सर्दियों में कोट या फिर ब्लेजर सबसे जरूरी विंटर आउटफिट में से एक है। सर्दियों में ठंड से बचने के लिए ज्यादातर लोग कोट पहनकर बाहर निकलते हैं। वहीं वुलन कोट को अच्छी तरह से रखा जाए तो इसे लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। स्वेटर की तुलना में कोट ज्यादा महंगे आते हैं, इसलिए इसका रखरखाव खास तरीके से होना चाहिए। साथ ही, अन्य वुलेन कपड़ों के साथ रखने के बजाय वॉर्डरोब में इसके लिए अलग स्पेस बनाना चाहिए। रखरखाव के अलावा वुलेन कोट की देखभाल करने के लिए कई ऐसी बातें हैं जिसका ध्यान रखना जरूरी है।

आपने देखा होगा कोट या फिर ब्लेजर पुराने होने के बाद फेड या फिर रोए निकलने लगते हैं। यही नहीं कई बार हैंगर में टांगने से सिलवटें आने लगती है, यही नहीं इसकी वजह से इनमें छेद हो जाते हैं।  यह सब कुछ सही देखभाल नहीं होने की वजह से होता हैं। कोट या फिर ब्लेजर को लंबे समय तक नए जैसे बनाए रखने के लिए इसे कैरी करते वक्त कुछ कुछ बातों को फॉलो करना चाहिए। तो चलिए जानते हैं इस बारे में- 

रोजाना ब्रश करें

brush your coat
 
कोट को कैरी करने से पहले एक बार ब्रश कर दें। कोशिश करें इसके लिए सॉफ्ट और स्मूथ ब्रश का इस्तेमाल करें। दरअसल, कई बार बाहर निकलने के बाद धूल-मिट्टी कोट पर जम जाती है, जिसकी वजह से यह गंदा नजर आने लगता है। इसकी वजह से इसे बार-बार धोने की आवश्यकता पड़ती है। बार-बार धोने से कोट खराब होने का डर रहता है। इसलिए रोजाना कैरी करने से पहले एक बार ब्रश करें और उसे हैंगर में टांगने से पहले एक बार ब्रश कर दें।
 

लकड़ी का हैंगर इस्तेमाल करें

कोट को वॉर्डरोब में रखने के लिए प्लास्टिक या फिर पतले हैंगर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसकी जगह आप लकड़ी के हैंगर पर कोट को टांगे। दरअसल, कुछ वुलेन कोट पतले और मुलायम धागों से बने होते हैं, ऐसे में उसे प्लास्टिक हैंगर में टांगने से फटने का डर रहता है। बता दें कि प्लास्टिक हैंगर में कई सारे कोने होते हैं, जिससे कपड़ा फंसने का डर रहता है। वहीं पतले या फिर प्लास्टिक के हैंगर के किसी भी कपड़ों के लिए इस्तेमाल ना करें। कोशिश करें कि इसकी जगह वुडन हैंगर का उपयोग करें।

दाग लगने पर क्या करें

stain on coat
 
महंगे कोट पर किसी भी तरह का खाद्य पदार्थ या फिर पेंट जैसी चीज लग जाए तो उसे पहले सूखने दें। इसके लिए पेपर टॉवेल और ऐसे कपड़े का इस्तेमाल करें, जो लिक्विड पदार्थ को अब्सॉर्ब कर लें। इसे रगड़ने या फिर रब करने की कोशिश ना करें। एक बार जब यह सूख तो उसके बाद ड्राई क्लीनिंग के लिए दें। साथ ही दुकानदार को इस बारे में पहले से बता दें। कभी भी घरेलू तरीका या फिर अन्य केमिकल युक्त चीजों का इस्तेमाल करें। 

दो बार होनी चाहिए ड्राई क्लीनिंग

कोट को साल में दो बार ड्राई क्लीनिंग के लिए जरूर दें। कोशिश करें कि आप इसे सीजन की शुरुआत में और अंत में दें। अगर बीच में ही आपको लगता है कि ड्राई क्लीनिंग के लिए देना चाहिए, तो किसी प्रोफेशनल के पास ले जाएं और उससे साफ करवाएं। वहीं कोट में किसी तरह के दाग-धब्बे नहीं हैं तो बिना बात के वॉश करवाने की जरूरत नहीं हैं। साल में दो बार ड्राई क्लीनिंग के लिए देना पर्याप्त है। इसके अलावा कुछ वुलेन कोट घर पर भी आसानी से धोए जा सकते हैं। कोट को खरीदते वक्त वॉश करने के नियमों को जान लें, उसके अनुसार ही साफ करें।
 

Recommended Video

कोट को स्टोर करने का तरीका

take care of coat

कोट को वॉर्डरोब में रखने से पहले उसे अच्छी तरह साफ कर लें। कोशिश करें कि कोट के लिए वॉर्डरोब में एक सेक्शन बना दें, जहां इसे आप सुरक्षित तरीके से रख सकती हैं। आप गारमेंट बैग का इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके अलावा कई बार एक्सट्रा नमी की वजह से वॉर्डरोब में फंगस या फिर बदबू जैसी समस्या आने लगती है। ऐसी स्थिति में आप अपने वार्डरोब में नेप्थलीन बॉल्स रख सकती हैं। इसके साथ ही, आप चाहें तो नेचुरल तरीका भी आजमा सकती हैं, जैसे नीम के पत्ते या फिर एसेंशियल ऑयल। वहीं बदबू की समस्या दूर करने के लिए ओपन जार में बेकिंग सोडा रख सकती हैं।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। साथ ही, आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें कमेंट कर जरूर बताएं और इसी तरह के अन्य आर्टिकल के लिए जुड़ी रहें हर जिंदगी के साथ।