Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Dussehra 2022: इस दिन को क्यों कहा जाता है विजयदशमी? आप भी जानें

    Dussehra 2022: क्या आपको पता है कि दशहरा को विजयदशमी क्यों कहा जाता है? चलिए जानते हैं।   
    author-profile
    Updated at - 2022-10-04,16:59 IST
    Next
    Article
    dussehra also known as vijayadashami

    Dussehra 2022: दशहरा का पर्व पूरे भारत में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। उत्सव मनाने के साथ-साथ इस त्योहार पर हम बहुत कुछ सीख भी सकते हैं। पौराणिक कथाओं में मर्यादा पर्शोतम राम और रावण से जुड़े जितने भी किस्सों का जिक्र किया गया है उनसे शिक्षा लेकर हम भी किसी तरह के बुरे कार्य से बच सकते हैं।

    बता दें कि इस त्योहार के नाम में ही बहुत गहरा अर्थ छुपा हुआ है। क्या आपने कभी सोचा है कि इस त्योहार को विजयदशमी क्यों कहा जाता है? चलिए जानते हैं इस बारे में विस्तार से। 

    दशहरा को क्यों कहा जाता है विजयदशमी? 

    vijyadashmi

    राम और रावण से जुड़ी कई कहानियां आपको सुनने के लिए मिल जाएगी। इन्ही में से कुछ कथाओं के मुताबिक माता सीता को बचाने के लिए रावण और राम के बीच के कुल 10 युद्ध हुए थे जिसके बाद रावण पराजित हुए थे। यही कारण है कि दशहरा को विजयदशमी के नाम से जाना जाता है। 

    अगर आप गौर करेंगे कि हर साल दशहरा किस महीने में मनाया जाता है तब भी विजयदशमी शब्द के अर्थ को समझ पाएंगे। हर साल 10वें महीने में ही दशहरा मनाया जाता है। 

    इसे भी पढ़ेंः Dussehra 2022: दशहरा पर मेला देखने जा रहे हैं तो रखें इन बातों का ध्यान

    नवरात्रि की दशमी के दिन होता है दशहरा

    नवरात्रि के दौरान होने वाली 9 दिन की पूजा के बाद ही हम 10वें दिन दशहरा मनाते हैं। यह भी एक कारण है क्यों हम दशहरा को विजयदशमी नाम से जानते हैं। 

    बुराई पर अच्छाई की जीत 

    दशहरा को बुराई पर अच्छाई के जीत के लिए भी जाना जाता है। इसी दिन भगवान राम ने रावण और उसकी सारी बुराईयों को हराकर विजय प्राप्त की थी। यही कारण है कि हम इस दिन को विजय की दशमी के रूप में जानते हैं।

    हमने विजयदशमी के बारे में तो जान लिया। चलिए अब रावण से जुड़ी एक और दिलचस्प जानकारी लेते हैं। क्या आपको पता है कि रावण के 10 सिर क्यों थे? आइए जानते हैं। 

    इसे भी पढ़ेंः Dussehra 2022:जानिए पूर्व जन्म में कौन था लंकापति रावण?

    क्यों थे रावण के 10 सिर 

    रावण के 10 सिर के बारे में 2 मत हैं। कई लोग मानते हैं कि रावण के सच में 10 सिर थे को कुछ कहते हैं कि रावण केवल चतुराई से 10 सिर होने का दिखावा करते थे। रावण के 10 सिर उनकी 10 बुराई काम, क्रोध, लोभ, मोह, द्वेष, घृणा, पक्षपात, अहंकार, व्यभिचार और धोखे के बारे में बताते हैं। 

    तो यही कारण है कि हम लोग दशहरा को विजयदशमी के नाम से जानते हैं। यूं तो भारत में ढेर सारे त्योहार मनाए जाते हैं लेकिन दशहरा अपने आप बेहद खास है। 

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Photo Credit: Jagran, Instagram 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।