कुछ लोगों की यह आदत होती है कि वह अपने निजी जीवन को किसी के साथ भी शेयर नहीं करना चाहते, भले ही वह उनका प्यार या जीवनसाथी क्यों न हो। जहां कुछ लोगों को लगता है कि इससे उनका पार्टनर दुखी या परेशान होगा, वहीं कुछ लोगों को अपनी बातें खुद तक ही सीमित रखना पसंद होता है। ऐसे पार्टनर के साथ डील करना आसान नहीं होता, क्योंकि आप उस व्यक्ति के साथ रहकर भी उसे पूरी तरह से नहीं जान पातीं। यकीनन अपने पल-पल की खबर पार्टनर को देना किसी भी व्यक्ति के लिए संभव नहीं है, लेकिन फिर भी रिश्ते में थोड़ी ट्रांसपेरेंसी व ईमानदारी तो होनी ही चाहिए। हम यह नहीं कह रहे कि सीक्रेटिव पार्टनर वास्तव में आपको धोखा दे रहा हो, इसके अन्य भी कई कारण हो सकते हैं। लेकिन उसका यह व्यवहार आपको काफी परेशान कर सकता है। अगर आप भी अपने पार्टनर की इस आदत से परेशान हैं तो उसे कुछ इस तरह हैंडल कर सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: Relationship Tips: ये 5 बातें पार्टनर के दिल में आपके लिए फिर से प्यार जगा देंगी

करें बात

know how to deal with a secretive partner inside

किसी भी रिश्ते में कम्युनिकेशन सबसे अहम् होता है। बातचीत के जरिए आप हर मुद्दे को आसानी से सुलझा सकती हैं। अगर आप अपने पार्टनर की इस आदत से परेशान है तो बेहतर होगा कि आप मन ही मन दुखी होने की बजाय अपने पार्टनर से इस बारे में बात करें। उसे बताएं कि उसकी इस आदत के कारण आपको कितना बुरा लगता है या फिर जब उनकी बातें आपको दूसरों से पता चलती हैं तो आप कैसा फील करती हैं। इतना ही नहीं, उनके इस व्यवहार से आप दोनों के रिश्ते पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। जब आप सीधे अपने पार्टनर से इस बारे में बात करेंगी तो यकीनन वह आपके मन की बात समझेंगे और अपनी आदत में बदलाव करने की कोशिश करेंगे।

समझें परेशानी

know how to deal with a secretive partner inside

जिस तरह आप अपने मन की बात उन्हें बताएंगी तो हो सकता है कि वह भी अपने इस व्यवहार का कारण आपको बता दें। कई बार अतीत के बुरे अनुभव, फाइंनेशियल स्थिति, लो सेल्फ एस्टीम व अन्य कई कारणों से भी व्यक्ति की आदत अपनी बातों को छिपाकर रखने की हो जाती हैं। ऐसे में उन्हें समझें और थोड़ा वक्त दें। साथ ही उन्हें यह भी विश्वास दिलाएं कि आप हर अच्छे-बुरे वक्त में उनके साथ हैं और इसलिए वह दिल खोलकर अपने मन की बात आपसे शेयर कर सकते हैं।

परखें हाव-भाव

know how to deal with a secretive partner inside

कई बार ऐसा होता है कि व्यक्ति अपने पार्टनर को धोखा दे रहा होता है और इसलिए वह बातों को छिपाकर रखता है। मसलन, अगर लड़के की सगाई हो गई है या वह शादीशुदा है तो वह कभी भी अपनी गर्लफ्रेंड को घरवालों या रिश्तेदारों से नहीं मिलवाना चाहेगा। ऐसे में अगर आपके बात करने के बाद वह उसे टालते हैं या फिर असहज हो जाते हैं या फिर बिना वजह गुस्सा करने लगते हैं तो यह खतरे की घंटी है। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने पार्टनर पर थोड़ा नजर रखें। 

इसे भी पढ़ें: Relationship Tips: कसौटी जिंदगी की 2 से लीजिए रिलेशनशिप मजबूत बनाने के टिप्स

काउंसिलिंग की मदद

know how to deal with a secretive partner inside

यह एक अंतिम स्टेप है और आपको इस कदम की जरूरत तब पड़ेगी, जब आपकी स्वयं की कोशिशें किसी काम न आएं। प्रोफेशनल हेल्प की मदद से आपको अपने पार्टनर की वास्तविक परेशानी के बारे में पता चलेगा। साथ ही उसे दूर करने के तरीकों के बारे में भी। काउंसिलिंग की मदद से यकीनन आप अपने रिश्ते को काफी हद तक बेहतर बना सकती हैं।