क्या आप जानते हैं कि भारत की तरह ही ब्रिटेन में भी करी बहुत पसंद की जाती है। पहले तो मैं आपको बता दूं कि यहां कढ़ी की नहीं बल्कि करी की बात हो रही है जिसे हम सब्जी कहते हैं वो ब्रिटिशर्स के लिए करी है। अब भारत में इतनी विविधता है तो यहां कई तरह के खान-पकवान होते हैं। कुछ डिशेज ऐसी हैं जिन्हें हम मानते तो हैं कि भारतीय हैं, लेकिन होती नहीं और ऐसी ही एक डिश है विंडलू (Vindaloo) इस गोअन डिश को ब्रिटेन में बहुत पसंद किया जाता है। 

पूरी दुनिया में ये माना जाता है कि ये डिश भारतीय है, लेकिन ऐसा है नहीं। ये डिश भारतीय नहीं है और इस डिश को लेकर कई सारी भ्रांतियां भी हैं। आज हम इसी के इतिहास के बारे में बात करेंगे और साथ ही इसकी रेसिपी भी शेयर करेंगे। 

क्यों खास है विंडालू-

जिन लोगों को स्पाइसी खाने का शौक है उनके लिए ये डिश बहुत ही अच्छी होती है। इसे अलग-अलग तरह के मीट के साथ बनाया जाता है और आप चाहें तो वेज विंडालू भी बना सकते हैं, लेकिन ये असल मायने में नॉन-वेज डिश है। इसमें कई मसालों का इस्तेमाल होता है और इस डिश में तीन अलग-अलग महाद्वीपों के क्विजीन का समागम है। ये भारत की सबसे स्पाइसी करी में से एक होती है। 

goan vindaloo

इसे जरूर पढ़ें- कटहल को खरीदने, स्टोर करने और काटने के सबसे आसान टिप्स

क्या है विंडालू का इतिहास?

Lizzie Collingham की किताब Curry: A tale of Cooks and Conquerors में विंडालू के बारे में भी कुछ लिखा हुआ है। किताब के अनुसार ये गोअन डिश नहीं है बल्कि ये पुर्तगाल से आई हुई डिश है। 15वीं सदी के आस-पास पुर्तगाल में मीट को स्टोर करने के लिए उसे सिरके की मदद से मैरिनेट किया जाता था। इसमें कुछ मसाले भी एड किए जाते थे जिससे ये बहुत फ्लेवरफुल होता था। 

इसी किताब के अनुसार विंडालू का असल प्रनन्सिएशन vinho e albos (विन्हू ई एल्बोस) होता है। ये पुर्तगाल की डिश है और पुर्तगाल में विनेगर, नमक, लहसुन और वाइन के जरिए मीट को प्रिजर्व किया जाता था। इसी से विंडालू का विकास होना शुरू हुआ। जब पुर्तगाली लोग गोवा आए तो विंडालू को अपने साथ ही लेकर आए। भारत में ये अलग-अलग तरह के प्रयोगों के साथ बनाया गया। वैसे तो यहां वाइन नहीं इस्तेमाल होती है, लेकिन ताड़ी से बना हुआ सिरका गोवा में इस डिश के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 

16वीं और 17वीं सदी के आस-पास विंडालू के गोवा में अलग-अलग तरह के विंडालू आ चुके थे। इसमें कई मसाले डाले गए थे और पोर्क, बीफ, चिकन, लैंब आदि मीट के साथ विंडालू बनाया जाने लगा था। ये डिश इसके बाद ब्रिटिशर्स तक पहुंची। धीरे-धीरे ये डिश नॉर्थ इंडिया और ईस्ट इंडिया में भी पहुंची और यूरोपियन क्विजीन से इसका मिलन हुआ। 

Recommended Video

क्या है चिकन विंडालू की रेसिपी? 

अब जब आप विंडालू का इतिहास जान गए हैं तो हम आपको चिकन विंडालू की रेसिपी के बारे में बताते हैं।  

सामग्री- 

मैरिनेशन के लिए-  

250 ग्राम बोनलेस चिकन, मक्खन  (स्वादानुसार), हल्दी पाउडर (स्वादानुसार) , नमक (स्वादानुसार) 

मसाला के लिए- 

मेथी और जीरा दाने दो चम्मच (पीसकर विंडालू मसाला बनाना है), 4 चम्मच कटे हुए प्याज, 1.5 चम्मच अदरक-लहसुन का पेस्ट, 4 चम्मच ऑलिव ऑयल, 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर, 1/2 कप टमाटर की प्यूरी, 1/2 चम्मच लाल मिर्च पाउडर, 3 चम्मच इमली का पानी, नमक स्वादानुसार 

इसे जरूर पढ़ें- टिफिन के लिए झटपट बनाएं 15 मिनट में बनने वाली ये 5 चटपटी रेसिपीज 

कैसे बनाएं- 

1. चिकन को मैरिनेट करें और इसे दो घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें। अगर रात भर इसे छोड़ सकते हैं तो वो भी अच्छा है। 

2. एक मीडियम पैन में बटर के साथ मैरिनेटेड चिकन को डालें और 10 मिनट तक मीडियम आंच पर पकाएं। 

3. जीरा और मेथी दानों को ग्राइंड कर पीस लें और विंडालू मसाला बनाएं। आप चाहें तो दो सूखी लाल मिर्च भी डाल सकते हैं। 

4. अब एक पैन में तेल गर्म करें और अदरक-लहसुन का पेस्ट, लाल मिर्च पाउडर, प्याज, टोमेटो प्यूरी, हल्दी पाउडर, नमक, विंडालू मसाला, चिकन और इमली का पानी डालकर भूनें। 

5. अब सभी चीज़ों को अच्छे से मिक्स करें (चिकन, विंडालू मसाला) और इसे करीब 15 मिनट तक पकने दें। 

6. अब आपका विंडालू तैयार है। इसे किसी सर्विंग प्लेट में डालकर एन्जॉय करें।  

अगर आपको ये स्टोरी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।