मां का दूध बच्चे के लिए बहुत जरूरी होता है, और छः महीने तक हर एक मां अपने बच्चे को दूध पिलाती है लेकिन, अक्सर अपने बच्चे को दूध पिलाते वक़्त हर एक मां के मन में कुछ सवाल जरूर आते हैं, जैसे कि क्या उसके दूध से बच्चे का पेट पूरी तरह भर रहा है? क्या उसका दूध पिलाने का तरीका सही है? अगर आप भी अपने बच्चे को दूध पिलाते वक़्त कुछ ऐसा ही सोचती हैं तो हम आज आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताएंगे जिनकी मदद से आप पहचान सकेगी कि आप अपने बच्चे को सही तरीके से दूध पिला रही हैं!

बार-बार दूध डिमांड दूध मिलने पर शांत होना

check if you are feeding your baby correctly Inside

नवजात शिशु का पेट बहुत छोटा होने के कारण वह थोड़े दूध में ही संतुष्ट हो जाता है लेकिन थोड़ी देर बाद ही उसको फिर से भूख लगने लगती है जिसकी वज़ह से जन्म के बाद कुछ महीनों तक बच्चे को लगभग हर घंटे के बाद दूध पिलाना आवश्यक होता है। जन्म के बाद बच्चे में मेटाबॉलिज़्म तीव्र गति से पनपते हैं और उसको ज़्यादा नुट्रिएंट्स की ज़रूरत पड़ती है जिसकी वज़ह से वो बार-बार दूध की डिमांड करता है।

इसे भी पढ़ें: ब्रेस्टफीडिंग मॉम के लिए स्वर्ग हैं यह देश

बार-बार टॉयलेट करना

check if you are feeding your baby correctly Inside

जब बच्चा सही मात्रा में भर पेट दूध पीता है तो बहुत ज्यादा यूरिन भी पास करता है।बच्चे के जन्म के पहले हफ्ते में 6-8 बार उसका डाइपर बदलना पड़ता है। जिसका सीधा मतलब है कि बच्चा सही मात्रा में दूध पी रहा जिसकी वजह से कई बार टॉयलेट भी करता है। जल्‍द ही मम्‍मी बनने वाली हैं तो जरूर अपनाएं ये 6 बेबी केयर टिप्‍स

Recommended Video


रिलेक्स होकर खेलना और एक्टिविटी करना

check if you are feeding your baby correctly Inside

बच्चा रोकर बताता है कि उसको भूख लगी है और जब उसको दूध पिला दिया जाता है तो वह शांत हो जाता है जिससे पता लग जाता कि उसका पेट भर गया है।दूध पीने के बाद वह रिलेक्स होकर खेलने लगता है। अगर बच्चा दूध पीने पर भी शांत नहीं होता है तो समझिये उसको कोई परेशानी जिसके लिए आप तुरंत डॉक्टर से मिलें।

इसे भी पढ़ें: बच्चे और मां के रिश्ते को यादगार बनाएंगे 'Breast Milk' से बने ये गहने

ब्रेस्ट का सॉफ्ट हो जाना

आपका बेबी अच्छे से फीड कर रहा है इसका पता उसके लक्षणों से चलता है लेकिन आप अपने ब्रेस्ट साइज से भी इसका पता लगा सकती हैं।दूध पिलाने के बाद आपको अपनी ब्रेस्ट हल्की और सॉफ्ट लगने लगती है और आपको पता लग जाता है कि आपके लाड़ले/ लाड़ली ने अच्छे से दूध पी लिया है।

बच्चे का बढ़ता वज़न जन्म के 2 से 3 हफ़्तों तक बच्चे का वज़न कम होता है अगर बच्चा सही मात्रा में फीड करता है तो समय के साथ उसका वज़न बढ़ना शुरू हो जाता है।बच्चे की सेहत और तंदरुस्ती इस बात का परिणाम है कि उसने सही समय पर सही मात्रा में फीड किया है।इस तरह आप इन लक्षणों को ऑब्ज़र्व कर अपने बच्चे को दिए जाने वाले दूध की उचित मात्रा का आंकलन कर सकती हैं।

Image Credit: (@images.assettype,i.ytimg.com,keyassets-p2.timeincuk)