आपने फूड बैंक और बुक बैंक के बारे में जरूर सुना होगा, लेकिन क्या आपने कभी ड्रेस बैंक के बारे में सुना है? अगर नहीं, तो अब सुन लीजिए! केरल के एक टैक्सी ड्राइवर हैं नासर थूथा, जिन्होंने एक ड्रेस बैंक बनाया है। चैरिटी के लिए बनाया गया उनका यह मॉडल गरीब और वंचित परिवारों को एक बार पहने जा चुके वेडिंग आउटफिट्स जैसे- साड़ी, एंकल-लेंथ स्कर्ट, लहंगे और ड्रेसेस देता है। बैंक ने अब तक 260 से अधिक वंचित दुल्हनों को उनके जीवन के सबसे महत्वपूर्ण दिन के लिए मुफ्त पोशाक प्रदान करने में मदद की है। नासर थूथा के बारे में और इस बैंक का विचार उन्हें कैसे आया, इस बारे में आइए विस्तार से जानें।

कौन हैं नासर थूथा?

who is nasar tootha

नासर थूथा पहले सऊदी अरब में नौकरी करते थे। वह रियाद में 10 साल से भी ज्यादा समय तक एक फूड सुपर मार्केट में काम करते थे। इसके बाद वह वहां नौकरी छोड़कर कुछ अच्छा करने के इरादे से अपने गांव वापस आ गए। यहां वह एक टैक्सी और एंबुलेंस ड्राइवर हैं। 4 बच्चों के पिता नासर को ऐसा कुछ करने का सूझा और उन्होंने इसके लिए काम करना शुरू कर दिया।

कैसे मिली प्रेरणा?

know about nasar thootha

एक लीडिंग मीडिया हाउस से बातचीत पर नासर ने बताया, 'सऊदी अरब से लौटने के बाद, मैं राज्य एजेंसियों को गरीबों और बेघरों के पुनर्वास में मदद कर रहा था। उस अवधि के दौरान, मैं कई परिवारों से मिला, जो अपनी बेटियों के लिए शादी के कपड़े की व्यवस्था करने के लिए संघर्ष कर रहे थे, जो आमतौर पर महंगे होते हैं। इसलिए मैंने उनकी मदद करने का फैसला किया।'

कैसे शुरू हुआ 'ड्रेस बैंक'?

dress bank by nasar thootha

साल 2020 में उन्हें इस चैरिटी का ख्याल आया। उन्होंने अप्रैल 2020 में इसे एक्सपेरिमेंटल तौर पर शुरू किया था। वॉट्सऐप (Whatsapp के 10 हैक्स के बारे में जानें) और फेसबुक का उपयोग करते हुए, उन्होंने कुछ लोगों से अपने पुराने वेडिंग आउटफिट्स को उन्हें देने की अपील की। जल्द ही यह बात फैली और नए-नए कपड़ों के पैकेट्स उनके पते पर आने लगे। शुरू में उन्होंने इस बैंक को अपने घर के एक कमरे से शुरू किया था। फिर इसकी सूचना उन्होंने अपने फेसबुक के जरिए लोगों तक पहुंचाई।  दान किए गए कपड़े केरल के विभिन्न स्थानों से चैरिटी संगठनों और दोस्तों के माध्यम से एकत्र किए जाते हैं। ड्राई-क्लीनिंग के बाद, उन्हें एयरटाइट पैकेट में लपेटा जाता है और फिर बैंक में जरूरतमंदों के लिए रखा जाता है।

इसे भी पढ़ें : नागपुर में सामने आई दो लड़कियों के प्यार की अनोखी कहानी, दोनों ने आपस में की सगाई

गरीब परिवारों के लिए शुरू की चैरिटी

dress bank charity

नासर का इस चैरिटी से पैसे कमाने का कोई मकसद नहीं था, उन्होंने यह सिर्फ और सिर्फ गरीब परिवारों के लिए किया। ऐसे परिवार जिनमें शादी के कपड़े और ब्राइडल ड्रेस खरीद पाने के लिए आमदनी नहीं हो पाती। दुल्हन के परिवार वाले फेसबुक के माध्यम से उससे संपर्क करते हैं और फिर अपनी पसंद की पोशाक का चयन करने के लिए सीधे बैंक जाते हैं, चाहे उसकी कीमत कुछ भी हो। जब परिवार के पास लंबी दूरी की यात्रा करने के लिए पैसे नहीं होते हैं, या यदि कोई सदस्य बीमार है, तो पोशाक सीधे हमारे स्वयंसेवकों के नेटवर्क के माध्यम से उन्हें भेज दी जाती है। दिलचस्प बात यह है कि न इसके पैसे लिए जाते हैं और न उनसे ड्रेस वापिस मांगी जाती है। बस उन्हें किसी और जरूरतमंद की मदद करने की सलाह दी जाती है।

इसे भी पढ़ें :सिल्क हो या कांजीवरम कोई भी महंगी साड़ी कम दाम में किराए पर लेने के लिए जाएं वड़ोदरा की अष्ट सहेली लाइब्रेरी, जानें पूरी खबर

नासर के ड्रेस बैंक में हैं 800 से ज्यादा ड्रेस

nasar thootha dress bank in kerala

इस पहल की सफलता ऐसी रही है कि बैंक के पास वर्तमान में स्टॉक में 800 से अधिक कपड़े हैं - जिनकी कीमत 5,000 से 50,000 भारतीय रुपये तक है - जो मुस्लिम, ईसाई और हिंदू दुल्हनों के लिए काम की हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि समय के साथ न सिर्फ केरल से बल्कि पड़ोसी राज्यों कर्नाटक और तमिलनाडु से भी उन्हें मदद मिलती है। साथ-साथ संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब में रहने वाले भारतीय समुदाय से भी योगदान आना उन्हें शुरू हो गया है।

उन्हें उनके एक दोस्त ने अपने यहां एक रूम में ड्रेस बैंक बनाने की पेशकश की है। वह अगले साल मार्च में बैंक को इस नए स्थान पर स्थानांतरित करने की योजना बना रहे हैं।

आपको नासर थूथा के बारे में जानकर कैसा लगा हमें जरूर बताएं। यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: nasartootha@facebook