जब दो लोग एक रिश्ते में जुड़ते हैं तो प्यार के साथ-साथ तकरार होना भी लाजमी है। दरअसल, कभी भी दो लोगों का स्वभाव और उनके सोचने का तरीका अलग होता है। इसलिए वह एक ही स्थिति को अलग-अलग तरीके से देखते हैं। हो सकता है कि किसी एक विषय पर उन दोनों की राय अलग-अलग हो। इतना ही नहीं, दो अलग स्वभाव के लोग जब एक साथ रहते हैं तो उनके बीच एक-दूसरे के स्वभाव, आदतों को लेकर शिकायतें होती हैं। यह स्वाभाविक है। बस फर्क इतना होता है कि हैप्पी कपल्स एक-दूसरे की शिकायतों को सुनते हैं और उसे दूर करने की कोशिश करते हैं, ताकि उनके रिश्ते में खुशियां यूं ही बनी रहें। वहीं, कुछ महिलाओं की समस्या यह भी होती है कि उनका पार्टनर उनकी बात सुनने या फिर परेशानियों को समझने की कोशिश ही नहीं करता। ऐसे में रिश्ते को बेहतर बनाने की सारी कोशिशें नाकाम हो जाती हैं, क्योंकि वह एक-दूसरे की परेशानियों को ना ही सुनने में रूचि रखते हैं और ना ही उसे समझते हैं। अगर आपके रिश्ते में भी यही समस्या होती है तो ऐसे में आप कुछ असान टिप्स अपना सकते हैं, जिसे अपनाने से आपका पार्टनर आपकी बात को सुनेगा-

सिर्फ बातचीत पर ही फोकस

 relationship complains inside

जब आप दोनों एक-दूसरे से अपने बीच की समस्याओं पर बात कर रहे हैं तो कोशिश करें कि ऐसा आप खाली वक्त में करें। मसलन, जब आप दोनों बात कर रहे हैं तो दोनों का ही ध्यान सिर्फ उस कनवर्सेशन पर हो। ऐसा ना हो कि एक पार्टनर अपने काम में बिजी हो या फिर उसे नींद आ रही हो। इस स्थिति में बात करने का कोई लाभ नहीं होगा।

रहें शांत

 relationship complains inside

यह एक महत्वपूर्ण स्टेप है, जिस पर अधिकतर कपल्स ध्यान नहीं देते और इसलिए उनके बीच बातचीत बेनतीजा रहती है। कई बार ऐसा होता है कि जब हम अपने पार्टनर से आपसी शिकायतों के बारे में बात करते हैं तो हमारी टोन काफी तेज हो जाती है या फिर हम गुस्सा करने लगते हैं। जब हम ऐसा करते हैं तो इससे सामने वाला व्यक्ति बात सुनने में कोई रूचि नहीं रखता। इसलिए क्रोध दिखाए बिना शांत रहें और अपने पार्टनर से बात करते समय अपनी आवाज को नरम करें।

इसे जरूर पढ़ें: इन संकेतों से पहचानें कि आपका पार्टनर वास्तव में आपका है ही नहीं

विषय से ना भटकें

 relationship complains inside

यह अक्सर कपल्स के बीच होता है। जब वह आपसी समस्या के बारे में बात करते हैं तो उस समय मुख्य मुद्दे पर बात करते-करते वे विषय से भटक जाते हैं और पुरानी बातों को लेकर कंप्लेंट करने लगते हैं। जिसके कारण उनका आपसी संवाद उनकी वास्तविक समस्या पर रह ही नहीं जाता। इससे ना तो वह अपनी समस्या पर बात कर पाते हैं और ना ही उसे दूर करने पर फोकस कर पाते हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि जब आप आपसी बातचीत करें तो सिर्फ और सिर्फ उन्हीं समस्याओं पर बात करें। 

इसे जरूर पढ़ें: रिलेशनशिप को रखना है मजबूत तो अपने पार्टनर को इन स्थितियों में बिल्कुल मैसेज ना करें

Recommended Video

सिर्फ शिकायतें नहीं

 relationship complains inside

जब आप अपने साथी से समस्याओं पर बात कर रही हैं तो यह भी जरूरी है कि आप सिर्फ और सिर्फ शिकायतें ना करें, बल्कि अपने साथी को यह भी बताएं कि वह इन चीजों को कैसे ठीक कर सकता है। यह सच है कि आप जैसा चाहती हैं, आपका साथी हमेशा वैसा व्यवहार नहीं कर सकता है, लेकिन कुछ चीजों को सुधारने के लिए काम किया जा सकता है। ऐसे में शिकायतों के साथ-साथ उसके समाधान पर भी बातचीत करना बेहद जरूरी है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik