तनिष्क एक ज्वेलरी ब्रांड है जिसे लोग काफी पसंद करते हैं, लेकिन अब यह सोशल मीडिया पर बॉयकॉट हो रहा है। इसका कारण तनिष्क का एड है, जिसमें दो अलग-अलग धर्मों में रिश्ता दिखाया गया है। इस एड को लेकर सोशल मीडिया पर एक जंग सी छिड़ गई है और हिंदू-मुस्लिम धर्मों से जुड़ा होने के कारण, लोग इसे लव जिहाद का नाम दे रहे हैं। कई लोगों ने तो यह भी पूछा है कि क्या हमारी संस्कृति ऐसी हो गई है कि हमें इस तरह के विज्ञापन देखने को मिल रहे हैं? न सिर्फ आम लोग बल्कि बॉलीवुड के सितारे भी इस एड के खिलाफ सवाल उठा रहे हैं और लगातार ट्वीट कर रहे हैं।

विज्ञापन में क्या था?

tanishq inside

यह एड 9 अक्टूबर को रिलीज किया गया था, जिसमें हिंदू लड़की गर्भवती दिखाई गई है और उसकी शादी एक मुस्लिम परिवार में हुई है। इसके बाद लड़की की सास उसे गहने पहनाती है, गोद भराई करती है। अगले ही सीन में बहू अपनी सास से पूछती है कि उनके घर में तो ये रस्म नहीं होती ना? इसका जवाब देते हुए सास बोलती है कि लड़की को खुश रखना भी ट्रेडिशन का हिस्सा है। लोग इसे लव जिहाद बता रहे हैं गुस्से के कारण तनिष्क ब्रांड को ही बॉयकॉट करने के लिए, एकजुट हो गए हैं।  

इसे जरूर पढ़ें: Bigg Boss 14: खुद को सिंगल बताने वाली सारा गुरपाल का 'वेडिंग सर्टिफिकेट' हो रहा है वायरल

कंगना के साथ आम जनता ने भी उठाए सवाल 

तनिष्क ज्वेलरी के एड के बाद कंगना रानौत ने ट्वीट करके कहा है कि 'इस एड में एक हिंदू बहु है, जिसे यह सवाल पूछना पड़ रहा है कि आपके यहां ये रस्म नहीं होती न? क्या यह घर उसका नहीं है और क्या वह इस घर की सदस्य नहीं है?' इतना ही नहीं कंगना ने कहा कि 'हिंदू लड़की ससुराल में आने के बाद इतनी डरी हुई क्यों है?' कंगना ने लिखा कि 'यह एड न सिर्फ लव-जिहाद को बढ़ावा दे रहा है, बल्कि इसमें सेक्सिज्म भी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हिंदू बहु मुस्लिम परिवार का उत्तराधिकारी ले जा रही है।'

इसे जरूर पढ़ें: Bigg Boss 14: कोविड-19 के इस दौर में बिग बॉस कंटेस्‍टेंट्स को मिलगी इस बात की पूरी छूट

Recommended Video

शशि थरूर ने किया एड को सपोर्ट

इस एड के बाद तमाम लोगों ने इसके खिलाफ आवाज उठाई, लेकिन शशि थरूर ने इसे सही बताया है और सपोर्ट किया है। शशि थरूर ने लिखा कि "हिंदुत्व के लोगों ने इस खूबसूरत विज्ञापन के माध्यम से हिंदू-मुस्लिम एकता को उजागर करने के लिए, तनिष्क को बॉयकॉट किया है। अगर हिंदू-मुस्लिम का एकत्वम उन्हें बहुत परेशान करता है, तो वे दुनिया में सबसे लंबे समय तक रहने वाले, 'हिंदू-मुस्लिम एकता' के प्रतीक को बहिष्कार क्यों नहीं करते हैं?- भारत" कई लोगों ने खिलाफ बोला है, तो कई लोगों का मानना है कि हिंदू-मुस्लिम में एकता दिखाने की कोशिश की गई है।

हालांकि तनिष्क के इस एड को हटा दिया गया है लेकिन आपकी इस विज्ञापन के बारे में क्या राय है? यह हमें फेसबुक पेज पर जरूर बताएं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: