कष्टों से निकलने का समाधान प्राप्त होता है। भगवान दत्तात्रेय की कृपा से घर हमेशा उन्नति की डगर पर अग्रसर रहता है।

    तो ये थे मार्गशीर्ष पूर्णिमा के उपाय और मार्गशीर्ष पूर्णिमा का भगवान दत्तात्रेय से संबंध। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। आपका इस बारे में क्या ख्याल है? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। 

    Image Credit: Freepik, Shutterstock, Pinterest

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।