कोरोना काल न जाने कितने लोगों के लिए बुरा समय लेकर आया। कितने महान लोगों ने दुनिया को अलविदा कह दिया और कितनों ने अपनों को खो दिया। इसी क्रम में फ्लाइंग सिख के नाम से प्रसिद्ध महान धावक मिल्खा सिंह का कोविड की जटिलताओं से लड़ते हुए 91 साल की उम्र में निधन हो गया।

मिल्खा सिंह का पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंडीगढ़ में इलाज चल रहा था।  मिल्खा सिंह ने 18 जून, शुक्रवार की रात चंडीगढ़ के अस्पताल में अंतिम सांस ली। मिल्खा सिंह पिछले महीने कोविड -19 से संक्रमित हुए थे। आपको बता दें, मिल्खा सिंह की पत्नी निर्मल कौर का भी कोरोना से ही पांच दिन पहले निधन हो गया था। आइए जानें क्या है पूरी खबर। 

कब हुए थे कोरोना संक्रमित 

milkha singh death

महान भारतीय धावक श्री मिल्खा सिंह जी को 3 जून 2021 को पीजीआईएमईआर के कोविड अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था और 13 जून तक वहां कोविड के लिए उनका इलाज किया गया था इसके बाद 16 जून को मिल्खा सिंह का कोरोना टेस्ट नेगेटिव आया था, जिसके बाद उन्हें कोविड आईसीयू से सामान्य आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया और डाक्टरों की एक टीम उनके स्वास्थ्य पर नजर रख रही थी. इसी बीच मिल्खा सिंह को गुरुवार रात अचानक बुखार आ गया और उनका ऑक्सीजन लेवल गिरने लगा। जहां उन्होंने 18 जून की रात साढ़े 11 बजे अंतिम सांस ली। मिल्खा सिंह 91 वर्ष के थे। 

पिछले हफ्ते हुआ था पत्नी का निधन 

milkha singh with nirmal kaur

आपको बता दें कि पिछले हफ्ते यानी कि 13 जून मो उनकी पत्नी निर्मल कौर का कोविड-19 संक्रमण से जूझते हुए चंडीगढ़ के अस्पताल में निधन हो गया था। मिल्खा सिंह और निर्मल कौर के बेटे जीव मिल्खा सिंह भारत के दिग्गज गोल्फर में से एक हैं। वहीं मिल्खा सिंह की बेटी मोना मिल्खा सिंह अमेरिका में डॉक्टर हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार माता-पिता के बीमार होने के बाद जीव और मोना दोनों दुबई और अमेरिका से चंडीगढ़ पहुंचे थे। .

इसे जरूर पढ़ें: सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर डॉक्‍टर चिन्‍ना दुआ ने दुनिया को किया अलविदा

Recommended Video

मिल्खा सिंह की उपलब्धियां 

मिल्खा सिंह चार बार के एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता और 1958 के राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियन थे, लेकिन उनका सबसे बड़ा प्रदर्शन 1960 के रोम में 400 मीटर फाइनल में चौथा स्थान था। उन्होंने 1956  और 1964  के ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया और 1959 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया। पिछले साल कोरोना संक्रमण फैलने के बाद से मिल्खा सिंह लोगों से घर पर रहकर लॉकडाउन के दौरान रोजाना व्यायाम करने की अपील कर रहे थे। 

प्रधानमंत्री मोदी ने जताया शोक 

milkha singh with pm modi

प्रधानमंत्री मोदी ने मिल्खा सिंह की मृत्यु पर शोक जताते हुए ट्वीट किया है। ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने कुछ दिन पहले ही मिल्खा सिंह से बात की थी। उन्होंने कहा कि “मुझे कम ही पता था कि यह हमारी आखिरी बातचीत होगी। कई नवोदित एथलीट उनकी जीवन यात्रा से ताकत हासिल करेंगे। उनके परिवार और दुनिया भर में कई प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।"

मिल्खा सिंह की उपलब्धियों को याद करते हुए हम सभी को उनसे प्रेरणा लेने की आवश्यकता है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: instagram.com @iammilkhasingh and twitter.com