सावन के महीने में कई तीज-त्‍योहार मनाए जाते हैं, इसलिए यह महीना हिंदुओं के लिए बहुत ही विशेष होता है। सावन में कई तीज त्‍योहार खासतौर पर केवल महिलाओं के लिए ही होते हैं। इन त्‍योहारों पर महिलाएं सोलह श्रृंगार करती हैं और पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं। ऐसा ही एक त्‍योहार है 'हरियाली तीज'। यह त्‍योहार सावन मास की शुक्‍ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता है। इस वर्ष हरियाली तीज का पर्व 23 जुलाई को मनाया जाएगा।

उज्‍जैन के पंडित एवं ज्‍योतिषाचार्य मनीष शर्मा कहते हैं, 'तीज के त्‍योहार पर देवी पार्वती का पूजन किया जाता है। इसे हरियाली तीज इसलिए भी कहा जाता है क्‍योंकि सावन के महीने में सारा माहौल हरा-भरा होता है। इस तीज को कजली तीज और गौरी तीज के नाम से भी पुकारा जता है।'

इसे जरूर पढ़ें: Hariyali Teej 2020: मनाती हैं हरियाली तीज का त्‍योहार तो इन 10 रोचक सवालों के दें जवाब

hariyali teej party

क्‍या है हरियाली तीज का महत्‍व 

ऐसी मान्‍यता है कि शादी के बाद पहली हरियाली तीज हर महिला को अपने मायके में मनानी चाहिए। इस त्‍योहार पर सास अपनी बहू को साज-श्रृंगार का सामान देती है और मिठाइयां भेजती हैं। वहीं मायके में बेटियों के लिए झूले लगाए जाते हैं। हरियाली तीज पर कई महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। देवी पार्वती की पूजा करने के बाद वह व्रत खोलती हैं । पंडित जी कहते हैं, 'शिव पुराण के अनुसार इसी दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का पुनर्मिलन हुआ था। इतना ही नहीं, शिव पुराण (सावन में श्री शिवमहापुराण पढ़ने के लाभ जानें) में बताया गया है कि हरियाली तीज के दिन जो महिला माता पार्वती का व्रत रख उन्हें झुले पर पर बैठाती है। उसे हमेशा वैवाहिक सुख मिलता है और वह सदा सुहागन रहती है।' इतना ही नही पंडित जी आगे बताते हैं, ' महिलाओं के अलावा पुरुष भी देवी पार्वती का व्रत इस दिन रख सकते हैं। ऐसा करने से पति-पत्‍नी के संबंध मधुर होते हैं और दांपत्‍य जीवन सुखमय हो जाता है, साथ ही गृह-कलेश भी खत्‍म हो जाता है। '

इसे जरूर पढ़ें: पति की लंबी उम्र के लिए सुहागिनें रखती हैं निर्जल व्रत, पूजा अर्चना का विशेष महत्व

हरियाली तीज का शुभ मुहूर्त

श्रावण तृतीया आरम्भ: 22 जुलाई शाम 7 बजकर 23 मिनट

श्रावण तृतीया समाप्त: 23 जुलाई शाम 5 बजकर 4 मिनट तक

Recommended Video

क्‍या अर्पण करने से देवी पार्वती होंगी प्रसन्‍न 

हरियाली तीज के दिन देवी पार्वती की कच्‍ची मिट्टी से बनी मूर्ति की पूजा करें। आप देवी पार्वती को कई चीजें अर्पित कर सकती हैं, इसके अलग-अलग फल भी आप प्राप्‍त कर सकती हैं। जैसे- 

hariyali teej songs in hindi

  • गाय के दूध से बना घी देवी पार्वती को अर्पित करने से वह आपको समस्‍त रोगों से मुक्ति दिलाती हैं। 
  • शहद अर्पित करने से देवी पार्वती आपको सुदंरता प्रदान करती हैं। 
  • शक्‍कर अर्पण करने से देवी पार्वती आपको कभी धन की कमी (धन लाभ के वास्‍तु टिप्‍स जानें) नहीं होने देतीं। 
  • यदि देवी पार्वती पर आप कच्‍चा दूध चढ़ाती हैं तो इससे आपके पितरों को शांती मिलती है और वह आपको सदा सुहागन होने का आशीर्वाद देते हैं। 
  • देवी पार्वती को सुहाग की सामग्री अर्पित करने पर आपके पति की उम्र लंबी होती है और परिवार में सुख-शांति बनी रहती है। 
  • अगर आप देवी पार्वती को दही अर्पित करती हैं तो आपको धन की प्राप्ति होती है।  

हरियाली तीज के त्‍योहार की आप सभी को शुभकामनाएं। हिंदू तीज-त्‍योहार, व्रत-पूजा और धर्म से जुड़ी रोचक बातें जानने के लिए जुड़ी रहे हरजिंदगी से।

Image Credit: awakeningtimes, worldbestmagic.in