किसी भी बच्चे के करियर को चुनने में उसके माता-पिता का एक अहम् रोल होता है। बच्चे के जन्म लेते ही पैरेंट्स उसके एक अच्छे भविष्य के लिए सपने संजोने लगते हैं। इतना ही नहीं, बचपन से ही बच्चा अपने करियर के पथ पर कदम रख लेता है। साथ ही साथ उसकी अतिरिक्त तैयारी भी छोटी उम्र से ही शुरू हो जाती है। अधिकतर बच्चों के मन में यह बचपन से होता है कि उन्हें बड़े होकर क्या बनना है। इसमें उनके पैरेंट्स की भी सहमति होती है।

हालांकि, ऐसे कई सेलेब्स हैं, जिन्होंने बचपन में कुछ और बनने का सपना देखा, लेकिन बड़े होते-होते उनके करियर की राहें जुदा हो गईं और उन्होंने एक्टिंग की दुनिया में कदम रखा। लेकिन शुरूआत में उनके पैरेंट्स इस चीज के सपोर्ट में नहीं थे। वे चाहते थे कि उनके बच्चे कोई दूसरा करियर ऑप्शन चुनें। इस कारण उनके बीच कुछ वक्त के लिए तनाव भी रखा। हालांकि, बाद में चीजें सामान्य हो गईं। तो चलिए आज हम आपको ऐसे ही कुछ सेलेब्स के बारे में बता रहे हैं, जिनके पैरेंट्स अपने बच्चों के बॉलीवुड में काम करने के पक्ष में नहीं थे-

कंगना रनौत

kangana

इस लिस्ट में पहला नाम आता है कंगना रनौतका। कंगना को चार बार नेशनल अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। आज के समय में वह एक ऐसी अदाकारा के रूप में जानी जाती हैं, जिन्हें फिल्मों में सफलता के लिए किसी बड़े हीरो की जरूरत नहीं है। वह अपने बेहतरीन अभिनय के दम पर भी फिल्मों को एक अलग मुकाम दे सकती हैं। हालांकि, शुरूआत में उनके पैरेंट्स नहीं चाहते थे कि कंगना फिल्मे करे। वह उन्हें डॉक्टर बनाना चाहते थे। हालांकि 12वी में एक यूनिट टेस्ट के दौरान केमेस्ट्री में फेल होने के बाद उन्होंने अपने करियर पर दोबारा विचार किया। इतना ही नहीं, बेहद कम उम्र में उन्होनें घर छोड़ दिया था। जिसके कारण उनके और उनके पेरेंट्स के बीच काफी वक्त तक तनाव रहा। हालांकि, अब उनके पैरेंट्स उनकी सफलता को देखकर काफी खुश होते हैं।

दीपिका पादुकोण

deepika

दीपिका पादुकोण आज बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेसेस में से एक हैं। हालांकि, एक्टिंग करियर में आगे बढ़ने से पहले वह अपने पिता, बैडमिंटन चैंपियन प्रकाश पादुकोण की तरह ही बैडमिंटन खिलाड़ी थीं। लेकिन 16 साल की उम्र में उनका ध्यान मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया में चला गया। हालांकि, दीपिका माता-पिता हमेशा उसके फैसलों का समर्थन करते रहे हैं। लेकिन उन्होंने बताया था अगर वह अपने पिता की तरह बैडमिंटन खेलती तो उन्हें अधिक खुशी होती।

इसे ज़रूर पढ़ें- बॉलीवुड की वो फिल्में जिन्होंने किया मेंटल हेल्थ के प्रति जागरूक

नेहा धूपिया 

neha

नेहा धूपिया ने साल 2002 में मिस इंडिया पेजेंट जीता था और मलयालम फिल्मों ने अपने करियर की शुरूआत की थी। लेकिन नेहा के पिता नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी एक्टिंग की दुनिया में कदम रखे। इसकी जगह, वह नेहा को एक आईएएस ऑफिसर बनाना चाहते थे।

सोनम कपूर

sonam

जब सोनम कपूर ने अपने पिता अनिल कपूर की तरह एक्टिंग की दुनिया में काम करने की इच्छा की थी, तो शुरूआत में सुपरस्टार अनिल कपूर बेटी सोनम के फिल्मों में आने के पक्ष में नहीं थे और चाहते थे कि वह उच्च शिक्षा हासिल करे। इतना ही नहीं, उन्होंने शबाना को सोनम को फिल्म उद्योग में शामिल होने से रोकने के लिए कहा था। शबाना ने उन्हें लंदन में पढ़ने की सलाह दी थी, लेकिन भाग्य ने उनके लिए कुछ और ही सोचा था। 

सारा अली खान

saif ali khan

अमृता सिंह और सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान को उनके पिता ने इंडस्ट्री में न आने की सलाह दी थी। सैफ अली खानअपनी बेटी के एक्टिंग के प्रति क्रेज को लेकर खुश नहीं थे क्योंकि उन्हें लगता था कि पेशा बहुत जोखिम भरा था और एक पिता के रूप में वह नहीं चाहते थे कि वह एक अस्थिर पेशे में प्रवेश करें। सैफ की इच्छा थी कि सारा बॉलीवुड में शामिल होने के बजाय न्यूयॉर्क में रहें और एक स्टेबल जॉब करें।

इसे ज़रूर पढ़ें- बॉलीवुड फिल्मों के सबसे दमदार विलेन, जिनके आगे हीरो भी पड़ गए फीके

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Instagram