हमारी हिंदी फिल्मों में ऐसा बहुत कुछ होता है जिसे देखकर हम सपने सजाने लगें। प्यार के बहुत अनोखे कॉन्सेप्ट देखने को मिलते हैं जैसे स्टॉकर से प्यार हो जाना (रांझना), किसी गुंडे को अपना दिल दे बैठना (डॉन, माफिया, सत्या और बहुत कुछ), किसी 35 साल के बच्चे से प्यार कर बैठना और उसके लिए सब कुछ करना (वेक अप सिड, ये जवानी है दिवानी) और को और किसी झूठे इंसान को सबसे रोमांटिक मान लेती हैं (रहना है तेरे दिल में)। ऐसी ही बहुत सारी फिल्में आपको मिल जाएंगी जहां किसी ऐसे चीज़ को ग्लैमराइज करने की कोशिश की जाती है जो सही नहीं है। 

उदाहरण के तौर पर हमारी बॉलीवुड फिल्मों में लड़की को छेड़ना, उसे स्टॉक करना, उससे झूठ बोलना आदि सब कुछ नॉर्मल माना जाता है, पर क्या ये सही है? ये तो चलिए मेल कैरेक्टर्स की बात हुई, लेकिन फीमेल कैरेक्टर्स भी ऐसे होते हैं जिन्हें ग्लैमराइज किया जाता है जबकि असल जिंदगी में ऐसे कैरेक्टर्स बहुत बचकाने लग सकते हैं। 

तो चलिए आज हम ऐसे ही 5 फीमेल कैरेक्टर्स की बात करते हैं जिन्हें फॉलो ना किया जाए तो ही बेहतर होगा। 

1. 'तनु वेड्स मनु' की तनु

फिल्म 'तनु वेड्स मनु' ने कंगना को नेशनल अवॉर्ड दिला दिया और इस फिल्म को बहुत सराहा गया, लेकिन अगर इसे एक कॉमेडी फिल्म के परे देखा जाए तो तनु को यकीनन अपनी जिंदगी को और जिंदगी में मौजूद लोगों को सीरियसली लेने की जरूरत थी। 

tanu and manu

अपने ही पति को पागलखाने भेज देना और फिर उसकी किसी और के साथ शादी की बात को लेकर परेशान होना, किसी और लड़की पर आरोप लगाना, अपनी गलती ना देखते हुए सिर्फ सामने वाले की गलती देखना और उसे बिना किसी बात के गिल्टी महसूस करना ये सब कुछ तनु का काम था।

इसे जरूर पढ़ें- क्या आप जानते हैं ये 10 बॉलीवुड एक्टर्स कर चुके हैं पाकिस्तानी फिल्मों में काम?

Recommended Video

2. 'जब वी मेट' की गीत

गीत वो कैरेक्टर थी जिसे सिर्फ और सिर्फ अपने सपनों की दुनिया में जीना पसंद था। यहां तक कि वो किसी और की पर्सनल स्पेस के बारे में ना सोचते हुए अपनी नाक बीच में अड़ा देती थी। फिल्म में यकीनन इसे अच्छा दिखाया गया है, लेकिन क्या ये वाकई सही है? 

geet

अगर कोई इंसान इमोशनल ब्रेकडाउन से गुजर रहा है तो उसे किसी अंजान लड़की का बार-बार परेशान करना अच्छा नहीं लगेगा। इतना ही नहीं गीत अपने लिए फैसले के लिए भी दूसरे इंसान को ही गलत ठहरा रही थी। अपने ब्वॉयफ्रेंड पर भी अपना लिया हुआ फैसला थोपना चाह रही थी। गीत के साथ खुद जब इमोशनल ब्रेकडाउन हुआ तो उसे किसी का दखल देना पसंद नहीं आया। आखिर में उसने अपने उसी बॉयफ्रेंड को चीट करना पसंद किया और साफतौर पर उसे अपने ख्यालों के बारे में बताने से फिर वो मुकर गई।

3. 'गली ब्वॉय' की सफीना

अब इस कैरेक्टर को क्या कहा जाए ये आप खुद ही सोचिए। जब हम एक्स्ट्रा पजेसिव लड़के को गलत ठहरा रहे हैं तो एक लड़की भी तो सही नहीं हो सकती है। वो अपना हक जताने के लिए हाथापाई पर भी उतर सकती है। 

saifeena gully boy

वो अपने बॉयफ्रेंड पर जरूरत से ज्यादा हक जताने की कोशिश करती है और उसे रिलेशनशिप में स्पेस भी नहीं देती। अगर किसी इंसान को खुद स्पेस की जरूरत है तो उसे स्पेस देनी भी चाहिए। (DDLJ की शूटिंग के दौरान हुआ था एक हादसा)

4. 'कल हो ना हो' की नैना

ये वो लड़की है जो पूरी दुनिया से नाराज़ है, लेकिन अपनी दोस्त को फैट शेम करने में उसे कोई दिक्कत महसूस नहीं होती है। कोई उसे कुछ कहे तो वो उसका जवाब देने के लिए तुरंत तैयार हो जाती है, लेकिन अगर वो किसी को कुछ कहे तो उसे हंसते हुए सुन लेना चाहिए। 

kal ho na ho naina

नैना ने हमेशा अपने घर के झगड़े को सुलझाने की जगह खुद भी गुस्सा करने का रास्ता अपनाया। अपने दोस्त की फीलिंग्स की कद्र नहीं की और कोई अगर उसकी मदद कर रहा था तो उसे भी थैंक्स कहने की जगह पहले नैना ने इग्नोर करने का फैसला लिया। 

इसे जरूर पढ़ें- विदेश में पढ़ते हैं ये स्टार किड्स, जानिए कौन कर रहा है कहां पढ़ाई 

5. 'रांझणा' की ज़ोया 

ये वो लड़की है जिसने बचपन से लेकर जवानी तक किसी एक लड़के का फायदा उठाया और अपने फायदे के लिए झूठ बोला। इस फिल्म में हीरो की स्टॉकिंग गलत थी और साथ ही साथ इस फिल्म में ज़ोया का सेल्फिश होना भी गलत था।  

ranjhna zoya

कोई लड़का अगर आपको इतना नापसंद है तो उससे दूर होने की कोशिश की जाएगी और उसका इस्तेमाल तो बिल्कुल नहीं किया जाएगा।  

ये पांचों कैरेक्टर्स कई मायने में गलत हैं और इन्हें ग्लैमराइज करना ठीक नहीं होगा। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।