सभी माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे अच्‍छे इंसान बने और अच्‍छी बाते सीखें, अगर उनमें कुछ गलत है तो उसमें बदलाव या सुधार करें। अपने जीवन में आगे बढ़े, सफलता हासिल करें और अपने लक्ष्यों को पूरा करें। अपने बच्चों को ऐसा करने के लिए, माता-पिता उन्हें प्रोत्साहित और प्रेरित करते हैं और उनके प्रयासों का समर्थन करते हैं। हालांकि, कुछ माता-पिता अपने बच्‍चों पर सफलता पाने के लिए दबाव डालते हैं, जिससे बच्‍चे तनाव में आ जाते हैं। बच्चे अपने माता-पिता की अधूरी महत्वाकांक्षाओं को पाने के लिए पढ़ाई का अतिरिक्‍त दबाव लेते है, जिस कारण वो मानसिक परेशानी का सामना करते हैं। माता-पिता को ये समझना होगा कि हर बच्‍चा एक समान नहीं होता और इसलिए हर बच्‍चे को उनकी क्षमता के हिसाब से आंके, ना की प्रतिस्पर्धा के हिसाब से। आपको ये समझना होगा कि आप अपने बच्‍चे के क्षमता के हिसाब से उससे उम्‍मीद करें और जहां उनको दिक्‍कत आए वहां उनके साथ खड़े रहें। आइए जानें आपकी कौन सी ऐसी बाते हैं जो बच्‍चों पर दबाव डालती है और आपको उनको बदलने की जरूरत हैं।

child is stressed inside

इसे जरूर पढ़ें: नए साल में ये तरीके अपनाएंगी तो आपके बच्चे बनेंगे स्मार्ट

आप अपने बच्चे की विफलता से बेहद परेशान हैं:

एक बार जब आप अपने बच्चे के लिए लक्ष्य निर्धारित करते हैं, तो आप यह सुनिश्चित कर लेते हैं कि वो आपके लक्ष्‍यों को हासिल कर ही लेगा। इसके लिए आप उसे नवीनतम तकनीक प्रदान करते हैं, उसे अतिरिक्त क्‍लास में दाखिला दिलाते हैं, उसकी चीजों को सही क्रम में रखते हैं और इसी तरह यह सुनिश्चित करते हैं कि वह कुछ और नहीं बल्कि सिर्फ आपकी उम्मीदों को पूरा करने की दिशा में काम करें। और कई बार जब वह सफल नहीं होता है, तो आपको निराशा होती है।

क्‍या आप अपने बच्‍चे से अनुचित अपेक्षाएं रखती हैं:

आप अपने बच्चे के लिए अवास्तविक लक्ष्य निर्धारित करते हैं और चाहते हैं कि वह उन्हें प्राप्त करें। वास्तव में, आप ना केवल आप अपने बच्चे को एक उच्च उपलब्धि प्राप्त करना चाहते हैं। बल्कि अपने बच्चे को आपकी उम्मीदों को पूरा करने के लिए आप सख्त दिशानिर्देशों और निर्देशों को पूरा करते हैं।

सभी निर्णय आप लेते हैं:

अपने बच्चे को निर्णय लेने की अनुमति देने के बजाय आप उसकी ओर से निर्णय लेने में विश्वास करते हैं। आप अपने बच्चे से अपने निर्णय को मानाने की उम्मीद करते हैं और उसे बताते रहते हैं कि केवल आप ही हैं जो जो जानते हैं कि उसके लिए क्‍या सही है। आप उसके जीवन पर पूर्ण नियंत्रण रखते हैं।

child is stressed inside

आप अपने बच्चे को सुनने के लिए समय नहीं बख्शते:

ज्यादातर बच्चे अपने माता-पिता के साथ संवाद करना पसंद करते हैं और उनकी कंपनी में खुशी महसूस करते हैं। हालांकि, आप अपने बच्चे के साथ सख्त होने में विश्वास करते हैं और आपके पास समय नहीं होता है कि आप उसे शांति से उन्‍हें सुनें और उसकी चिंताओं को दूर करें। इसलिए, आपका बच्चा आपकी कंपनी से बचने की कोशिश करता है या जब आप आस-पास होते हैं, तो वह अजीब महसूस करता है।

आप बच्चे को बिगाड़ने के लिए परिवार के सदस्यों को दोषी मानते हैं:

जब आपका बच्चा अच्छा नहीं करता है, तो ना केवल आप बच्चे को दोष देते हैं, बल्कि अपने परिवार के अन्य सदस्यों, विशेषकर अपने पार्टनर और दादा-दादी को भी दोषी मानते हैं।

आप भावनात्मक रूप से अपमानजनक हैं:

आप बच्‍चों पर चिल्लाते हैं, उनपर विश्वास करते हैं। आप अपने बच्चे की आशंकाओं और चिंताओं के बारे में आलोचना और उपहास करते हैं और अपने बच्चे को उसके लिए निर्धारित किए गए लक्ष्य को प्राप्त करने के अलावा अपने स्नेह को दिखाने के लिए अनिच्छुक होते हैं। अपने दृष्टिकोण के साथ, आप अपने बच्चे में भय और अविश्वास की भावना पैदा करते हैं।

आप अपने बच्चे को अपनी खुशी के लिए जिम्मेदार बनाते हैं:

आप अपने बच्चे को यह बताने में लगे रहते हैं कि आप उसे सफल बनाने के लिए कितना त्याग कर रहे हैं। इसलिए, उसे केवल उन चीजों को करना चाहिए जो आपके बलिदान को सार्थक बनाता है और आपको खुश महसूस कराता है।

child is stressed inside

इसे जरूर पढ़ें: आपके नटखट बच्चे झटपट मान लेंगे आपका कहना अगर आप ये तरीके आजमाएंगी

आप बच्‍चे की सीमाओं को अनदेखा करते हैं:

जब आपका बच्चा घर से बाहर होता है तो आप हर बार और फिर फोन पर उससे संपर्क करते रहते हैं। आपको हमेशा यह संदेह होता है कि आपके मार्गदर्शन के बिना, वह 'गलत' चीजें कर सकता है।

अगर आप भी अपने बच्‍चे के साथ ऐसा करती हैं तो एक कदम पीछे लें और सोचें कि आप अपने बच्चे के साथ अपने रिश्ते को फिर से कैसे सही कर सकती हैं। माता-पिता की ये जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चे की सही परवरिश सुनिश्चित करें। उचित लक्ष्य निर्धारित करें और उसके साथ दया और प्‍यार का व्यवहार करें। 

 
Photo courtesy- (Bright Horizons, The Conversation, MindChamps & Imperfect Families)