जब किसी महिला की नई-नई शादी होती है, तो वह सभी रस्मों को निभाती है और सारे रिवाज़ पूरे करती है। पति की लंबी उम्र के लिए तरह-तरह के व्रत रखना और रस्म निभाना सभी महिलाओं को पसंद होता है। लेकिन जैसे-जैसे शादी को अधिक समय बीत जाता है, वैसे ही रस्मों का उत्साह कम होने लगता है। वैवाहिक महिलाएं सभी रस्मों को हमेशा तो नहीं निभा पाती हैं, लेकिन कुछ ऐसी रस्में होती हैं जिन्हें वह हमेशा निभाती हैं। इसमें बिंदी, सिंदूर और चूड़ियां आदि भी शामिल हैं। समय के साथ-साथ उत्साह भले ही कम हो जाता है, लेकिन फिर भी महिलाएं अनुष्ठानों का पालन करती हैं। गहने पहनना हर महिला को पसंद होता है, लेकिन क्या आप जानती हैं कि इसके पीछे क्या कारण है? यहां हम आपको बताएंगे कि वह कौन-सी रस्में हैं, जिन्हें वैवाहिक महिलाएं हमेशा निभाती हैं।

सिंदूर और बिंदी

 rituals inside

लाल रंग का सिंदूर और बिंदी वैवाहिक महिला को अवैवाहिक महिला से अलग दर्शाते हैं। लाल रंग वैवाहिक भारतीय महिलाओं के लिए कोई नई बात नहीं है, क्योंकि यह शुभ माना जाता है। सिंदूर लगाने से पति की उम्र लंबी होती है, यह बात हमेशा कही जाती है। लाल रंग की बिंदी और सिंदूर इसलिए भी लगाए जाते हैं, क्योंकि महिलाएं मासिक धर्म निभाती हैं और उनका रक्त भी लाल रंग का होता है। लाल रंग स्त्री के लिए स्वस्थ बने रहना और शक्ति का प्रतीक है। यह रंग समानता का प्रतीक है और जाति, धर्म, रंग आदि की परवाह किए बिना सभी महिलाएं भगवान की शक्ति का अवतार हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Karwa Chauth 2020: इन यूनिक आईडियाज से बनाएं पहले करवा चौथ को कुछ ख़ास

बिछिया (Toe Ring) 

 newinside

वैवाहिक महिलाएं यह दर्शाने के लिए हमेशा ही पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनकर रखती हैं। किसी भी वैवाहिक महिला के पैरों से यह पता चलता है कि उसकी शादी हो चुकी है। पैरों में चांदी की बिछिया असल में इसलिए पहनी जाती हैं, क्योंकि यह यौन शक्ति बढ़ाने में मदद करता है। अकसर पुरुष भी पैरों में एक चांदी या तांबे का छल्ला पहनते हैं, जिससे उनकी यौन शक्ति बढ़ सके। महिलाएं दोनों पैरों की उंगलियों में बिछिया इसलिए भी पहनती हैं, क्योंकि यौन संबंध के समय होने वाली पीड़ा इससे कम होने लगती है। बिछिया से पैर भी दिखने में सुंदर लगते हैं, इसके अलावा एक्यूप्रेशर की समस्या के लिए भी पैरों में चांदी की बिछिया पहनी जाती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Karwa chauth 2020: हर सुहागन महिला को जरूर जाननी चाहिए करवा चौथ से जुड़ी ये ख़ास बातें

Recommended Video

चूड़ियां 

 rituals inside

हर वैवाहिक माहिला चूड़ियां हमेशा पहनती है। यह दिखने में काफी सुंदर तो लगती ही हैं, बल्कि आपके हाथ का रक्त संचार बढ़ाने में मदद करती हैं। महिलाएं जब भी घर का काम करती हैं, तो हाथों का इस्तेमाल हमेशा किया जाता है इसके साथ-साथ चूड़ियां भी कलाई पर चलती रहती हैं। यह प्रचलन इसलिए ही चलाया गया था, जिससे महिलाएं अपने रक्त प्रवाह को बेहतर बना सकती हैं। अपने घर के सभी काम को करने के लिए हाथों के रक्त प्रवाह को बेहतर बनाए रखने के लिए चूड़ियां पहनना जरूरी माना जाता है। इसके अलावा जब वैवाहिक महिला मां बनने वाली होती है, तो उसे चूड़ियां पहनाई जाती हैं जिससे बच्चे का स्वास्थ बेहतर बनता है। घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर करने के लिए भी चूड़ियां पहनी जाती हैं, क्योंकि इनकी खनक से घर में सकारात्मकता आती है।

इन सभी रस्मों के बारे में जानने के बाद आप इन्हें हमेशा जरूर अपनाएंगी। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें और ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: pinimg, Instagram