'जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का, फिर देखना फिजूल है कद आसमान का .....' यह पंक्तियां उन महिलाओं के व्‍यक्तित्‍व पर बिलकुल सटीक बैठती हैं, जिनके बुलंद हौसले उन्‍हें न तो कभी रुकने देते हैं और न ही कभी पीछे मुड़ कर देखने देते हैं।

भारत में ऐसी महिलाओं की कमी नहीं है। हमारे आस-पास ही कई ऐसी महिलाएं हैं, जो अपने हुनर के कारण अन्‍य लोगों के लिए मिसाल बन चुकी हैं। इन्‍हीं में से एक हैं शीतल देढिया। इस बार विमन डे के अवसर पर हम आपको शीतल की सक्सेस स्टोरी सुनाएंगे। 

शीतल कोई सेलिब्रिटी नहीं हैं, मगर देश के कई बड़े सेलिब्रिटीज उनकी कला के मुरीद हैं। शीतल पेशे से बेकर हैं और मुंबई में 'Sheetal’s Baked With Love' नाम से वह काफी फेमस हैं।

हैरान करने वाली बात तो यह है कि शीतल की अपनी न तो कोई बेकरी शॉप है और न ही कोई शोरूम। शीतल घर से ही अपने बेकरी के बिजनेस को बढ़ा रही हैं और कामयाबी की सीढि़यां चढ़ती जा रही हैं। 

 इसे जरूर पढ़ें: Women's Day Special: जानें फेमिना मिस इंडिया 2020 की रनर-अप मान्या सिंह के संघर्ष की कहानी

sheetal dedhia success story

सफर की शुरुआत 

मगर कहते हैं न, 'सफलता की डगर आसान नहीं होती है।' शीतल को भी इस मुकाम तक पहुंचने में कई अप्स एंड डाउन देखने पड़े हैं। खासतौर पर जब मुंबई की हाईफाई जिंदगी देखने के बाद वर्ष 2000 में दिपेन देढिया से शादी करने के बाद उन्‍हें मुंबई से 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित छोटे से कसबे कारजत में शिफ्ट होना पड़ा। 

फैशन डिजाइनर में डिग्री हासिल कर चुकीं शीतल के लिए कारजत में इस फील्‍ड में आगे बढ़ने के विकल्‍प कम ही थे। ऐसे में उन्‍होंने अपने पति के साथ उनके काम में मदद करने का विचार बनाया। शीतल और दिपेन ने गुलाब की खेती कर इसे विदेशों में बेचना शुरू किया और जल्‍द ही दोनों की कंपनी TESCO भारत की पहली ऐसी कंपनी बन गई, जिसके गुलाब लंदन और दुबई जैसे देशों तक पहुंच गए। 

मगर मन में अपना कुछ क्रिएटिव करने की कसक शीतल के मन में हमेशा ही रहती थी। जाहिर है, शीतल एक आर्टिस्‍ट हैं और एक आर्टिस्‍ट के दिल और दिमाग में खूबसूरत चीजों के प्रति लगाव और आकर्षण हमेशा बना रहता है और वह हमेशा ही कुछ क्रिएटिव करने की सोचते रहते हैं। शीतल भी मन ही मन कुछ ऐसा करने के बारे में सोचने लगी थीं, जिसमें वह अपनी क्रिएटिविटी के रंग बिखेर सकें और तब ही उन्‍हों ने कैंडल मेकिंग का काम शुरू किया। 

 इसे जरूर पढ़ें: Women's Day Special: 21 साल की आयु में आर्या राजेंद्रन बनीं भारत की सबसे कम उम्र की मेयर

inspirational women in india

शीतल की क्रिएटिविटी 

शीतल ने खाली वक्‍त में कैंडल मेकिंग का काम शुरू किया। पहले वह यह काम अपना दिल बहलाने के लिए करती रहीं और फिर उन्‍होंने अपने इस शौक को ही अपना पेशा भी बना लिया। शीतल ने 'Big Fat Cat' के नाम से एक छोटा सा कैंडल मेकिंग का काम शुरू किया। मगर बेटे के जन्‍म के साथ ही उन्‍हें अपने इस काम पर भी ब्रेक लगाना पड़ा। बच्‍चे की जरूरतें पूरी करने के लिए शीतल को वापिस मुंबई आने का मौका मिला। 

Recommended Video

मंबई आते ही शीतल की क्रिएटिविटी को दोबारा पंख लग गए और इस बार उन्‍होंने कुछ डिफ्रेंट करने की ठानी। जाहिर है, छोटे बच्‍चे की परवरिश की जिम्‍मेदारी और काम को एक साथ बैलेंस करना शीतल के लिए आसान नहीं था। इसलिए वर्ष 2016 में शीतल ने घर से ही बेकिंग का काम शुरू किया और ' Sheetal’s Baked With Love' के नाम से केक और कप केक का बिजनेस शुरू किया। इसे शीतल का हार्डवर्क ही कहा जाएगा कि उन्‍हें इस क्षेत्र में भी कामयाबी मिली और जल्‍दी ही मंबई में रहने वाली सेलिब्रिटीज के नाम भी शीतल की क्‍लाइंट लिस्‍ट में शामिल हो गए।

celebrities go to baker sheetal dedhia

शीतल की सक्‍सेस 

फुलों के प्रति शीतल का प्रेम उनके बेकिंग के बिजनेस में भी बिखरा हुआ नजर आता है। शीतल के पास 5 लोगों की टीम है और वह उनके साथ मिल कर एगलेस केक्‍स, ब्राउनीज और कप केक्‍स बनाती हैं। इनकी कीमत 500 रुपए से शुरू होकर 5000 रुपए तक है। आपको बता दें कि शीतल ने मात्र 50 हजार रुपए से अपने बेकिंग बिजनेस की शुरुआत की थी और अब शीतल को इस बिजनेस से एनुअल रेवेन्‍यू 30 से 40 लाख रुपए मिल जाता है। इतना ही नहीं, देश के सबसे बड़े बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की वाइफ नीता अंबानी भी शीतल की क्‍लाइंट हैं। नीता ही नहीं, बॉलीवुड एक्‍ट्रेस शिल्‍पा शेट्टी सहित और भी कई कलाकार शीतल के क्‍लाइंट बन चुके हैं। 

शीतल की यह सक्‍सेस स्‍टोरी आपको कैसी लगी हमें जरूर बताइएगा और साथ ही इसी तरह और भी इंस्पिरेशनल स्‍टोरीज  पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: sheetals_baked_with_love/Instagram