मानसून में बगिया को दें नया रंगबागवानी के शौकीन लोगों के लिए मानसून वर्ष का सबसे अच्छा समय है। इस समय पौधे तेजी से बढ़ सकते हैं और भरपूर खिल सकते हैं। न सिर्फ बारिश की बूंदे बल्कि हवा में दिन भर की नमी पौधों की सेहत के लिए बहुत अच्छी है।

मिसेज नंदा इन दिनों काफी खुश दिख रही हैं, वजह मानसून का मौसम जो आ गया है। अब आप सोच रही होंगी कि मानसून में तो सभी खुश होते हैं, इसमें कौन सी नई बात है? नई बात ये है कि मानसून के मौसम में ही वे अपने गार्डनिंग के शौक को नया आयाम देती हैं। जी हां, अगर आप भी गार्डनिंग का शौक रखती हैं तो रिमझिम फुहारों का यह सुहाना मौसम आपके लिए सबसे ज्यादा मुफीद है। इस मौसम में आप अपनी बगिया को नया रंग दे सकती हैं। हरे-भरी बगिया के संग सुबह और शाम की चुस्कियां परिवार संग लेने की बात ही कुछ और है। आइए जानें कुछ टिप्स बगिया को हरा-भरा बनाने के लिए-

बगिया को हरा-भरा बनाने के लिए टिप्स

monsoon garden inside  

- मानसून के मौसम में गर्मी के साथ नमी यानी उमस होती है, जो पौधे की जड़ों को अच्छी तरह फैलने में मदद करती है। अच्छी बागवानी के लिए मानसून का मौसम एक तरह का टॉनिक भी माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: बारिश नहीं बनेगी फैशन में रुकावट, खुद को इन 7 टिप्‍स से बनाएं फैशनेबल

- बारिश होने से मिट्टी गीली हो जाती है, ऐसे में नए पौधे लगाने में थोड़ी परेशानी होती है, इसलिए मिट्टी पहले से तैयार करना चाहिए। सूखी मिट्टी में सढ़ी हुई पत्तियां व गोबर खाद मिलाकर रखें और इस मिट्टी में नए पौधे लगाएं। 

- मानसून के समय अपने पौधों में मॉस खाद का ज्यादा उपयोग करें। यह खाद पौधे के लिए अच्छी मानी जाती है। अच्छी बागवानी के लिए महीने में कम-कम दो बार खाद को बदलें।

- अच्छी और हरी-भरी बागवानी के लिए अपने पौधों में रोज शाम को पानी दें! इसके लिए एक बात का खास ध्यान रखें कि आप दोपहर में पानी ना दें क्योंकि ऐसा करने से पौधे को ज्यादा तापमान मिलने की वजह से पौधा मर सकता है।

- जो पौधे जल्दी बढ़ते हैं वो नाजुक होते हैं और धीमे बढ़ते हैं, उनके तने उतने ही मजबूत होते हैं बजाय एक जैसे पौधे लगाने के। गार्डन में इन दोनों प्रकार के पौधे लगाएं। 

- यदि आपके गार्डन में जगह है तो लॉन जरूर रखें, जिसे देख आपको ताजगी मिले। इसके अलावा एलोवीरा, तुलसी, नीम जैसे औषधीय पेड़ व पौधे जरूर लगाएं। यह आपके परिवार के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हैं।

- खाद, मिट्टी बालू की मात्रा को संतुलित रखें।

monsoon garden inside

- पौधे को कीटाणुओं से बचाने के लिए उसमें कीटनाशक दवाओं जैसे- मैलाथीन और गैमक्सीन इत्यादि का पौधों की जड़ों में नियमित रूप से छिड़काव करवाएं।

- मानसून के दौरान पौधों को खुले आसमान के नीचे रखें, ताकि उनकी जड़ें मजबूत हो सकें।

- समय-समय पर इन पौधों के बेकार पत्तों की कटाई करती रहें।

- मानसून का मौसम इसलिए पौधों को केवल एक ही बार पानी दें, ज्यादा पानी देने उनकी जड़े सड़ सकती हैं।

 

इसे भी पढ़ें: बारिश में होने वाली बीमारियों से बचना है तो मानसून में ये ना खाएं

इन पौधों को बगिया में दें जगह

बारिश का मौसम में गार्डनिंग करना अच्छी बात है, लेकिन इस मौसम में कौन से पौधे लगाने चाहिए, इसकी जानकारी होनी भी जरूरी है। इसके लिए आप किसी जानकार माली या नर्सरी से जानकारी ले सकती हैं। कुछ खास पौधे जिन्हें आप इस मौसम में लगा सकती हैं जैसे- एमेरेंथस, बालसम, कॉक्सकॉम्ब मेरीगोल्ड, मीराविलिस, पोर्चुलाका, रूडबेकिया, सूरजमुखी, टियोनिया, टेरीनिया, जीनिया, कॉसमोस, गोम्फ्रेना, गेलार्डिया। अनेक रंग के फूलों वाले पोर्चुलाका व वरबीना कटिंग कर लगाये जाते हैं। इनके अतिरिक्त अनेक बहुरंगी पत्तियों वाले कोलियस के पौधे भी कटिंग लगा कर तैयार कर लें। अन्य फूल वाले पौधे फूलों की कमी की पूर्ती, बल्ब या कंद से लगाए जाने वाले पौधे जैसे ग्लेडियोलस की अर्ली फ्लावरिंग किस्में, स्पाइडर लिली, जैफर लिली, लीजियम आदि से की जा सकती है। ग्लोरी लिली जिसे कलिहारी कहते हैं, एक बेल की तरह बढ़ती है। इसके लिये उपयुक्त स्थान चुनें। बेलें, जूही, रात की रानी व चमेली की बारी है। इसी प्रकार झुमक लता, बिगनोनिया बिनिस्टा, लगाइये। झुमकलता वर्षा भर फूल देती है और बिगनोनिया जनवरी फरवरी में। 

इनडोर प्लांट 

monsoon garden inside

अगर आप फ्लैट में रहती हैं, तो आपको निराश होने की जरूरत नहीं आप इंडोर प्लांट्स को अपने घर में जगह दे सकती हैं। कार्बन-डाइऑक्साइड को अवशोषित कर लेत हैं, जिससे घर के अंदर का तापमान कुछ डिग्री तक कम हो जाता है...मनी-प्लांट्स, फर्न, पॉम लीव्स, बोन्साई, जैसे इनडोर प्लांट आपके इंटीरियर को और भी खूबसूरत बनाते हैं...पॉम व चाइनीज बैंबू से भी आप अपने कमरे को सजा सकती हैं...इन्हें स्टडी डेस्क के पास या लिविंग रूम में लगा सकती हैं।