बचपन में 26 जनवरी आने का खूब एक्साइटमेंट रहता था। देश के लिए झंडा बनाना, देशभक्ति के गाने सुनना, स्वतंत्रता सेनानियों के किस्से सुनना बहुत रोमांचक लगता था। आजादी के गानों पर नाच-गाकर, नाटकों में हिस्सा लेकर भीतर से खुशी का अहसास होता था। आज के समय में देश की आजादी का जश्न और भी भव्य तरीके से मनाया जाता है। हर गली-मोहल्ले में लोग इकट्ठे होते हैं, देशभक्ति के गीत गाते हैं और झंडारोहण को कार्यक्रम होता है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है और बच्चों के लिए ढेर सारी फन एक्टिविटी भी होती हैं। इस दौरान हमें इस बात पर ध्यान देना जरूरी है कि क्या बच्चे इससे कुछ सीख रहे हैं या नहीं। आजादी का जश्न सिर्फ देश की एतिहासिक गाथा के बारे में नहीं बताता, यह आपके बच्चे को बहुत कुछ सिखाता भी है। आइए जानें कि बच्चे के साथ देश की आजादी का जश्न मनाकर आप उसे कौन-कौन सी सीख दे सकती हैं-

बताएं आजादी के मायने

independence children inside

देश की महान विभूतियों जैसे बनें बच्चे

देश की आजादी से ही देश के हर नागरिक की आजादी जुड़ी है। बच्चों के लिए आजाद होना कितनी महत्वपूर्ण है और आजादी के अधिकार का इस्तेमाल जिम्मेदार तरीके से कैसे किया जा सकता है, आप इस बारे में महिलाएं अपने बच्चों को बता सकती हैं। स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जिंदगी की कुर्बानियां देकर देश की आजादी सुनिश्चित की। देश की आजादी का जज्बा उन वीर शहीदों के लिए कितना अहम था, इस बारे में आपको बच्चों को बताना चाहिए।

जवाहर लाल नेहरू, बाल गंगाधर तिलक, महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, बिपिन चंद्र पाल, लाला लाजपत राय, चंद्रशेखर आजाद जैसी देश की महान विभूतियों के बारे में जब आप अपने बच्चों को बताएंगी तो उनकी शख्सीयत से वे भी प्रेरित होंगे और देश के लिए कुछ कर दिखाने की चाह उनके मन में जागेगी।

Read more : डियर मॉम्स जब आपके बच्चों को आ जाए गुस्सा तो इस तरह बनाएं उन्हें कूल

बच्चों को दें सही दिशा

देश के लिए डेडिकेटेड होने की भावना बच्चों को एक बड़ा मकसद दे सकती है, जिससे वे मेहनत करने और अपने काम को बेहतर बनाने के लिए प्रेरित होंगे। इससे बच्चे छोटी-छोटी मुश्किलों से घबराने के बजाय बच्चे उत्साहित होकर बड़े काम पूरे करने के बारे में सोचते हैं, खुद को अनुशासित बनाते हैं और अच्छी आदतें विकसित करते हैं।

बच्चों को सिखाने से उनके अंदर बचपन से ही जिम्मेदारी का भाव पैदा हो जाता है और बड़े होने पर खुद को सार्थक भूमिकाओं के लिए तैयार करने में सफल होते हैं। तो इस गणतंत्र दिवस पर बच्चों को आजादी के महत्व के बारे में जरूर बताएं और हंसी-खुशी के साथ इस दिन को सेलिब्रेट करें।