• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

माघ पूर्णिमा 2022: जानें कब है माघ पूर्णिमा, पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व

आइए जानें इस साल कब मनाई जाएगी माघ महीने की पूर्णिमा और इस दिन पूजन और दान-पुण्य का क्या महत्व है। 
author-profile
Published -09 Feb 2022, 15:33 ISTUpdated -09 Feb 2022, 15:43 IST
Next
Article
magh purnima shubh muhurat

सनातन धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व है। ऐसा माना जाता है कि किसी भी पूर्णिमा तिथि में चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से युक्त होता है इसलिए इस दिन चंद्रमा की किरणों से अमृत बरसता है। प्रत्येक महीने में एक पूर्णिमा तिथि होती है और पूरे साल में 12 पूर्णिमा तिथियां होती हैं।

प्रत्येक पूर्णिमा तिथि का अपना अलग महत्व है लेकिन माघ के महीने में होने वाली पूर्णिमा तिथि विशेष रूप से मायने रखती है। माघ महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा तिथि के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने को अत्यंत शुभ माना जाए है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन जो व्यक्ति गंगा जैसी पवित्र नदियों में स्नान करता है उसकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और उसे समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। आइए प्रख्यात ज्योतिर्विद पं रमेश भोजराज द्विवेदी जी से जानें इस साल कब मनाई जाएगी माघी पूर्णिमा  और इसका क्या महत्व है। 

माघ पूर्णिमा तिथि एवं शुभ मुहूर्त 

magh purnima muhurat date

  • माघ पूर्णिमा तिथि आरंभ: 16 फरवरी 2022, बुधवार प्रातः 09:42 पर 
  • पूर्णिमा तिथि समापन: 16 फरवरी 2022, बुधवार रात्रि  10: 55 मिनट पर
  • शोभन योग: रात्रि 16 फरवरी 2022, 08: 43 मिनट तक 

माघी पूर्णिमा के दिन पवित्र स्नान का महत्व 

ganga snan magh purnima

पुराणों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि माघी पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु गंगा नदी के जल में निवास करते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से युक्त होकर अमृत की वर्षा करते हैं। इसलिए इसके अंश पृथ्वी की समस्त चीजों पर होते हैं जैसे वृक्षों, नदियों, जलाशयों और वनस्पतियों में पड़ते हैं। ऐसा कहा जाता है कि चन्द्रमा की किरणों से पूर्णिमा तिथि के दिन सभी पापों और रोगों से मुक्ति मिलती है। ज्योतिष के अनुसार माघ पूर्णिमा में स्नान दान करने से सूर्य और चंद्रमा युक्त सभी दोषों से मुक्ति मिलती है। इसलिए इस दिन गंगा नदी में जरूर स्नान करना चाहिए। गंगा जैसी किसी भी पवित्र नदी का स्नान माघी पूर्णिमा के दिन आपके लिए मोक्ष का द्वार खोलता है। शास्त्रों में इस बात का जिक्र भी है कि माघी पूर्णिमा के दिन चूंकि नदियों में भगवान विष्णु का वास होता है इसलिए इस दिन नदी स्नान से विष्णु जी की पूर्ण कृपा प्राप्त होती है। 

Recommended Video

माघ पूर्णिमा के दिन दान पुण्य का महत्व 

माघ पूर्णिमा के दिन विशेष रूप से गरीबों को भोजन कराना चाहिए और दान पुण्य करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति इस दिन अपनी सामर्थ्य अनुसार दान पुण्य करता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। कहा जाता है माघ पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें:वास्तु टिप्स: घर में आने वाली मुसीबतों से छुटकारा दिलाएंगे गंगाजल के ये 7 उपाय

माघ पूर्णिमा के दिन क्या करें 

magh punima puja vidhi

  • माघ पूर्णिमा के दिन प्रातः जल्दी उठकर पवित्र नदी में स्नान करें। 
  • यदि आप नदी में स्नान करने में असमर्थ हैं, तो स्नान करते समय पानी में गंगाजल की कुछ बूंदें डालें। 
  • माघ पूर्णिमा व्रत नियमों का पालन करें। यदि आप व्रत करते हैं तो दिनभर फलाहर ग्रहण करें और यदि व्रत नहीं कर रहे हैं तब भी तामसिक भोजन न करें। 
  • इस दिन भगवान विष्णु की पूजा का भी विशेष महत्व होता है। 
  • इस दिन सत्य नारायण की कथा का भी विशेष महत्त्व है। इसलिए यदि आप सपरिवार कथा सुनेंगे तो ये अत्यंत फलदायी होगा। 
  • विष्णु जी का पूजन और आरती करें तथा सत्यनारायण कथा करके प्रसाद वितरण करें। 
  • गरीबों और जरूरतमंदों को सामर्थ्य अनुसार दान दें। 

इस प्रकार माघ महीने की पूर्णिमा तिथि में स्नान, दान पुण्य तथा विष्णु पूजन से लाभ मिलता है अतः उपरोक्त विधि से पूजन करें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: freepik,pixabay  and unsplash 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।