• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

जानें सेना की डेयरडेविल्स मोटरसाइकिल डिस्प्ले टीम का नेतृत्व करने वाली पहली भारतीय महिला कैप्टन शिखा सुरभि की कहानी

26  जनवरी की परेड देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। ऐसे में जानें कैप्टन शिखा सुरभि की कहानी जिसने पहली बार परेड में बाइक स्टंट किया था।  
author-profile
Published -30 Jul 2022, 18:37 ISTUpdated -01 Aug 2022, 17:24 IST
Next
Article
Captain Shikha Surabhi story

हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर दूर-दूर से लोग परेड देखने के लिए आते हैं। इस परेड में अलग-अलग सेना के जबाज सिपाही और अफसर परेड में हिस्सा लेते हैं। साथ ही डेयरडेविल बाइक पर तमाम स्टंट दिखाए जाते हैं। हालांकि, लंबे समय तक स्टंट केवल पुरुषों द्वारा ही किए जाते थे, लेकिन 28 साल की कैप्टन शिखा सुरभि ने रॉयल एनफील्ड पर खड़े होकर इतिहास रच डाला। साल 2019 में हुई गणतंत्र दिवस की परेड में रॉयल एनफील्ड बुलेट पर खड़े होकर तिरंगे को सलामी दी। इसी के साथ शिखा यह स्टंट करने वाली पहली महिला बनीं। 

आज के इस लेख में हम आपको शिखा सुरभि की इंस्पायरिंग कहानी के बारे में बताएंगे, जानें उनकी कहानी।

कौन हैं सुरभि शिखा?

who is captain shikha surabhi

सुरभि शिखा इंडियन आर्मी में कैप्टन हैं। बता दें कि झारखंड की रहने वाली शिखा सुरभि पुरुष डेयरडेविल्स टीम में स्टंट करने वाली पहली महिला अफसर हैं। उन्होंने रॉयल एनफील्ड 350 सी सी पर स्टंट किया है। शिखा उस ग्रुप की पहली महिला थी, यही वजह थी परेड देखने के बाद उनकी खूब चर्चा हुई। इतने सालों में पहली बार यह मौका था, जब कोई महिला परेड का हिस्सा बनी थी।

बचपन से था खेल का शौक

शिखा को बचपन से ही खेलकूद , बॉक्सिंग और बास्केटबॉल का बहुत शौक था। इसी दिलचस्पी के कारण ही उन्होंने आर्मी में भर्ती होने का मन बनाया। शिखा ने स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद इंजिनियरिंग की पढ़ाई की। पढ़ाई पूरी करने बाद उन्होंने आर्मी में भर्ती हो गईं। 

इसे भी पढें- जानें भारत की पहली महिला मर्चेंट नेवी कैप्टन राधिका मेनन के बारे में

आर्मी परिवार से ताल्लुक रखती थीं शिखा की मां

first female to lead the army daredevils motorcycle display team

शिखा झारखंड के डुमराव की रहने वाली हैं। बचपन से ही शिखा सेना में जाने का सपना देखती थीं, साथ ही कॉलोनी की दूसरी लड़कियों को भी भारतीय सेना में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करती थीं। शिखा अपने सभी भाई-बहनों में सबसे बड़ी थीं। उनके पिता शैलेंद्र सिंह भारतीय जीवन बीमा निगम में एजेंट हैं और उनकी मां स्कूल में शिक्षिका हैं। बता दें शिखा को आर्मी में जाने की प्रेरणा उनके ननिहाल से मिली थी, क्योंकि उनके नाना के घर में सभी सेना पृष्ठभूमि से हैं।

इसे भी पढ़ें- अंटार्कटिका की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ने पहली विकलांग भारतीय महिला की कहानी जानिए

कैप्टन शिखा सुरभि का करियर 

कैप्टन शिखा सुरभि ने जयपुर इंजिनियरिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट से कंप्यूटर साइंज स्ट्रीम में बी.टेक की डिग्री पूरी की। शिखा ने यूनिवर्सिटी एंट्री स्कीम के जरिए भारतीय सेना में प्रवेश किया। साल 2013 में एक सेना अधिकारी बन गईं और अपनी क्षमताओं के चलते वो डेयरडेविल्स टीम का हिस्सा बन गईं।

 

तो ये थी शिखा सुरभि की इंस्पायरिंग कहानी, जिसके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ। 

Image Credit- twitter

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।