अपनी शादी में भला कौन स्टाइलिश दिखना नहीं चाहता है। खासतौर पर लड़कियां स्टाइलिश दिखने के लिए कई महीने पहले से ही शॉपिंग करने लगती हैं। लेकिन कई बार आपकी पसंदीदा ड्रेस इतनी महंगी होती है कि आप चाह कर भी इसे खरीद नहीं पाती हैं। ऐसे मे गुजरात वड़ोदरा की अष्ट सहेली साड़ी लाइब्रेरी ने एक अनोखी पहल करके महंगी सदियों को बहुत की कम कीमत पर किराए पर देने की शुरुआत की है।

दरअसल यह साड़ी लाइब्रेरी पांच दिनों तक मामूली कीमत पर एक बार में तीन साड़ियों को किराए पर लेने की सुविधा प्रदान करती है। जिससे कोई भी और किसी भी बजट के साथ होने वाली दुल्हन अपनी शादी के हर एक फंक्शन के लिए पोशाक किराए पर ले सकती है और शादी में खूबसूरत नजर आ सकती है। आइए जानें क्या है अष्ट सहेली साड़ी लाइब्रेरी और क्या है उनकी अनोखी पहल। 

क्या है अष्ट सहेली साड़ी लाइब्रेरी 

asht saheli saree library varodara

जून 2020 में आठ सहेलियों ने गुजरात के वड़ोदरा में एक साड़ी लाइब्रेरी की शुरुआत की थी। वड़ोदरा शहर के ओल्ड पडरा रोड पर मल्हार पॉइंट पर एक साड़ी लाइब्रेरी सभी आय पृष्ठभूमि की महिलाओं के लिए पांच दिनों तक बहुत ही कीमत पर एक बार में तीन साड़ियों को किराए पर लेने की सुविधा प्रदान करती है। दरअसल इस लाइब्रेरी का उद्देश्य उन महिलाओं को बेस्ट ब्राइडल लुक देना है जो किसी वजह से या कम बजट के कारण महंगे कपड़े नहीं खरीद सकती हैं। इस लाइब्रेरी की संस्थापक हेमा चौहान हैं और उन्होंने बेटर इंडिया को इंटरव्यू देते हुए बताया कि पिछली गर्मियों में, उनके घर की सहायिका ने कहा कि वह एक  शादी समारोह में कुछ अच्छा पहनना चाहती है लेकिन ऊके पास नए महंगे कपड़े खरीदने का बजट नहीं है। तब हेमा जी ने उसे चन्या चोली उधार दी थी। उसके परिवार में हर कोई उसकी इस पोशाक से प्रभावित था और सबने उससे यही पूछा कि उसने ये कहां से खरीदा है। 

इसे भी पढ़ें:मिलिए सोशल मीडिया पर अपने डांस से लोगों का मन बहलाने वाली 'डांसिंग दादी' से

कैसे हुई अष्ट सहेली साड़ी लाइब्रेरी की शुरुआत 

इस लाइब्रेरी की संस्थापक हेमा जी बताती हैं कि हममें से ज्यादातर लोगों के पास ऐसे एथनिक वियर होते है जिसे हमने केवल एक या दो बार ही पहना होता है। जब उनके घर की सहायिका ने उनसे उधार में शादी में पहनने के लिए एथनिक वियर लिए तब हेमा जी को ख्याल आया जो महिलाएं शादी या किसी समारोह में पहनने के लिए महंगे कपड़े नहीं खरीद सकती हैं उनके लिए ऐसी लाइब्रेरी बनाई जाए जिसमें दान में मिले महंगे एथनिक वियर को कम कीमत पर किराए में दिया जा सके। उस समय हेमा जी ने अपने संग्रह में पांच पोशाकें दान करके इस लाइब्रेरी की शुरुआत की थी।

कौन हैं इस लाइब्रेरी की आठ महिलाएं 

इस लाइब्रेरी की संस्थापक हेमा चौहान हैं और हेमा जी के अलावा इस अष्ट सहेली ग्रुप की कोर कमेटी में नीला शाह, रीता विठलानी, पारुल पारिख, साधना शाह, गोपी पटेल, नीलिमा शाह और ट्विंकल पटेल शामिल हैं। ये सभी महिलाएं मिलकर उन लोगों को सुविधाएं प्रदान करती हैं जो किसी वजह से जैसे समय की कमी या फिर पैसे की कमी की वजह से शादी समारोह के लिए अच्छी पोशाक नहीं खरीद पा रही हैं। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Hema Chauhan (@hemanginitrvedi)

कैसा है एथनिक वियर का कलेक्शन 

अष्ट सहेली साड़ी लाइब्रेरी में कांजीवरम रेशम साड़ी, बनारसी, कोटा चेक, बंधनी से लेकर शिफॉन और जॉर्जेट तक 400 से अधिक साड़ियों का संग्रह है। इसके संग्रह में 30 चन्या चोलिस और 60 अन्य जातीय 'पोशाक' जैसे पलाज़ो, लहंगा और ब्लाउज भी शामिल हैं। उनकी लाइब्रेरी में कुछ बेहतरीन और महंगी बनारसी और शिफॉन साड़ियां भी हैं। 

कैसे किराए पर ले सकते हैं एथनिक वियर 

ethnic wear in rent

इस लाइब्रेरी से कोई भी पोशाक लेने के लिए बस इतना करना होता है कि आप डिपाजिट मनी का भुगतान करें और एथनिक वियर अपने घर ले जाएं। उन्हें बस इतना करना है कि जमा शुल्क का भुगतान करें और साड़ियों को घर ले जाएं। एक बार जब आप साड़ी वापस कर देंगे तब जमा राशि वापस कर दी जाती है और महिलाओं से केवल ड्राई-क्लीनिंग शुल्क लिया जाता है, जो कि लगभग 250 रूपए होता है। हेमा जी बताती हैं कि जब से इसे शुरू किया गया है, सभी क्षेत्रों की 200 से अधिक महिलाओं ने साड़ी लाइब्रेरी से कुछ बेहतरीन पोशाकें ली हैं। यह लाइब्रेरी दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहती है। 

इसे भी पढ़ें:वुमेन अचीवर्स : इन महिलाओं के नाम रहा साल 2021

Recommended Video


भारत के हर कोने से आते हैं एथनिक वियर 

इस समूह को न केवल वडोदरा से बल्कि दिल्ली और मुंबई से भी कई बार एथनिक वियर का दान मिला है। हेमा जी बताती हैं कि “हमारे पास पहुंचने वाली पहली महिला ने हमें 30-35 पोशाकें भेजीं। उनमें से अधिकांश शायद ही कभी पहनी हुई थीं और कुछ पर उनके टैग भी थे। इनमें से एक चन्या चोली की कीमत लगभग 25,000 रुपये है। 

वास्तव में यह साड़ी लाइब्रेरी उन महिलाओं के लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है जो शादी के लिए बड़े सपने संजोए रहती हैं लेकिन पैसों की कमी उन्हें उनके सपने साकार नहीं होने देती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: thebetterindia.com