एक लड़की जब विवाह के पवित्र बंधन में बंधती है तब वो सिर्फ एक परिवार का हिस्सा न होकर दो परिवारों को जोड़ने का काम करती है। मन में ढेर सारी उम्मीदें ,आंखों में सुन्दर भविष्य की कामना और एक अच्छी ससुराल का सपना। लेकिन लड़की का शादी के बाद ससुराल वालों के साथ मधुर संबंध स्थापित करना थोड़ा मुश्किल होता है। कई बार ससुराल की उम्मीदों पर खरी न उतर पाने की वजह से ससुराल के लोगों का रवैया लड़की के प्रति कठोर होने लगता है और यही घर में होने वाली लड़ाइयों का और रिश्तों में आने वाली दूरियों का कारण बन जाता है। ऐसे में लड़की ससुराल पक्ष का सख्त रवैया देखकर परेशान होने लगती है और रिश्तों में सामंजस्य स्थापित करने में असफल साबित हो जाती है। आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे तरीके जिससे आप अपने सख्त ससुराल वालों को भी अपने वश में करके खुश रह सकती हैं -

पार्टनर के साथ एकजुट रहें 

strict inlaws ()

यदि आपके ससुराल वाले आपके पार्टनर से आपके बारे में कोई ऐसी बात करते हैं जो सच नहीं है और आपको इसके बारे में पता चल जाता है, तो आपको  चाहिए कि अपने जीवनसाथी से धीरे से इस बारे में बात करें और पीरियड्स के दौरान बिगड़े शेड्यूल को कैसे सुधारें दिल खोलकर बताएं कि ससुराल के लोगों का ऐसा व्यवहार आपके जीवन, विवाह और परिवार को समग्र रूप से कैसे प्रभावित कर रहा है। अपने पति से खुलकर बातचीत करें, उसे बताएं कि आपके और आपके ससुराल वालों के बीच उसकी पीठ पीछे कैसा व्यवहार हो रहा है। ससुराल वालों के सामने आपका विनम्र रहना ही आपकी बुद्धिमत्ता को दिखाता है। इसलिए किसी बात पर लड़ाई करने के बजाय हर बात अपने पति से शेयर करें। 

सरल रवैया अपनाएं 

strict inlaws ()

आपके ससुराल का रवैया यदि आपके लिए कठोर है तब भी आपको हमेशा सरल रवैया अपनाना है। इसके लिए कभी यदि आपके ससुराल पक्ष के लोग आपको किसी बात पर डांटें या अपमानित करें तब भी आपका विनम्र व्यवहार उन्हें भी सरल बना देगा। आप चाहें तो अपने सरल स्वभाव से चीज़ें आसानी से संभाल सकती हैं और रिश्तों के बीच की दूरी को भी कम कर सकती हैं। 

Recommended Video

बातचीत को सीमित करें

strict inlaws ()

यदि आपके ससुराल वाले जानबूझकर ऐसा करते हैं या ऐसी बातें करते हैं जो आपको चोट पहुंचा सकती हैं ,तो यह स्पष्ट है कि वे आपकी तरह नहीं हैं। सरल शब्दों में, आपके ससुराल वाले आपसे नफरत करते हैं। जाहिर है, कि आप जितनी ज्यादा बात करेंगी आपको उतनी ही अपमानजनक बातें सुनने को मिलेंगी। इसलिए इस तरह के परिदृश्य में आपकी सबसे अच्छी शर्त यह होगी कि आप अपने अपमानजनक ससुराल वालों के साथ बातचीत को न्यूनतम तक सीमित कर दें। जहां तक हो सके आप चोंट पहुंचाने वाली बातों को नज़रअंदाज़ करें। कुछ दिनों में अपने आप ही उनका रवैया बदलने लगेगा।

इसे जरूर पढ़ें :  Relationship Tips: ऐसे निभाएंगी अपना रिश्ता तो रिलेशनशिप हमेशा रहेगी मजबूत

टीम वर्क पर ध्यान दें 

strict inlaws ()

हम में से ज्यादातर लोग शादी के बाद एक जॉइन्ट फैमिली में रहते  हैं। ऐसे में पति  पत्नी को टीम वर्क की तरह काम करना चाहिए। पति और पत्नी को एक दूसरे का पूरा सहयोग चाहिए। कई बार ऐसा होता है कि पसंद किए जाने और सराहे जाने की चाह में, जोड़े एक-दूसरे को भूल जाते हैं। आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि आप दोनों एक टीम हैं  कोई भी काम मिलकर करना आपकी जिम्मेदारी है । यदि आपके माता-पिता के पास जाने के बजाय आपके रिश्ते को लेकर कोई समस्या और नकारात्मकता है, तो दोनों को मिलकर पैरेंट्स से संवाद करना चाहिए ।

इसे जरूर पढ़ें :  Relationship Tips: ये 5 बातें पार्टनर के दिल में आपके लिए फिर से प्यार जगा देंगी

जीवनसाथी की भावनाओं के प्रति संवेदनशील रहें

अपने ससुराल वालों को प्रबंधित करना कई बार एक संवेदनशील मुद्दा हो सकता है। लेकिन आपका ऐसा सोचना गलत हो सकता है कि आपका जीवनसाथी और ससुराल के सभी लोग एक ही स्वभाव के हैं। ऐसी सोच की वजह से आप अपने पति के साथ अपने रिश्ते को खराब कर सकती हैं (पति पत्नी के रिश्ते को बनाएं मजबूत )। सुनिश्चित करें कि वह यह महसूस करने के लिए नहीं बना है कि उसे हर बार एक कठिन परिस्थिति उत्पन्न होने पर पक्ष लेने या दोष देने के लिए धकेल दिया जा रहा है। उसे विश्वास दिलाएं कि आप सिर्फ सम्मानित होना चाहती हैं और उसके माता-पिता के साथ अपने संबंधों को अच्छा बनाना चाहती हैं। 

इन सभी बातों को ध्यान में रखकर आप अपने ससुराल में सामंजस्य स्थापित कर सकती हैं, साथ ही ससुराल वालों के सख्त रवैये को अच्छे व्यवहार में बदल सकती हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:free pik