दीपिका पादुकोण ने अब तक के अपने बॉलीवुड करियर में ऐसे ढेर सारे किरदार निभाए हैं, जो उनके लिए काफी चैलेंजिंग रहे हैं। चाहें पद्मावत में रानी पद्मिनी का किरदार हो या फिर बाजीराव मस्तानी में बाजीराव की दूसरी रानी मस्तानी का किरदार या फिर राम-लीला में लीला का किरदार, दीपिका पादुकोण ने हर तरह के रोल में खुद को प्रूव करने का प्रयास किया है और कन्विंसिंग लगी हैं। दीपिका पादुकोण अपनी हर फिल्म के लिए इतनी ज्यादा तैयारी करती हैं कि उनके किरदार पर्दे पर जीवंत हो उठते हैं। कुछ ऐसी ही बात उनकी नई फिल्म 'छपाक' की शूटिंग में भी देखने को मिल रही है।

फिल्म छपाक के लिए लक्ष्मी अग्रवाल ने ये कहा

इस बारे में लक्ष्मी ने एक इंटरव्यू में कहा, 'इस कहानी के जरिए लोगों को पता चलेगा कि एसिड अटैक सर्वाइवर्स अपनी लाइफ में किस तरह के स्ट्रगल से गुजरते हैं। इस फिल्म से लोगों का एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए सोचने का नजरिया बदलेगा, सोसाइटी और प्रोग्रेसिव होगी।' 

deepika padukone shooting in delhi inside

एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की जिंदगी पर आधारित फिल्म 'छपाक' के जरिए दीपिका पादुकोण महिलाओं को अपनी लाइफ में आने वाली क्राइसिस सिचुएशन में कॉन्फिडेंस के साथ जीने की इंस्पिरेशन देंगी। इस फिल्म की शूटिंग इन दिनों दिल्ली में चल रही है और दीपिका पादुकोण इसे लेकर काफी ज्यादा एक्साइटेड हैं।

इसे जरूर पढ़ें: फिल्म छपाक के सेट से लीक हुई दीपिका पादुकोण की नई तस्वीर

deepika padukone chhapaak inside

दिल्ली की सड़कों पर जब दीपिका लक्ष्मी अग्रवाल के गेटअप में शूट करती दिखाई दीं, तो उनके फैन्स भी उन्हें देखकर एक्साइटेड हो गए। इस शूटिंग की कुछ एक्सक्लूसिव तस्वीरें हम आपको दिखा रहे हैं। 

deepika padukone role of laxmi aggarwal inside

इस फिल्म में दीपिका के साथ विक्रांत मेसी भी अहम भूमिका में हैं। दीपिका पादुकोण जब दिल्ली के राजौरी मार्केट में शूटिंग कर रही थीं तो उन्हें उस गेटअप में पहचानना ही मुश्किल हो रहा था। दीपिका के लुक को रियलिस्टिक दिखाने के लिए मेकअप पर भी काफी ध्यान दिया गया है। लेकिन दिल्ली की गर्मी में इस काम में चैलेंज और भी ज्यादा बढ़ जाता है, इसीलिए इंटरनेशनल मेकअप आर्टिस्ट दीपिका के लुक को परफेक्ट करने के लिए उनके लुक पर पूरा ध्यान दे रहे हैं।

Recommended Video

इस फिल्म की इंस्पिरेशन लक्ष्मी अग्रवाल भी फिल्म को लेकर काफी जोश में हैं। आखिर क्यों ना हों, उनके जज्बे और हौसले ने उन्हें ना सिर्फ जिंदगी जीने का नया नजरिया दिया, बल्कि उनके जैसी एसिड अटैक की शिकार महिलाओं को हौसले के साथ आगे बढ़ने का रास्ता दिखाया। दिल्ली की एक मिडिल क्लास लड़की, जिसके चेहरे पर एक सनकी ने तेजाब फेंककर उसका चेहरा बिगाड़ दिया और उसे कभी ना भूल पाने वाला दर्द दिया, उस महिला ने अपनी हिम्मत और जज्बे से देश के करोड़ों लोगों का दिल जीत लिया। आज की महिलाओं के लिए लक्ष्मी अग्रवाल सही मायने में रोल मॉडल हैं। 

एक्टिविस्ट, मोटिवेशनल स्पीकर और एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल इस बात से खुश हैं कि उनकी जिंदगी पर महिलाओं को प्रेरित करने वाली फिल्म बनाई जा रही है। मेघना गुलजार के डायरेक्शन वाली इस फिल्म के लिए लक्ष्मी अग्रवाल को मोटी रकम दी गई है। लक्ष्मी फिलहाल दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाके में अपनी चार साल की बेटी के साथ रहती हैं। लक्ष्मी के पास ना तो गाड़ी है, ना बंगला है, वह किराए के घर में रहती हैं और उनकी नौकरी भी स्थाई नहीं है। इन स्थितियों के बावजूद लक्ष्मी बेहद मजबूत इरादों वाली महिला हैं, जो अपने सपनों को सच कर दिखाने के लिए कड़ी मशक्कत कर रही हैं। हम उम्मीद करते हैं कि इस फिल्म के साथ लक्ष्मी अग्रवाल की रियल लाइफ की स्थितियां बेहतर हों और वह कामयाबी की नई इबारत लिखें।