हर महिला चाहती है कि उसका बच्चा बड़ा होकर एक आत्मनिर्भर व जिम्मेदार व्यक्ति बने। हालांकि इसकी नींव आपको बचपन से ही रखनी होती है। वो कहते हैं ना कि बच्चों की परवरिश करना बच्चों का खेल नहीं है। इसके लिए बेहद धैर्य, मेहनत और समझ का परिचय देना होता है। बड़ा होने के बाद बच्चे में वही आदतें नजर आती हैं, जो जिनका विकास आपने उनके बचपन में किया होता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप उन्हें बचपन से ही उन्हें आत्मनिर्भर बनना सिखाएं। हालांकि इसके लिए आपको बहुत अधिक परिश्रम करने की जरूरत नहीं है। बस आप कुछ छोटे-छोटे कदमों के जरिए ऐसा कर सकती हैं।

शुरूआत में आप उन्हें घर के कुछ छोटे-छोटे काम करने के लिए कहें। यहां घर के काम से अर्थ यह नहीं है कि आप उनसे झाड़ू-पोंछा करवाएं या फिर बर्तन साफ करने के लिए कहें। कुछ बेहद छोटे-छोटे काम करने से बच्चे के भीतर एक जिम्मेदारी की भावना पनपती है। शुरूआत में उन्हें भले ही यह बोरिंग लगे या फिर वह इससे बचने की कोशिश करें, लेकिन धीरे-धीरे वह आत्मनिर्भर बनने की राह पर कदम बढ़ाएंगे। इतना ही नहीं, जब वह घर के छोटे-छोटे काम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करेंगे तो इससे उनमें अन्य भी कई गुण आएंगे। मसलन, वह खुद को अधिक आर्गेनाइज तरीके से रखना पसंद करेंगे और आपके बिना भी खुद को संभालना सीखेंगे। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे ही छोटे-छोटे कामों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आप बच्चों से करने के लिए कह सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: Parenting Tips:इन आसान टिप्स की मदद से करें सिंगल चाइल्ड की बेहतरीन परवरिश

तैयार करे बेड

child independent and responsible inside

जब भी आप सोने के लिए जाएं तो बच्चे से कहें कि वह अपना बेड खुद तैयार करे और सुबह उठने के बाद भी उसे बेड को ठीक करने के लिए कहें। इस तरह वह अपने कमरे को अधिक आर्गेनाइज करना सीखेगा।

किचन में रखे प्लेट

child independent and responsible inside

कभी भी बच्चे को टेबल या बेड पर खाना ना दें। बल्कि उसे कहें कि वह टेबल को सेट करे और खाना सर्व करने में आपकी हेल्प करे। साथ ही खाना खत्म होने के बाद आप उसे सिंक में बर्तन रखने के लिए कहें। इस तरह उसे अहसास होगा कि उसे अपना काम खुद करने की आदत डालनी है और वह हर छोटी-छोटी चीज के लिए आप पर निर्भर नहीं होगा।

Recommended Video

टेबल करे क्लीन

child independent and responsible inside

अगर खाना खाते समय बच्चे से भोजन टेबल पर गिर गया है तो आप उसे एक कपड़ा दें और उसे कहें कि वह उसे क्लीन करे। इससे उसे समझ आएगा कि वह अपना फूड कितना बेहतर तरीके से खाता है। धीरे-धीरे वह अच्छी तरह खाना खाना सीख जाएगा। (बच्चे को सिखाएं पैसे बचाने का हुनर)

खिलौनों को करे आर्गेनाइज

child independent and responsible inside

बच्चा अगर अपने खिलौनों से खेल रहा है तो उसे कहें कि वह खेलने के बाद उसे आर्गेनाइज करके रखें। इससे ना सिर्फ उसे क्लीनिंग का महत्व समझ आएगा। साथ ही बड़ा होकर वह एक आर्गेनाइज्ड लाइफ जीना पसंद करेगा। हालांकि आप इस बात का ध्यान रखें कि टॉयज को आर्गेनाइज करना उसके लिए मुश्किल ना हो। इसके लिए आप कमरे में एक टॉय बास्केट या एक बॉक्स रख सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: अपने सेंसिटिव बच्चे को इन 5 तरीकों से रखें अनुशासित और खुश


अधिक आर्गेनाइज्ड

अगर आप चाहती हैं कि बच्चा बड़ा होकर अधिक आर्गेनाइज्ड रहना पसंद करे तो इसके लिए आप उसे अपनी स्टडी टेबल, बुक्स व स्टेशनरी आदि को आर्गेनाइज्ड करने के लिए मोटिवेट करें।  (बच्चा नहीं देता रेसपेक्ट,एसे दूर होगी प्रॉब्लम) शुरूआत में बच्चे यह काम करने में आनाकानी करेंगे, लेकिन उस समय उन पर कभी भी गुस्सा ना करें और ना ही किसी तरह का दबाव बनाएं। साथ ही उन्हें काम करने के लिए रिश्वत भी ना दें। हालांकि बाद में आप उन्हें रिवार्ड दे सकती हैं। 

आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)