आटा खरीदना बहुत ही साधारण सी बात है। अब वो समय तो रहा नहीं जहां लोग खुद जाकर गेहूं पिसवाएं और आटा इस्तेमाल करे। आजकल मार्केट में तरह-तरह के आटे उपलब्ध हैं और लोग अपनी डाइट को लेकर और भी ज्यादा सतर्क होते जा रहे हैं। पर क्या आपको पता है कि किस तरह के आटे से आपके शरीर में कैसा फर्क पड़ता है या फिर जो आटा आप बाज़ार से खरीद रहे हैं वो सही है भी या नहीं। 

गेंहू के प्रकार से लेकर आटे की न्यूट्रीटिव वैल्यू तक बहुत सारी चीज़ें होती हैं जो हमें ध्यान रखनी चाहिए ताकि हमारे घर पर सही आटा आए। अगर आप भी बाज़ार से आटा खरीदती हैं तो हम आपको कुछ खास टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें चेक करना बहुत जरूरी है। 

1. आटे की न्यूट्रीटिव वैल्यू और इंग्रीडियंट्स-

कई बड़े ब्रांड्स भी अपने इंग्रीडियंट्स में ब्लीच का इस्तेमाल करते हैं ताकि आटा एकदम सफेद दिखे। इसके अलावा, रिफाइंड आटे की जगह पर होल व्हीट या होल ग्रेन आटा बहुत ज्यादा लाभकारी होता है क्योंकि उसमें ग्लूटन भी कम होता है और ये डाइटरी फाइबर और न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होता है। आटे की न्यूट्रीटिव वैल्यू को ध्यान में रखते हुए ही आटा खरीदें। थोड़ा समय लगाकर रिसर्च करें और देखें कि किस तरह का आटा आपकी सेहत के लिए अच्छा है। जैसे ज्यादा वजन और दिल की बीमारी आदि से परेशान लोगों को कम ग्लूटन वाला आटा लेना चाहिए। साथ ही एकदम सफेद आटे के पीछे न भागें क्योंकि वो ज्यादा रिफाइंड होता है और सेहत के लिए अच्छा नहीं होता। 

buying flour

ध्यान रखें कि ब्लीच किसी इंग्रीडियंट लिस्ट में लिखा नहीं होगा बल्कि उसकी जगह केमिकल नेम होते हैं जैसे  Benzoyl Peroxide, Nitrogen Dioxide, Axcorbic Acid, Nitrogen Tetroxide आदि। 

इसे जरूर पढ़ें- शादी से पहले स्किन और बालों में ऐसे आएगी शाइन, एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से जानें टिप्स 

2. आटा कब पिसा है इस बात का ध्यान दें-

कई ब्रांड्स अपने पैकेट में आटे के पिसने की डेट भी देते हैं। जितना फ्रेश आटा होगा ये सेहत के लिए उतना अच्छा होगा। इसीलिए लोग गेहूं पिसवा कर आटा बनाना ज्यादा सही मानते थे। कई बार तो दो-तीन महीने पहले पिसा आटा भी लोग खरीद लेते हैं और ये अच्छा नहीं होता। गेहूं का आटा जितना पुराना होता जाता है वो अपनी न्यूट्रीटिव वैल्यू खोता जाता है। इसलिए आटा खरीदते समय पैकेट में लिखी तारीख को बहुत ध्यान से देखें। 

3. अपनी सेहत के हिसाब से आटा सिलेक्ट करें-

अगर आपको किसी तरह की बीमारी है, कोई दवा चल रही है और फिर किसी तरह की अन्य शारीरिक दिक्कत या एलर्जी है तो उस हिसाब से ही आटा चुनें। आजकल मार्केट में कई वैराइटी के आटे आते हैं और लोगों को ये समझ नहीं आता है कि उन्हें किस तरह का आटा लेना चाहिए। लोगों को लगता है कि बाजरे या रागी का आटा उनके लिए अच्छा होगा क्योंकि ये ट्रेंड में है, लेकिन ऐसा कोई भी स्टेपल डाइट परिवर्तन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए। कई बार लोगों को पता नहीं होता कि उनके शरीर पर किस तरह की चीज़ों का कैसा रिएक्शन होगा और इसलिए ये फैसला प्रोफेशनल की सलाह के बाद ही लेना चाहिए। 

buying different types of flour

इसे जरूर पढ़ें- सर्दियों में अपनी डाइट में जरूर शामिल करें स्ट्रॉबेरी, तापसी पन्नू की न्यूट्रिशनिस्ट से जानें इसके फायदे  

आटा बदलने या खरीदने को लेकर फैसला लेना बहुत ही आम बात है, लेकिन शायद आपको ये नहीं पता है कि ये आपकी सेहत पर कितना बड़ा असर डाल सकता है। आपको इन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।