वर्ष 2021 का आखिरी महीना यानि दिसंबर बहुत खास है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी दिसंबर में कई तीज-त्योहार पड़ रहे हैं। वैसे तो दिसंबर का महीना आते ही लोग पूरे साल को अलविदा और नए वर्ष का स्वागत करने की तैयारी में जुट जाते हैं, मगर हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस माह कुछ विशेष तीज-त्योहार भी आते हैं। 

चलिए हम आपको दिसंबर में आने वाले महत्वपूर्ण त्योहारों की लिस्ट और उनके शुभ मुहूर्त के बारे में बताते हैं- 

इसे जरूर पढ़ें: Festival Calendar 2022: होली, जन्‍माष्‍टमी और दिवाली सहित वर्ष 2022 में आने वाले त्योहारों की तिथि और शुभ मुहूर्त जानें

december    events

विनायक चतुर्थी 

तिथि- 7 दिसंबर, मंगलवार 

महत्व- हिंदू पंचांग के अनुसार हर महीने पूर्णिमा के बाद पड़ने वाली चतुर्थी को संकष्टी और अमावस्या के बाद शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली चतुर्थी को विनायक कहा जाता है। इस महीने विनायक चतुर्थी 7 दिसंबर को पड़ रही है। वैसे तो सबसे बड़ी विनायक चतुर्थी गणेश चतुर्थी को कहा गया है। मगर 7 दिसंबर को साल की आखिरी विनायक चतुर्थी है। इस दिन भगवान श्री गणेश की पूजा करना अति शुभ होता है।  

शुभ मुहूर्त- 7 दिसंबर को सुबह 11:10 से दोपहर 13:15 तक पूजा करने के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा। 

इसे जरूर पढ़ें: Panchang December 2021: दिसंबर के महीने में अमावस्या के साथ कौन सी होंगी मुख्य तिथियां, मासिक पंचांग में जानें

मोक्षदा एकादशी 

तिथि- 14 दिसंबर, मंगलवार 

महत्व- भगवान श्रीकृष्ण ने अपने उपदेशों में कहा है कि मनुष्य को मोह मुक्त होना जरूरी है। दिसंबर माह में पड़ने वाली मोक्षदा एकादशी मोह के नाश के लिए ही मनाई जाती है। इस एकादशी में व्रत रखने से खुद को और पूर्वजों को मोक्ष प्राप्त होता है। इस एकादशी के दिन आपको फूल और पत्ती नहीं तोड़नी चाहिए और चावल भी नहीं खाना चाहिए। 

शुभ मुहूर्त- 13 दिसंबर, सोमवार की रात 9:32 पर एकादशी की तिथि का शुभारंभ होगा और 14 दिसंबर, मंगलवार की रात 11:35 पर इस एकादशी तिथि का समापन हो जाएगा।

december  festival  list

मार्गशीर्ष पूर्णिमा 

तिथि- 19 दिसंबर, रविवार 

महत्व- मार्गशीर्ष एक नक्षत्र का नाम है और यह नक्षत्र स्वयं भगवान श्रीकृष्ण का एक स्वरूप है। इसलिए मार्गशीर्ष मास में भगवान विष्णु के श्रीकृष्ण अवतार की उपासना की जाती है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर यदि आप किसी पवित्र नदी जैसे- गंगा या यमुना में स्नान करते हैं, तो इसे बहुत ही शुभ माना जाता है। वैसे भगवद्गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने भी बताया है कि इस दिन यदि कोई यमुना नदी में स्नान करता है, तो उसे वह प्राप्त हो जाते हैं। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर शंख की पूजा करने का भी विशेष महत्व है। 

शुभ मुहूर्त-18  दिसंबर, शनिवार को  सुबह 7:26 से पूर्णिमा आरम्भ होगी और 19 दिसंबर रविवार को सुबह 10:07 पर पूर्णिमा समाप्त होगी 

सफला एकादशी

तिथि- 30 दिसंबर, गुरुवार 

महत्व- सफला एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। यदि आपको किसी कार्य में सफलता प्राप्त करनी है, मगर मेहनत करने के बाद भी आप सफल नहीं हो पा रहे हैं तो आपको सफला एकादशी का व्रत जरूर रखना चाहिए। ऐसा करने पर आपको सफलता का मार्ग नजर आने लगेगा।  

शुभ मुहूर्त- 30 दिसंबर सुबह 7:13 से 31 दिसंबर 9:17 तक

यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।  

Image Credit: Freepik