Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    गुजरात की वो रानी जिसकी वीरता ने मोहम्मद गोरी को भागने पर मजबूर कर दिया था

    आज हम बताने वाले है गुजरात की रानी नायकी देवी के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें, इस आर्टिकल को जरुर पढ़े।
    author-profile
    Updated at - 2022-10-21,16:29 IST
    Next
    Article
    Naiki Devi inspiration

    ज्यादातर भारतीय महारानी लक्ष्मीबाई की वीरता और साहस से तो परिचित हैं लेकिन बहुत कम से लोग है जो रानी नायकी देवी को जानते है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको गुजरात की वो रानी के बारे में बताने वाले है जिसकी वीरता ने मोहम्मद गोरी को भागने पर मजबूर कर दिया था।

    शादी के बाद हुई पति की मृत्यु

    वीरांगना रानी नायकी देवी कदम्ब शासक महामंडलेश्वर परमादी की बेटी थीं। बता दे कि वह रहने वाली गोवा की थीं और उनका विवाह  गुजरात के चालुक्य राजा अजय पाल से हुआ था। शादी के कुछ साल के बाद ही अजय पाल की मृत्यु हो गई।

    रानी नायकी देवी ही संभालती थी राज्य का कमान

    अजय पाल की मृत्यु होने के बाद राज्य की कमान उनके बेटे मूलराज द्वितीय को मिलीं। मगर बेटे की उम्र कम होने के कारण राज्य का सारा काम रानी नायकी देवी ही संभाला करती थी।

    मोहम्मद गोरी ने किया था हमला

    मोहम्मद गोरी ने पृथ्वीराज चौहान को तराइन के दूसरे युद्ध में हरा कर 1192 ईस्वी में दिल्ली सल्तनत की नींव रखी। बता दे कि दिल्ली में कब्जा करने से पहले उन्होंने भारत पर की बार आक्रमण किया था। ऐसा ही एक हमला उसने 1178 ईस्वी में गुजरात का अन्हिलवाड़ पाटन पर करने की कोशिश की।

    इसे जरूर पढ़ें: HZ Exclusive: मिलिए ब्रेस्ट कैंसर विनर अनुप्रिया सिंह से जिन्होंने कभी नहीं मानी हार

    अन्हिलवाड़ पाटन पर करना चाहती थी राज

    राजा अजय पाल को मौत के बाद मोहम्मद गोरी को लगा था कि अब अन्हिलवाड़ पाटन पर कब्जा करना बेहद आसाना होगा। क्योंकि, एक औरत और बच्चा उसका कुछ नहीं कर पाएंगे। इसी गलतफहमी को अपने दिमाग में डालकर उन्होने अन्हिलवाड़ पाटन पर हमला किया।राजा की बेटी नायकी देवी तलवारबाजी, घुड़सवारी जैसे अन्य सभी विषयों में अच्छी तरह से प्रशिक्षित थीं। उन्हें जैसे ही मोहम्मद गोरी के मंसूबों के बारे में पता चला वह फौरन तैयार हो गई।

    इसे जरूर पढ़ें: सुपर मॉडल से लेकर बाइकर और नेशनल लेवल की बॉक्सर हैं ये पुलिस ऑफिसर, जानें कैसे बनी इतनी मल्टीटैलेंटेड

    रानी नायकी देवी की सेना नहीं थी तैयार

    रानी नायकी देवी को मालूम था कि उनकी सेनी की तैयारियां काफी नहीं है। इसलिए उन्होंने दुश्मन को कमजोर करने का सोचा। इसके लिए उन्होंने गदरघट्टा को जंग का मैदान चुना। ये माउंट आबू की तलहटी पर स्थित एक उबड़-खाबड़ इलाका था।

    जंग का मैदान छोड़कर भागी थी गोरी 

    खास बात ये थी की रानी नायकी अपने बेटे मूलराज द्वितीय को भी साथ लेकर आईं थी। इस जंग में रानी और गोरी के बीच भयंकर युद्ध हुआ था। चालुक्य सेना ने जिस उबड़-खाबड़ इलाके को चुना, उसका उन्हें फायदा मिला। गोरी को बुरे तरीके से इस जंग में हार मिला और उसे जंग का मैदान छोड़कर भागना पड़ा। 

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Image Credit: Freepik

     

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।