स्कूल, प्ले ग्राउंड और पार्क ये सारी वो जगह हैं जहां बच्चे पूरी एनर्जी के साथ मस्ती करते नज़र आते हैं। बच्चे इन जगहों पर सब्से जयादा एन्जॉय भी करते हैं। आप हमउम्र बच्चों और दोस्तों का साथ उनमे एक नए तरह का जोश भर देता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही वो जगह भी हैं जहां बच्चे सबसे ज्यादा बीमीरी की पकड़ में भी आते हैं। दूसरे बच्चों के कांटेक्ट में आकर बच्चों की बीमार होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। आप चाहकर भी उनको इन जगहों पर जाने से नहीं रोक सकते। लेकिन हमारे ये germs prevention टिप्स अपनाकर आप बच्चों को काफी हद तक बिमारियों से बचा सकती हैं। 

सही स्कूल और Day Care का चुनाव 

germs prevention tips inside

अपने बच्चे को किसी भी स्कूल या डे केयर में एनरॉल कराने के पहले आप वहां की हेल्थ और सेफ्टी से  जुड़ी गाइड लाइन के बारे में अच्छे से जानकारी लें। बच्चों को हाथ धोने और सफाई के लिए कैसे encourage किया जाता है। स्कूल फर्नीचर और स्विंग्स सैनिटाइज़ होते हैं या नहीं। अगर किसी बच्चे की तबियत खराब हो जाती है तो घर पर inform करते हैं? तबियत खराब होने पर बच्चे को किस तरह ट्रीट करते हैं? बीमार बच्चे को सब बच्चों के साथ एक जगह तो नहीं रखते! इस तरह के सुरक्षा मापदंडों को भलीभांति जांच लें।  

इसे भी पढ़ें: DIY: घर पर बचे हुए साबुनों से बनाएं बजार में मिलने वाला मेहंगा ‘Hand Wash’

Recommended Video


vaccinations के बारे में पूंछें 

germs prevention tips inside

आप जहां कहीं भी अपने बच्चे को एनरॉल करा रही है, वहां पहले से ही vaccinations प्रिफरेंस के बारे में जानकारी लें। कुछ स्कूल पेरेंट्स से बच्चों को दी जाने वाली मेन्डेट vaccinations का रिकार्ड्स भी मांगते हैं। कहीं न कहीं बच्चों की हेल्थ के लिए यह जरूरी भी है। अगर कोई ऐसा बच्चा जिसको मेन vaccinations भी नहीं हुई है वह दूसरे बच्चों के लिए बीमारी और इंफ्केशन की वजह बन सकता है। 

Cleaning Measure को doubt न रखें  

अगर आपको स्कूल या डे-केयर में साफ़ सफाई को लेकर कोई कमी नज़र आती है तो बिना हिचकिचाहट इसके बारे में बात करें। अगर वह ऑर्गनाइजेशन अपनी पॉलिसी चेंज नहीं कर सकती या आपको कोई सटिस्फैक्टरी आंसर न मिले तो आप बेहतर होगा कि आप अपने बच्चें के लिए कोई और ऑप्शन तलाश लें। 

इसे भी पढ़ें: पहले रखें सफाई का ध्‍यान, बाद में करें दूसरे काम


घर से डालें सफाई की आदत 

हर मां चाहती है कि उसके बच्चे हमेशा बिमारियों से दूर रहें। इसके लिए हमको चाहिए कि हम बच्चों में साफ़ सफाई को लेकर सचेत रहने की आदत डालें। रोजाना नहाना, खाने के पहले और बाद में हाथ धोना, गंदे फुटवियर को लिविंग एरिया के बाहर रखना और रात को सोने के पहले ब्रश करना ऐसी सभी आदतों को अपने बच्चे में विकसित कर आप उसको बहुत हद तक बीमारी से बचा सकती हैं।

इस तरह आप इन बातों को ध्यान में रखकर अपने बच्चे को बहुत हद तक बिमारियों से सुरक्षित रख सकती हैं।