• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

जानें कौन हैं दिव्या अजित कुमार जिन्हें ‘स्वॉर्ड ऑफ ऑनर’से किया गया सम्मानित

भारतीय सेना में पहले महिलाएं अधिकारी के पद पर नहीं पहुंच पाती थीं। लेकिन अब कई ऐसी महिला अफसर हैं, जो सरहद पर देश का मान बढ़ा रही हैं। 
author-profile
Published -28 Jul 2022, 16:19 ISTUpdated -28 Jul 2022, 16:34 IST
Next
Article
Divya Ajith story

भारतीय सेना में जाना किसी भी नागरिक के लिए बड़े ही सम्मान की बात होती है। लेकिन आजादी के बाद कई सालों तक महिलाएं सेना का हिस्सा नहीं हुआ करती थीं। लंबे संघर्ष के बाद आखिरकार महिलाएं भी सेना में भर्ती की जाने की लगी। लेकिन इसके बावजूद कभी समय तक उन्हें बड़े आधिकारिक पद नहीं दिए जाते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं है, सेना में कई ऐसी महिलाएं जो आज ऊंचे पद पर कार्यरत हैं। कैप्टन दिव्या अजित भी उन्हीं महिला सेना अधिकारियों में से एक हैं। बता दें कि 21 साल की उम्र में दिव्या अजित कुमार ने बेस्ट कैडेट बनते हुए इतिहास रच दिया। आइए जानते हैं दिव्या के बारे की इस जर्नी के बारे में।

कौन हैं दिव्या अजित कुमार?

who is divya ajith kumar

कैप्टन दिव्या अजित कुमार भारतीय सेना ऐऐडी की अधिकारी है। बता दें कि वो ओटीए चेन्नई से पास हुई थीं। इसके अलावा  दिव्या अजित कुमार मात्र 21 साल में ‘सवोर्ड ऑफ हॉनर’ से सम्मानित किए जाने वाली पहली महिला कैडेट हैं। गणतंत्र दिवस साल 2014 में दिव्या ने 26 जनवरी की पड़े में महिला अधिकारियों और कैडेटों में सभी महिला टीमों का नेतृत्व किया था। वह किसी महिला परेड का नेतृत्व करने वाली पहली महिला के रूप में भी जानी जाती हैं। 

कप्तान दिव्या का बचपन और करियर

who is divya ajith first female officer to lead a contingent on army day parade

कैप्टन दिव्या अजित कुमार का जन्म चेन्नई के एक तमिल परिवार में हुआ था। इससे पहले उनके घर में कोई भी सेना से जुड़ा हुआ नहीं था। दिव्या की शिक्षा चेन्नई में पूरी हुई और वहीं उन्होंने अपना ग्रेजुएशन चेन्नई के स्टेला मारिस कॉलेज से पूरा किया। कॉलेज में पढ़ाई के दौरान ही दिव्या एनसीसी कैडेट कोर में शामिल हो गईं। जिसने उन्हें भारतीय सेना में जाने के लिए और भी ज्यादा प्रेरित किया। इसी के साथ उन्होंने ओटीए की परीक्षा देने का मन बनाया। जहां वो ओटीए, चेन्नई में शामिल हुईं। वहां पर उन्हें स्वॉर्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया। बता दें कि यह सम्मान किसी भी कैडेट को उसके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए दिया जाता है। 

इसे भी पढ़ें- पिता पर हुए जुल्म ने बेटी को पुलिस बनने के लिए किया प्रेरित, जानें भारत की पहली महिला DGP की कहानी

कला में निपुण हैं दिव्या

first female officer to lead a contingent on army day parade

कैप्टन दिव्या केवल बहादुर ही नहीं, बल्कि नृत्य और कला के गुण भी रखती हैं। वो भरतनाट्यम नृतक भी हैं साथ ही वो बास्केटबॉल और डिसकस थ्रो की भी अच्छी खिलाड़ी हैं।

इसे भी पढ़ें- पत्रकारिता में करियर बनाने वाली एक्ट्रेस जीनत अमान आखिर कैसे बनीं भारत की पहली Miss Asia Pacific

सेना में दिव्या का करियर

कैप्टन दिव्या अजित कुमार ने 2010 में सेना के वायु रक्षा कोर में नियुक्त किया गया था। गणतंत्र दिवस के मौके पर पहली बार अखिल भारतीय महिला कैप्टन के तौर पर दिव्या ने परेड में बाकी महिला कैडेट का नेतृत्व किया। जहां अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भी चीफ गेस्ट के तौर पर आए था। वो अब ऑफीसर ट्रेनिंग अकादमी में ही पोस्टेड हैं। 

तो ये थी दिव्या अजित कुमार की इंस्पायरिंग स्टोरी, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। आपको हमरा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ।

image credit- twitter 

 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।