• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

तेलंगाना की पांडुगा अर्चना ने लगातार 7 घंटे तक गाया राष्ट्रगान, बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

भारत का राष्ट्रगान जन गण मन दुनिया भर में मशहूर है। यही वजह है कि यह गीत देश के लिए गौरव और सम्मान का विषय है।
author-profile
Published -19 Jul 2022, 17:51 ISTUpdated -19 Jul 2022, 18:07 IST
Next
Article
National Anthem World Record

 ‘जन गण मन’ दुनिया के सबसे सुरीले राष्ट्रगानों में से एक है। यही वजह है कि दुनिया भर में इस राष्ट्रगान के चर्चे होते हैं। देश भक्ति जाहिर करने के लिए अब तक इस राष्ट्रगान से जुड़े कई वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज किए जा चुके हैं।  हाल ही में ‘आजादी के अमृत महाउत्सव’ के तहत तेलंगाना की रहने वाली Panduga Archana ने ने राष्ट्रगान गाकर अपने नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज किया है। आज के इस लेख में जानते हैं कौन हैं Panduga Archana  और उन्होंने कब यह रिकॉर्ड अपने नाम किया। 

कौन हैं Panduga Archana ?

telangana women world record

Panduga Archana तेलंगाना के करीमनगर शहर की रहने वाली हैं। उनके पिता का नाम देवपाल और मां का नाम कृति कुमार है। Panduga Archana  ने एमएससी और एम.एड की पढ़ाई पूरी कर चुकी हैं और इस वक्त कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल के पद पर कार्यरत हैं। 

इसे भी पढ़ें- ये हैं दुनिया के सबसे अजीब वर्ल्ड रिकॉर्ड, जानकर होगी हैरानी

बचपन से था राष्ट्रगान गाने का शौक

telangana women national anthem world record

अर्चना बचपन से ही राष्ट्रगान गाया करती थीं। वो स्कूली दिनों में गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस जैसे खास मौकों पर बिना किसी असफलता के राष्ट्रगान गाती थीं। इसी शौक के साथ अर्चना ने 75 बार लगातार राष्ट्रगान गाते हुए वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है। जिसमें उन्होंने लगातार 7 घंटे तक जन-गन-मन गाया है।

इसे भी पढ़ें- नए संसद में हुआ अशोक स्तंभ का अनावरण, जानें क्या है देश के राजचिन्ह की ऐतिहासिक कहानी

जन-गन-मन का इतिहास

जन-गन-मन को मूल रूप से बंगाली में रचित है। जिसे कवि और नाटककार रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखा गया। राष्ट्रगान ‘ भारतो भाग्य बिधाता’  गीत का रूपांतरण है। बता दें कि  पूरे गीत में संस्कृत और बंगाली में 5 श्लोक हैं, जो भारतीय संस्कृति और स्वतंत्रता संग्राम के दौर को दर्शाते हैं। बता दें कि यह गीत पहली बार 1905 में तत्वबोधिनी पत्रिका में प्रकाशित किया था।

पहली बार कब गाया गया गीत?

इस गीत को पहली 27 दिसंबर 1911 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा आयोजित कलकत्ता सत्र के दूसरे दिन गाया गया, जिसे स्वयं रवींद्रनाथ टैगोर ने गाया था। भरतो भाग्य बीधाता गीत के पहले श्लोक को आधिकारिक तौर पर संविधान सभा द्वारा देश के राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया।

इस वर्ष आजादी के 75 साल पूरे हो जाएंगे। ऐसे में देश के लिए यह मौका बेहद खास है। अर्चना के इस वर्ल्ड रिकॉर्ड ने राष्ट्रगान को और भी खास बना दिया। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ।

Image Credit- dd national 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।