दिल्ली जैसे शहर में कबूतरों की इतनी तादाद हैं कि क्या कहें। आप यहां कहीं तक भी नजरें घुमाएं तो आपको दूर-दूर तक किसी न किसी छत या बालकनी को गंदा करते कबूतर दिखेंगे। कबूतर बहुत ज्यादा गंदगी फैलाते भी फैलाते हैं और उनकी एक स्मेल आपकी बालकनी को और भी गंदा बना देती है।

अगर आप भी इनके आतंक से परेशान है और रोज-रोज इनकी गंदगी साफ करके थक चुके हैं, तो हमारे इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें। इस आर्टिकल में आज हम आपको ऐसे कुछ तरीके बताएंगे, जिससे आप कबूतरों को दूर भगा सकते हैं। इसके बाद वह आपकी छतों या बालकनी को कभी गंदा नहीं कर सकेंगे।

अल्ट्रासाउंड पिजन रिपेलर का प्रयोग करें

ultrasonic repellent for pigeons

पक्षियों में सुनने की क्षमता बहुत अच्छी होती है, जिससे वे उन ध्वनियों को सुन सकते हैं जिन्हें मानव कान नहीं पहचान सकते। यह अन्य पक्षियों की पुकार सुनने के लिए, उन्हें भोजन,और खतरे के प्रति सचेत करने में मदद करता है। अपने फायदे के लिए आप इसी तरह अल्ट्रासोनिक साउंड या अल्ट्रासाउंड रिपेलर का इस्तेमाल करें और उसकी आवाज से कबूतरों से छुटकारा पाएं। इससे प्रीडेटर्स की आवाज निकलती है, जिससे कबूतर डरते हैं और भाग जाते हैं। इसे 1 एकड़ के दायरे से भी पक्षी सुन सकेंगे। इस डिवाइस को ऊंचे एरिया में लगाकर साउंड को तेज रखें। 

रिफ्लेक्टिव सरफेस लगाएं

reflective surface for pigeons

कबूतरों को बालकनी से दूर रखने के लिए बेताब हैं? अगर आप बिना ज्यादा खर्च किए अपने घर के आसपास से कबूतरों से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो बस ऐसी किसी भी चीज की तलाश करें जो लाइट को रिफ्लेक्ट करें। सामान्य तौर पर, पक्षियों को प्रकाश की तेज चमक पसंद नहीं होती है। एवियन आंखें प्रिज्म प्रभाव पर प्रतिक्रिया करती हैं, जिससे पक्षी भटकाव महसूस करते हैं। पुरानी सीडी, छोटे शीशे, एल्युमिनियम फॉयल स्ट्रिप्स, फॉयल बैलून या आउटडोर रिफ्लेक्टिव टेप कुछ लोकप्रिय विकल्प हैं, जिन्हें आप कबूतरों को भटकाने के लिए कर सकते हैं। आप इन्हें ऐसी जगह रख दें जहां इन पर लाइट पड़े, ताकि कबूतर इससे डरकर दूर हो जाएं। (अपने घर के शीशों को चमकाने के लिए अपनाएं यह टिप्स)

एंटी-रोस्टिंग स्पाइक्स को इंस्टॉल करें

anti rosting spikes for pigeons

यदि आप अपने किनारों को कबूतरों की रोस्टिंग से बचाना चाहती हैं, तो यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इसे लगा देने से कबूतरों को अपने पंजे रखने की जगह नहीं मिल पाती और वह आपकी छतों, बाउंड्री और बालकनी में नहीं बैठ पाते हैं। आप प्लास्टिक पॉली कार्बोनेट मटेरियल की स्पाइक्स लगा सकते हैं, जो टिकाऊ, लंबे समय तक चलने वाली होती है और इसके लिए बहुत कम रखरखाव की आवश्यकता होती है। यह क्लीयर कलर की होती है, जिसे दूर से नोटिस भी नहीं किया जा सकता है। स तरह, यह आपके घर के सौंदर्यशास्त्र में भी बाधा नहीं डालेगी है। आप इसे ग्लू से चिपका सकते हैं, या फिर इसे कील, स्क्रू और बांधा भी जा सकता है।

इसे भी पढ़ें :बालकनी में बार-बार आ रहे कबूतरों से निजात पाने के लिए आपनाएं ये तरीका

मोशन एक्टीवेटेड स्प्रिंकलर इंस्टॉल करें

motion activated sprinkler

क्या आप अपने गार्डन में रोज-रोज कबूतरों की पॉटी साफ करे थक गए हैं? अगर आप अपने गार्डन या यार्ड से कबूतरों को भगाना चाहते हैं तो फिर आप मोशन-एक्टीवेटेड स्प्रिंकलर का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे लगाकर आप अपने गार्डन को पर्याप्त पानी भी दे सकेंगे और पक्षियों से दूर भी रख सकेंगे। यह कबूतरों को दूर भगाने के लिए पानी, साउंड और स्पीड के संयोजन का उपयोग करता है। इसमें कई सारी सेटिंग्स होती हैं, ताकि आप अपनी कबूतर और पेस्ट कंट्रोल (पेस्ट कंट्रोल करवाने के बाद किचन की ऐसे करें केयर ) जरूरत के अनुसार उसे एडजस्ट कर सकें। आप सेंसर को पक्षियों के लिए ऊपर की ओर एडजस्ट कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :डाइनिंग टेबल पर लगने लगी है दीमक तो इन ट्रिक्स से पाएं छुटकारा

स्केयर-पिजन को इंस्टॉल करें

scare pigeon toy

अब आप सोच रहे होंगे कि स्केयर पिजन क्या है? जैसे आप खेत में स्केयरक्रो लगाते हैं ये ठीक वैसा ही है। कबूतर बड़े पक्षी जैसे गिद्ध, बाज और चील से डरते हैं, इसलिए आप वैसा ही कोई बड़ा सा खिलौना लाकर उसे अपने छत पर लगा सकते हैं।  एक ऐसा 3डी, बड़ा सा टॉय रखें, जो थोड़ा बहुत हिले भी और आवाज भी निकालें। बस एक बात का ध्यान रखें कि इसकी जगह बदलते रहें, वरना कबूतरों को इससे डर नहीं लगेगा और वह अपना आतंक आपके घर में बनाकर रखेंगे। ऐसे कई चीजें ऑनलाइन उपलब्ध भी होती हैं, जिन्हें आप अपनी बालकनी या छत पर लगा सकते हैं और कबूतरों को भगा सकते हैं।

हमें उम्मीद है ये तरीके आपके काम आएंगे। यह लेख आपको कैसा लगा और उसमें से अगर कोई तरीका आपने कभी अपनाया हो तो वो भी हमें हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट कर बताएं। अगर यह लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। इस तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit: freepik, unsplash & ipinimg