यूं तो विवाह को एक अटूट बंधन माना जाता है। कहते हैं कि शादी के सात फेरों के साथ ही दो लोग सात जन्म के लिए एक रिश्ते में बंध जाते हैं, लेकिन कई बार जीवन में ऐसी परिस्थिति आ जाती है, जब यह अटूट रिश्ता भी टूटकर बिखर जाता है। एक शादी का फेल होना दोनों ही व्यक्ति के जीवन को गहराई से प्रभावित करता है। कई बार तो सिर्फ शादी ही नहीं टूटती, आप खुद भी टूट जाती हैं और दोबारा संभल पाना यकीनन काफी मुश्किल नजर आता है। इस बात में कोई दोराय नहीं है कि एक शादी का टूटना काफी दर्दभरा होता है, लेकिन फिर भी आप इसमें भी कुछ अच्छा तलाश कर सकती हैं। जी हां, एक टूटा हुआ रिश्ता भी आपको जीवन के कुछ बेहद महत्वपूर्ण सबक सिखा सकता हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

इसे भी पढ़ें: ऐश्वर्या राय से ब्रेकअप के बाद विवेक ओबेरॉय को करीना कपूर ने दी थी कौन सी नेक सलाह, जानिए

परिवर्तन है संसार का नियम

lessons you can learn from a failed marriage inside

यह तो हम सभी जानते हैं कि परिवर्तन संसार का नियम है, लेकिन बहुत कम लोग इसे मन से मानते हैं। मसलन, जब दो लोग विवाह के बंधन में बंधते हैं तो उनके बीच प्रेम व रोमांस बहुत अधिक होता है और उन्हें यही लगता है कि यह प्यार भरा रिश्ता हमेशा यूं ही प्यारा बना रहेगा। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता। समय के साथ उनके जीवन व रिश्ते में बहुत से परिवर्तन आते हैं और उन्हें इन परिवर्तनों से तालमेल बिठाना होता है। जो कपल्स ऐसा नहीं कर पाते, उनका रिश्ता टूट जाता है। 

सबकः जीवन में कोई भी स्थिति या व्यक्ति हमेशा एक जैसा नहीं रहता। आपको परिवर्तनों के साथ सामजस्य करना आना चाहिए।

दोस्ती नजरअंदाज नहीं

lessons you can learn from a failed marriage inside

कुछ महिलाएं अपने वैवाहिक रिश्ते को संवारने में इस हद तक बिजी हो जाती है कि वह अन्य रिश्तों की अनदेखी करती हैं। खासतौर से, दोस्त तो कहीं बहुत पीछे छूट जाते हैं। यकीनन आपका वैवाहिक रिश्ता आपसे प्यार और वक्त मांगता है, लेकिन इसके लिए दूसरे रिश्तों को नजरअंदाज करना किसी भी लिहाज से सही नहीं है। ऐसे में जब आपका वैवाहिक रिश्ता टूटता है तो आप खुद को बिल्कुल अकेली महसूस करती हैं।

सबकः हर रिश्ते को उतना ही सम्मान व समय दीजिए। परिवार व दोस्त बुरे वक्त में भी आपके काम आते हैं और आपके लिए खड़े रहते हैं।

इसे भी पढ़ें: Relationship Tips: इन 7 बातों से समझें कि रिलेशनशिप में क्या चाहते हैं पुरुष

सम्मान से समझौता नहीं

lessons you can learn from a failed marriage inside

पति-पत्नी के रिश्ते में भले ही औपचारिकता की कोई जगह नहीं हो, लेकिन उनके बीच सम्मान का भाव जरूर होना चाहिए। कुछ लोग अपनी पत्नी के द्वारा किए गए कार्यों की तो कद्र करते ही नहीं है, साथ ही उनकी दूसरों के साथ बेइज्जती करने से भी पीछे नहीं हटते। इस स्थिति में महिला अपने रिश्ते को बचाने के लिए अपमान का घूंट पीकर रह जाती है, लेकिन वह अंदर ही अंदर टूट जाती है। उसका खुद का आत्मविश्वास भी कहीं खो जाता है। एक वक्त के बाद उसका रिश्ता भी टूट जाता है।

सबकः किसी भी परिस्थिति में अपने आत्मसम्मान के साथ समझौता न करें। यह नियम सिर्फ वैवाहिक रिश्तों में ही नहीं, बल्कि जीवन के हर पथ पर लागू होता है।