एक मां के लिए उसका बच्चा दुनिया में सबसे अनमोल है। अपनी ममता की छांव में मां बच्चे को दुनिया की कड़ी धूप से बचाकर रखना चाहती है। हम सभी अमूमन ऐसा ही करती हैं। बच्चा किसी गलत संगत में ना पड़े, उसे कोई बुरी आदत ना लगे, यहां तक कि बाहरी दुनिया में कोई उसे परेशान ना कर सके, इसके लिए अक्सर मां उसकी ढाल बनकर रहती है। आप भी बच्चे को लेकर प्रोटेक्टिव होंगी। उसके दोस्तों से लेकर उसके द्वारा की जाने वाली एक्टिविटी पर नजर रखती होंगी। यह जरूरी भी है। आखिरकार बच्चे की परवरिश का जिम्मा पैरेंट्स का ही होता है। लेकिन कभी-कभी आपका प्यार या चिंता बच्चे के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। जी हां, बच्चे को लेकर प्रोटेक्टिव होना लाजमी है, पर आपकी यह चिंता कब ओवर-प्रोटेक्टिवनेस बन जाती है, इसका उन्हें खुद भी पता नहीं चलता। अगर आप एक ओवर-प्रोटेक्टिव मां है तो इससे ना सिर्फ बच्चे को अजीब सी घुटन का अहसास होता है, बल्कि इससे उसके व्यक्तित्व पर भी नकारात्मक असर पड़ता है, क्योंकि वह कभी भी खुद से कुछ नहीं कर पाता। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जो यह बताते हैं कि आप वास्तव में ओवर प्रोटेक्टिव पैरेंट हैं-

दोस्त चुनना

 possesive parents inside

कहते हैं कि दुनिया में दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है, जिसे हम खुद चुनते हैं। लेकिन ओवर-प्रोटेक्टिव पैरेंट्स के बच्चों को खुद से दोस्त चुनने का मौका नहीं मिलता। अगर आप भी अपने बच्चे को खुद से किसी से दोस्ती करने से रोकती हैं और उसके दोस्त भी खुद चुनती हैं तो यह एक संकेत हैं कि आप एक ओवर-प्रोटेक्टिव मां है।

इसे जरूर पढ़ें: पेरेंटिंग के ये 5 इफेक्टिव टिप्स जो करेंगे आपके बच्चे का बेहतर विकास

हमेशा डायरेक्शन देना

 new possesive parents inside

यूं तो बच्चे अपने माता-पिता के कहे अनुसार कार्य करते हैं, लेकिन ओवर-प्रोटेक्टिव पैरेंट्स हमेशा ही अपने बच्चे को डायरेक्शन देते रहते हैं कि उन्हें क्या करना है और क्या नहीं। ऐसे पैरेंट्स कभी भी बच्चों के दम पर कोई एक्टिविटी करने की परमिशन नहीं देते हैं।

हर वक्त निगरानी रखना

 possesive parents inside

यह एक बेहद महत्वपूर्ण संकेत है, जो यह बताता है कि आप एक ओवर-प्रोटेक्टिव पैरेंट्स हैं। बच्चे की एक्टिविटी पर नजर रखना हर माता-पिता के लिए जरूरी है। लेकिन ओवर-प्रोटेक्टिव पैरेंट्स बच्चे की गतिविधियों पर जरूरत से ज्यादा ही नजर रखते हैं। मसलन, बिना किसी कारण उसके बैग से लेकर अलमारियों को चेक करना, बच्चे की अनुपस्थिति में उसके मोबाइल को खंगालना या फिर वह किससे क्या बात कर रहा है, ऐसी हर छोटी-छोटी बातों पर नजर रखने वाले पैरेंट्स वास्तव में ओवर-प्रोटेक्टिव होते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: हर महिला के सामने आते हैं यह पैरेंटिंग चैलेंज, आप पहले से ही रहें तैयार

Recommended Video

हरदम साथ रहना

 possesive parents inside ()

एक ओवर-प्रोटेक्टिव मां कभी भी बच्चे को उसके दोस्तों के घर जाने की परमिशन तब तक नहीं देगी, जब तक वह खुद उसके साथ ना हो। चाहे वह पार्क में खेले या फिर दोस्तों के साथ टाइम बिताएं, ओवर प्रोटेक्टिव मां हरवक्त उसके साथ रहने की कोशिश करेगी। इतना ही नहीं, अगर मां उसके साथ नहीं है, तो वह हर थोड़ी-थोड़ी देर में उसे कॉल करके यह जानने की कोशिश करेगी कि वह कहां है और क्या कर रहा है। हो सकता है कि मां के सवालों से बच्चा काफी परेशान भी हो जाए।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik